Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

फर्जी भर्ती करवाने वाला ठग पुलिस के हत्थे चढा,आरएएस अधिकारी बनकर करता था ठगी

-अपने निजी वाहन पर लालबती लगाकर करता था ठगी -राज्य के कई जिले में ठगी की वारदतों को दिया अंजाम -सामाजिक व्यक्तित्व को देखते हुए नहीं...

-अपने निजी वाहन पर लालबती लगाकर करता था ठगी
-राज्य के कई जिले में ठगी की वारदतों को दिया अंजाम
-सामाजिक व्यक्तित्व को देखते हुए नहीं होते में मामले दर्ज
जैसलमेर। जिले में गत 27 नवंबर को सांकड़ा पंचायत समिति प्रधान सुश्री अमतुल्लाह मेहर द्वारा अवगत करवाया गया कि टेलिफोन द्वारा उन्हे एक इकबाल नामक व्यक्ति जो स्वयं को आएएस अधिकारी होना व जयपुर से होना बता रहा है। स्वयं को पीएचईडी मंत्री का निजी सचिव बताते हुए 16 मुस्लिम अभ्यार्थियों के नाम सीधी भर्ती हेतु भेजने के साथ-साथ सैकेन्ड्री पास होने का प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, फोटो आदि दस्तावेज तथा प्रति अभ्यार्थी 4200/- के हिसाब से 16 अभ्यार्थियों का पैमेंट इन अभ्यार्थियों की सीधी भर्ती के लिए बीकानेर भिजवाने का बताया गया तथा यह बात किसी को नहीं बताते हुए इन्हे नियुक्ति दिलवाने के आश्वासन देते हुए, अपना अन्य वैकल्पिक सम्पर्क दिये। उक्त सूचना पर फोन करने वाले व्यक्ति की पहचान स्थापित कर पकड़ने व इसके द्वारा मांगी गई रकम व वांछित दस्तावेजों को प्राप्त करने वाले व्यक्तियों को पकड़ने के लिए अलग-अलग टीमें तैयार की गई। टीमों द्वारा सम्पर्क करने वाले व्यक्ति का लोकेशन ज्ञात करने के साथ-साथ उसके द्वारा मांगे गये दस्तावेज व रकम को लेकर एक अभ्यार्थी के साथ पुलिस टीम रवाना की गई। उक्त फोन करने वाले व्यक्ति द्वारा अपनी गलत पहचान देकर दस्तावेजों की डिलीवरी पुलिस थाना जयनारायण व्यास काॅलोनी बीकानेर करवाई गई तथा रकम के रूम में तैयार किये गये लिफाफे की डिलेवरी जिला परिवहन विभाग फलोदी के उडनदस्ते वाहन के प्रभारी भवरलाल चौधरी निरीक्षक को करवाई गई। जिस पर पुलिस टीम द्वारा दस्तावेज प्राप्त करने वाले तथा डमी भुगतान लिफाफे को प्राप्त करने वाले व्यक्ति को तलब कर गहन अनुसंधान किया गया तो सम्पूर्ण फर्जी तरीके से बेरोजगार लोगों को भर्ती का झासा देकर उनसे रूपये ऐठने का मामला होना पाया गया जिस पर पुलिस थाना पोकरण में ठगी का प्रकरण दर्ज कर अनुसंधान प्रारम्भ कियीा गया।


