Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

हत्या का पर्दाफाश,पत्नी व सास ने साथी के साथ रची हत्या की साजिश,तीन गिरफ्तार

बाड़मेर। जिले में गत 8 नवम्बर को पचपदरा थाना क्षेत्र के सरहद मंडापुरा साजियाली फांटा के पास एक अज्ञात व्यक्ति की हत्या अज्ञात बदमाशान द्वारा ...

बाड़मेर। जिले में गत 8 नवम्बर को पचपदरा थाना क्षेत्र के सरहद मंडापुरा साजियाली फांटा के पास एक अज्ञात व्यक्ति की हत्या अज्ञात बदमाशान द्वारा करने की गुत्थी को मात्र 5 दिन में सुलझा कर दो महिलाओं सहित तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया।

8 नवम्बर को पुलिस थाना पचपदरा पर प्रातः 9 बजे सूचना मिली कि सरहद मण्डापुरा साजियाली फांटा के पास बबूल की झाड़ियों में एक व्यक्ति की लाश पड़ी है। जिस पर पचपदरा थाने से पुलिस मौके पर पहुंची तो साजियाली जाने वाली सड़क से थोड़ी दूरी पर करीब 25 वर्षीय एक युवक की लाश मिली जिसके लाल रंग की कमीज तथा भूरे रंग पेन्ट पहनी हुई थी और गले में एक चादर का फंदा बांध रखा था। चादर के नीचे पतली डोरी कस कर बंधी हुई थी जो कि जूते या जैकेट की लैश जैसी प्रतीत हो रही थी। लाश के पास एक व्यक्ति के आने-जाने के पदचिन्ह थे तथा एक मोटरसाईकिल के आने-जाने के टायरों के निशान भी पड़े है। प्रथम दृष्टया देखने से अज्ञात व्यक्ति की हत्या किसी अज्ञात अपराधियों द्वारा करना पाया गया।
जिला पुलिस अधीक्षक डाॅ. गगनदीप सिंगला ने बताया कि पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती थी जिसमें अज्ञात व्यक्ति की अज्ञात बदमाशान द्वारा हत्या की गई थी। पुलिस ने इसे चुनौती के रूप में लिया। पुलिस के सामने अज्ञात लाश की पहचान करना पहली तथा गम्भीर चुनौती थी फिर अपराधी तक पहुचना था। इस दुभर  कार्य हेतु कैलाशदान रतनू अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बालोतरा के पर्यवेक्षण में देवीचन्द ढाका थानाधिकारी नागाणा व स्पेशल टीम पुलिस अधीक्षक कार्यालय से भूपेन्द्रसिंह तथा ओमप्रकाश एव चन्द्रसिंह थानाधिकारी कल्याणपुर की दो टीमों का गठन कर अन्वेशण करवाया गया। देवीचन्द ढाका तथा पुलिस अधीक्षक कार्यालय की स्पेशल टीम द्वारा आधुनिक तकनीक का उपयोग किया गया। प्रिन्ट मीडिया में अज्ञात मृतक की फोटो छपवाई गई तथा सोशल मीडिया वाट्सएप्प पर शेयर की गई। इसी दौरान वाट्सएप्प ग्रुप से शेयर की गई मृतक की फोटो के माध्यम से उसकी पहचान गोमाराम पुत्र गुमनाराम जाति जाट निवासी कोठाला पुलिस थाना धोरीमन्ना के रूप में हो गई। प्रथम चुनौती को कर पाने पर मृतक के बारे में जानकारी से पता चला की मृतक के किसी से कोई दुशमनी नही थी जिससे मामला और पेचीदा हो गया तब टीम की शक की सुई मृतक की गतिविधियों पर गई जिससे पता चला कि मृतक को पिछले 6 माह घर आये हो गये तथा पिछले 6 माह से घर या ससुराल में बात भी नही की।
इसी दौरान टीमों द्वारा जानकारी जुटाने पर यह सामने आया कि बाटाडू की तरफ का एक लड़का मृतक के साथ आता जाता रहता था तथा दो माह पहले एक बार मृतक के ससुराल लूखू पुलिस थाना धोरीमन्ना में मृतक के ससुर श्रवण पुत्र पोकराराम जाट के घर भी आया था। सूत्रों तथा आधुनिक तकनीक के सहयोग एवम् अन्य पूछताछ से मृतक से सम्पर्क में रहने वाले बाटाडू निवासी शख्स की पहचान गंगाराम पुत्र केसराराम जाति सउ जाट उम्र 21 वर्ष निवासी दुर्गाणियों का तला, लुंनाड़ा पुलिस थाना गिड़ा के रूप में हुई।
