Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

पेंशनर्स जीवित प्रमाण पत्र 15 जनवरी तक प्रस्तुत कर सकेंगे 

बाडमेर, 1 दिसम्बर। मुख्यमंत्री की वर्ष 2015-16 की बजट घोषणा के अनुसार राज्य सरकार के पेंशनर्स के लिए डिजिटल लाईफ सर्टिफिकेट की सुविधा एक...

बाडमेर, 1 दिसम्बर। मुख्यमंत्री की वर्ष 2015-16 की बजट घोषणा के अनुसार राज्य सरकार के पेंशनर्स के लिए डिजिटल लाईफ सर्टिफिकेट की सुविधा एक नवम्बर, 2015 से लागू की गई है। 
कोषाधिकारी जसराज चौहान ने बताया कि पेन्शनर्स अपने पेंशन वितरण एजेन्सी या बैंक में उपस्थित हुए बिना आधार बायोमैट्रिक का उपयोग कर जीवन प्रमाण पोर्टल www. jeevanpranmann.gov.in के माध्यम से डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र प्रस्तुत कर सकते है। अगर पेंशनर्स के पास आधार नम्बर है तो अपने पेंशन खाते से आधार संख्या को जोडकर स्वयं को जीवन प्रमाण पत्र के साथ पंजीकृत कर सकते है। इसी प्रकार पेंशनर्स के घर पर बायोमैट्रिक फिंगरप्रिन्ट या आयरिस स्कैनिंग यन्त्र है तो पेंशनर्स अपने घर से ही डिजीटल जीवन प्रमाण पत्र जमा कर सकते है। कॉमन सर्विस सेन्टर, ई मित्र कियोस्क अथवा इन्टरनेट आधारित पर्सनल कम्प्यूटर पर डिजीटल जीवन प्रमाण पत्र बनाने हेतु पीपीओ, एफपीपीओ, आधार कार्ड, बैंक पास बुक आदि का विवरण साथ लेकर जाना होगा। उन्होने बताया कि डिजीटल जीवन प्रमाण पत्र एक अतिरिक्त सुविधा एवं ऐच्छिक है। पेंशनर पूर्वानुसार भी अपना जीवन प्रमाण पत्र बैंक में स्वयं उपस्थित होकर प्रस्तुत कर सकते है।
उन्होने बताया कि निदेशालय पेंशन एवं पेन्शनर्स कल्याण विभाग जयपुर के आदेशानुसार राज्य के सिविल पेंशनर्स की पेंशन भुगतान के लिए जीवित प्रमाण पत्र नवम्बर में प्रस्तुत करने की वर्तमान व्यवस्था में इस वर्ष यह तिथि 15 जनवरी, 2017 तक बढा दी गई है। पेंशनर्स अपने जीवित प्रमाण पत्र 15 जनवरी, 2017 तक डिजीटल अथवा व्यक्तिगत रूप से संबंधित बैंक शाखाओं में प्रस्तुत कर सकते है।

कोई टिप्पणी नहीं