Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

भूमाफियों एवं उनके जानलेवा हमलों से तंग आकर जिला पुलिस अधीक्षक को सौपा ज्ञापन

रिपोर्टर @ इंद्र बारूपाल -पचपदरा पुलिस भूमाफियों को दे रही पनाह, नहीं कर रहीं कार्यवाही बाड़मेर। पचपदरा तहसील के रेवाड़ा गांव में खातेदारी क...

रिपोर्टर @ इंद्र बारूपाल
-पचपदरा पुलिस भूमाफियों को दे रही पनाह, नहीं कर रहीं कार्यवाही
बाड़मेर। पचपदरा तहसील के रेवाड़ा गांव में खातेदारी की जमीन में घूसकर कब्जा, चोरी व मारपीट मारपीट करने के आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग को लेकर एवं आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही करने को लेकर पुलिस अधीक्षक बाड़मेर को शुक्रवार को ज्ञापन सौंपा गया।

प्रार्थी हनुमानराम पुत्र लक्षमणराम सुथार निवासी रेवाड़ा ने सौपे ज्ञापन में बताया कि मेरी खातेदारी एवं कब्जा काश्त की कृषि भूमि खसरा नम्बर 49, 56 कुल रकबा 79 बीधा 5 बिस्वा आई हुई है। उक्त भूमि का सीमाज्ञान तहसीलदार पचपदरा से आदेश लेकर दिनांक 04.04.2116 को करवाया गया था। मौके पर खेत की सीमा में मेरे द्वारा पत्थर गाढे गये थे। कुछ दिनों बाद मेरे पड़ोसी भगाराम, गुमनाराम, हरीराम, मोहनराम, कालूराम, रामलाल, पुखराज, किशनाराम, जसराज, गणपतराम, किस्तुराराम सुथार निवासी रेवाड़ा नयापुरा एकजुट होकर अतिक्रमण करने की नियत से मेरे खेत में अवैध तरीके से घुसकर गढे पत्थरों को चुराकर ले जाने लगे एवं उक्त भूमि पर कब्जा करने लगे। जब मेने व मेरे परिवार के सदस्यों ने इसका विरोध किया तो वे नहीं माने एवं पत्थर चुराकर चले गये।
प्रार्थी द्वारा उक्त घटना की रिपोर्ट 21.04.2016 को पुलिस थाना पचपदरा में दी जिस पर वहां के थानाधिकारी आरोपियों से सांठगाठ कर उनके विरुद्व कोई कार्यवाही नहीं की गई, जिससें आरोपियों के हौसले बुलद हो गये और आरोपी लाठी, तलवारे एवं बन्दुकें लेकर हम पर हमला करने आये व जान से मारने की धमकी दी। इस हमले की हमने पुलिस थाना पचपदरा में लिखित में शिकायत की परन्तु पुलिस द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई। इस पर प्रार्थी ने उपखण्ड मजिस्टेट बालोतरा में परिवाद पेश किया जिस पर भी पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की व हमें पुलिस द्वारा डरा धमकाकर थाने से भगा देती है।
उक्त आरोपियों द्वारा पिछले सात माह में छः बार जानलेवा हमला, पथराव, मारपीट करने की घटना को अंजाम दे रहे है लेकिन पुलिस फिर भी कोई कार्यवाही नहीं कर आरोपियों को शह दे रही है।
इसी के चलते मजबूरन प्रार्थी द्वारा पुलिस अधीक्षक बाड़मेर के समक्ष पेश होकर उक्त आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने की मांग की।

कोई टिप्पणी नहीं