Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

कटु वचन बोलकर बालक को सुधारने वाली सबसे बड़ी गुरु ही मां है-आचार्य पुरुषोत्तमदास

रिपोर्टर @ ओमप्रकाश मूंढ बाड़मेर/बायतु/बाटाडू। क्षेत्र के ग्राम पंचायत उंडू के मुढणो की ढाणी प्रांगण में गोविन्दराम शास्त्री के खेड़ापा धा...


रिपोर्टर @ ओमप्रकाश मूंढ
बाड़मेर/बायतु/बाटाडू। क्षेत्र के ग्राम पंचायत उंडू के मुढणो की ढाणी प्रांगण में गोविन्दराम शास्त्री के खेड़ापा धाम के उत्तराधिकारी बनने के बाद उंडू पधारने पर भव्य स्वागत व एक दिवसीय प्रवचन कार्यक्रम आयोजित किया गया।

इस दौरान रामस्नेही संप्रदाय के रामधाम खेड़ापा के आचार्य पुरुषोत्तमदास का स्वागत किया गया। स्वागत में जगह-जगह महिलाओं ने कलश यात्रा के साथ स्वागत किया।सत्संग के माध्यम से मन का मैल धोया जा सकता है। जब मन का मैल बढ़ जाता है तो संसार में दुख ही दुख आते हैं। भागवत के माध्यम से सत्संग से मन का मैल उतारा जा सकता है। यह विचार रामधाम खेड़ापा के आचार्य पुरुषोत्तमदास ने व्यक्त किए। वे सोमवार को उंडू में मुंढणो की ढाणी में प्रवचन कर रहे थे। उन्होंने आधुनिक शिक्षा पर प्रहार करते हुए वर्तमान शिक्षा प्रणाली में गुरु की महत्ता की स्थिति का वर्णन किया। उन्होंने कहा मां ही सबसे बड़ी गुरु है, जो अपने बालक को कटु वचन कह कर भी सुधारती है। उन्होंने अपने प्रवचन में श्रद्धालुओं से कहा की गौ माता के लिए जितना आप कर सकें, उतना कम है।
संसार में गौ माता की की मान्यता सबसे बड़ी है।इस दौरान संत गोविंदराम शास्त्री ने कहा कि भगवान का भजन ही भागवत कथा का सार है।उन्होंने कहा कि कन्या भ्रूण हत्या के चलते बेटियों का लिंगानुपात अगर ऐसे ही गिरता रहा तो भविष्य में समाज को इसके दुष्परिणाम भुगतने पड़ेंगे। बेटी नहीं बचेगी तो देश भी नहीं बच पाएगा। हमें बेटियों को भी बेटों के समान दर्जा देना होगा तथा कन्या भ्रूण हत्या की रोकथाम के लिए सभी को मिलकर प्रयास करने होंगे।प्रवचन के प्रारंभ में प्रभु की आरती उतारी गई। संगीतमय ईश वंदना के साथ श्रद्धालु झूम उठे।
इस मौके किसान मोर्चा प्रदेशाध्यक्ष कैलाश चौधरी, डॉक्टर रमन चौधरी, बायतू युवा मोर्चा अध्यक्ष जोगाराम मूढ़, माधुसिंह गोरा, खेमराज कड़वासरा, मूलाराम बैरड़, खेराजराम हुड्डा,आसुराम बैरड़, प्रवीण सऊ, उगराराम मूढण, गणेश मूढण, रामपाल, जेठाराम मूढ़, जयराम मूढ़, मोहन मूढ़, कैलाश बेनीवाल, अशोक गोदारा, सुनील प्रजापत, रामनिवास मूढण सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

नशा मुक्ति का संकल्प
कार्यक्रम के दौरान युवाओं व महिलाओं सहित कई लोगों ने नशा मुक्ति का संकल्प लिया। इस दौरान आचार्य ने नशा से दूर रहने की सलाह दी।

कोई टिप्पणी नहीं