टीम का गठन, ठग की गिरफ्तारी
दौरान अनुसंधान मामले को गम्भीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक जिला जैसलमेर गौरव यादव के आदेशानुसार भवानीशंकर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जैसलमेर निर्देशन में नानकसिंह उप अधीक्षक पुलिस पोकरण के नेतृत्व में विशेष टीम प्रमोद पाण्डे, थानाधिकारी पुलिस थाना पोकरण, अमरसिंह उनि थानाधिकारी पुलिस थाना रामदेवरा, पदमाराम उनि, खुशालचंद सउनि, कानि. नारायणसिंह, सवाईसिंह, मोहन पालीवाल, जगदीशदान, दिनेश चारण एवं मुकेश बीरा की गठित कर फर्जी आरएएस अधिकारी बनकर फोन करने वाले व्यक्ति इकबाल की पहचान नरेश कुमार उर्फ नरेन्द्रपालसिंह पुत्र नेमीचंद निवासी बामणु, फलोदी जिला जोधपुर के रूप में हुई तथा पहचान के बाद टीमों द्वारा लगातार कडी मेहनत करते हुए ठग नरेश कुमार उर्फ नरेन्द्रपालसिंह उर्फ इकबाल पुत्र नेमीचंद निवासी बामणु, फलोदी जिला जोधपुर को गंगानगर के सूरतगढ से दस्तयाब किया गया। जिसके द्वारा अपने साथियों के सहयोग से पूर्व में भी राज्य के विभिन्न कि जिलों में इसी प्रकार से वारदाते को अंजाम दिया गया। जिन में से अधिकांश मामलों में पीड़ित व्यक्तियों द्वारा सामाजिम प्रतिष्ठा धूमिल होने के डर से आपराधिक प्रकरण ही दर्ज नहीं करवाया गया। जानकारी के अनुसार उक्त व्यक्ति द्वारा अपने भिन्न-भिन्न नामों एवं पदनामों से ऐसी वारदाते की गई है।


यह था तरिका वारदात का 
उक्त सख्स ने अपने को उच्चाधिकारी बताकर कई लोगों को नौकरी लगाने का झासा देकर ठगता था। दौराने अनुसंधान यह भी मालूम पड़ा है कि उक्त व्यक्ति ठगी करने के उदेश्य से अपनी निजी गाड़ी पर लालबती लगाता था तथा लोगो के साथ ठगी करता था।


पुछताछ में उगले कई राज 
पुलिस टीम की लगातार गहन पुछताछ में ठग द्वारा ठगी के कई राज उगले जिसमें उसने बताया कि वह यह काम लगभग 11-12 सालों से कर रहा है। उसने 11 साल पहले शेरगढ क्षेत्र के व्यक्ति के साथ प्लाॅट एलाॅटमेंट, जनवरी 16 में थानाधिकारी पुलिस थाना सुरतगढ सदर को प्लाॅट कब्जा खाली करवाने की धमकी देने, 3 माह पहले थाना छतरगढ बीकानेर क्षेत्र के पीएचईडी में हेल्पर की भर्ती करवाने के नाम की ठगी के प्रकरण को अंजाम देना प्रकाश में आये है। इसके पुलिस थाना फलोदी,सुरतगढ, शेरगढ एवं उदयमंदिर जोधपुर में अपराधिक प्रकरणों मे प्रकरणों में लिप्त रहा है। पुछताछ के आधार पर आज दिन तक उसने लगभग 200 व्यक्तियों को अपनी ठगी का शिकार बनाया है। इसके अलावा उसके द्वारा विभिन्न विभागों में स्थानांतरण करने हेतु भी पैसे लेने का काम करता था। अनुसंधान उपरांत उक्त नरेश कुमार उर्फ नरेन्द्रपालसिंह उर्फ इकबाल तथा दोशी परिवहन निरीक्षक भंवरलाल चौधरी पुत्र मंगलाराम निवासी सिलारी जोधपुर को गिरफतार किया गया।


जैसलमेर पुलिस कप्तान की लोगों से अपील
पुलिस अधीक्षक जिला जैसलमेर द्वारा नागरिकों से अपील की हैं कि आज के परिवेश में आये दिन इस प्रकार की घटनाऐं सामने आती है तथा उसके ग्रास आम बेरोजगार व्यक्ति बनते है। मेरी तरफ से समस्त नागरिकों से अपील है कि आप किसी भी व्यक्ति के बहकावे में ना आवे तथा इस प्रकार का कोई अंजान व्यक्ति या काॅल आपके पास आता है तो उसकी सुचना तुरंत पुलिस को देवें।

कोई टिप्पणी नहीं