Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

स्वच्छ भारत मिशन में जिला संदर्भ समूहों की भूमिका महत्वपूर्ण-नेहरा

बाड़मेर, 28 नवंबर। बाड़मेर जिले को ओडीएफ घोषित करवाने एवं ग्रामीण समुदाय को प्रेरित करने में जिला संदर्भ समूह महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं। ग्...

बाड़मेर, 28 नवंबर। बाड़मेर जिले को ओडीएफ घोषित करवाने एवं ग्रामीण समुदाय को प्रेरित करने में जिला संदर्भ समूह महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं। ग्राम पंचायत स्तर पर लोगों को संगठित एवं जागरूक करके खुले में शौच से मुक्त करने का प्रयास करें। जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम.एल.नेहरा ने सोमवार को जिला मुख्यालय पर जाट चेरिटेबल ट्रस्ट में स्वच्छ भारत मिशन के तहत जिला संदर्भ समूह के तीन दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण शिविर के शुभारंभ के अवसर पर यह बात कही।
प्रशिक्षण शिविर को संबोधित करते हुए मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम एल नेहरा
इस अवसर पर मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम.एल.नेहरा ने कहा कि बाड़मेर जिला तेजी से ओडीएफ घोषित होने की दिशा में अग्रसर है। उन्होंने कहा कि इस प्रशिक्षण में शामिल संभागी प्रशिक्षित होकर बाड़मेर जिले को खुले में शौच से मुक्त कराने के लिए समन्वित प्रयास करें। उन्होंने कहा कि समस्त जिला संदर्भ समूह आमजन को इस तरह से प्रेरित किया जाए कि अपने घर में शौचालय निर्माण करवाने के साथ उसका उपयोग करें। उन्होंने कहा कि सीएलटीएस विधि के जरिए आमजन के व्यवहार में परिवर्तन लाने का प्रयास करें, ताकि इस अभियान में अधिकाधिक लोगों की भागीदारी के साथ संबंधित ग्राम पंचायत खुले में शौच से मुक्त हो सके। इस अवसर पर स्वच्छ भारत मिशन के जिला परियोजना समन्वयक पुष्पेन्द्रसिंह सोढ़ा ने कहा कि राज्य सरकार के लक्ष्य के अनुरूप बाड़मेर जिले को मार्च 2018 तक खुले में शौच से मुक्त कराना है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत प्रत्येक घर में शौचालय निर्माण के कार्य को चुनौती के रूप में लेना होगा। इसके लिए ग्राम पंचायत स्तर पर जन प्रतिनिधियों, अधिकारियों, कर्मचारियों एवं गणमान्य नागरिकों का सहयोग लिया जाए। उन्होंने जिले में स्वच्छ भारत मिशन के तहत चल रही गतिविधियों की जानकारी दी। इस दौरान डब्ल्यूएसपी टीम के चेतन अत्रे ने प्रशिक्षक के रूप में सेवाएं देते हुए स्वच्छ भारत मिशन एवं आमजन की भागीदारी सुनिश्चित करने की कार्य योजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जिला संदर्भ समूहों के माध्यम से खुले में शौच जाने की आदत से मुक्त कराने के साथ ग्रामीणों के व्यवहार परिवर्तन की दिशा कार्य किया जाएगा। इसके लिए गांव-गांव एवं ढाणी-ढाणी में पहुंचने के साथ निगरानी दलों का गठन भी किया जाएगा।
शिविर में भाग लेते शिविरकर्मी 
इस दौरान डब्ल्यूएसपी के सलाहकार रमेश अग्रवाल ने समुदाय संचालित विधि के जरिए खुले में शौच से मुक्ति पर प्रकाश डालते हुए विस्तार से संभागियों को स्वच्छ भारत मिशन के विविध पहलूओं से अवगत कराया। जल एवं स्वच्छता कार्यक्रम सलाहकार चेतन अत्रे ने स्वच्छता की उपयोगिता एवं आवश्यकता के बारे में जानकारी दी। डब्ल्यूएसपी के सलाहकार ऋषि कुमार ने स्वच्छता के इतिहास एवं प्रगति पर प्रकाश डाला। प्रशिक्षण में ब्लाक समन्वयक गोविन्द्रसिंह, दीपसिंह, कपिल दवे, एमआईएस मैनेजर घमंडाराम, प्रहलाद कुमार ने सेवाएं दी।

कोई टिप्पणी नहीं