जिला पुलिस अधीक्षक डाॅ. गगनदीप सिंगला के निकटतम निर्देशन में गोपनीय जानकारी जुटाकर गंगाराम को जोधपुर से धर दबोचा तथा गहनता से पूछताछ हुई तो सच सामने आ गया। गंगाराम ने बताया कि उसकी पत्नी का निधन टांके में गिरने से तीन साल पहले हो गया। इधर मृतक गोमाराम ने अपनी सिम सौ रूपये में गंगाराम के भाई चुनाराम को बेच दी जो गंगाराम उपयोग में लेने लगा। मृतक की पत्नी वीरों पुत्री श्रवण उम्र 20 वर्ष ने अपने पति से बात करने के लिए फोन लगाया तो उस पर गंगाराम ने जवाब दिया जिस पर मृतक की सास जीयों पत्नि श्रवण उम्र 48 वर्ष ने बातचीत की तथा मृतक के बारे में समाचार पूछे। फिर जब भी मृतक से बात करनी होती तो मृतक की पत्नी व सास इसी फोन पर बात करती तथा गंगाराम जवाब देता। धीरे-धीरे गंगाराम की पत्नी वीरों तथा गंगाराम के बीच नजदीकियां बढने लगी। इसी बीच मजदूरों को भुगतान करने का बहाना बनाकर गंगाराम सितम्बर 2016 में मृतक के ससुराल लूखू पुलिस थाना धोरीमन्ना पहुच गया। वहीं पर मृतक की सास जीयों एवम् पत्नी वीरों गंगाराम से मिली तब मृतक की सास जीयों व पत्नी वीरों ने गंगाराम से गोमाराम द्वारा तलाक करवाने हेतु कहा या गोमाराम को ठिकाने लगा दे तो अपनी पुत्री वीरों का नाता गंगाराम के साथ कर देने का वादा किया। अब गंगाराम को गोमाराम फूटी आंख नहीं सुहाता तथा गोमाराम को ठिकाने लगाने की उधेड़ बुन के रहता। इसी दौरान दिनांक 07.11.2016 की शाम को अचानक गोमाराम शराब के नशे में धुत मिल गया। जिस मौके को भुनाने के लिए तथा अपनी शादी के रास्ते का रोड़ा हटाने का मानस बना गंगाराम सांय 8 बजे के आस-पास अपनी मोटरसाईकिल पर गोमाराम को बिठाकर गांव चलने का कहकर बालोतरा रोड़ पर रवाना हुआ। बीच रास्ते में गांव भाडू से फिर शराब खरीदी तथा कैलाश होटल कल्याणपुर में खाना खाया। तब भी गंगाराम को लगा कि गोमाराम ने अब भी शराब कम पी है तो पचपदरा में जोधपुर रोड़ पर फिर ओर शराब पिलाई तथा पचपदरा से बाड़मेर रोड़ पर चल दिये। साजियाली फांटा के पास मृतक गोमाराम शराब के नशे में मोटरसाईकिल के पीछे लहराने लगा जिसपर गंगाराम ने मौके का फायदा उठाकर साजियाली रोड़ के पास बबूलों के बीच ले गया तथा गंगाराम को गला कि अब भी नशा कम है तो वहां मृतक गोमाराम को फिर शराब पिलाई। अब मृतक गोमाराम नशे की हालत में पूरी तरह बेसुध हो गया तो गंगाराम ने गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। जिन्दा रहने की हर सम्भावना खत्म करने के लिए गंगाराम ने अपने जैकेट की लैश से गला बाध कर शाॅल से गला तथा दाहिना हाथ बांध दिया। गंगाराम ने पूछताछ में बताया कि उसने मृतक की सास जीयों तथा पत्नी वीरों के साथ मिलकर षडयंत्र कर उसकी हत्या की है जिसपरजीयों तथा वीरों से पूछताछ की तो जीयों ने बताया कि उसकी पुत्री वीरों की शादी गंगाराम से करने का लालच देकर दामाद गोमाराम की हत्या करने के लिए उसने गंगाराम को उकसाया था। वीरों ने बताया कि वह बालविवाह का शिकार होकर बे-मेल शादी से परेशान थी तथा उसका पति शराबी तथा उम्र में दस साल बड़ा होने से वह गोमाराम से तलाक चाहती थी जिसपर गोमाराम राजी नही हो रहा था तो उसने अपनी मां के साथ मिलकर गंगाराम द्वारा गोमाराम को ठिकाने लगवाने की योजना बनाई और तथ्यों के बारे में अनुसंधान जयकिशन सोनी थानाधिकारी पचपदरा द्वारा किया जा रहा है। घटना में प्रयुक्त मोटरसाईकिल को बरामद करने के प्रयास किये जा रहे है।

कोई टिप्पणी नहीं