Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

धोरीमन्ना। फसल की बुवाई पर नोटबंदी का असर,नहीं मिल रहा खाद बीज,किसान परेशान 

रिपोर्टर @ दीपक सेवदा  बाड़मेर/धोरीमन्ना ।  केन्द्र सरकार द्वारा 500 और 1000 रूपए के नोट बंद करने का असर रबी फसल की बुवाई पर पड़ रहा ह...

रिपोर्टर @ दीपक सेवदा 

बाड़मेर/धोरीमन्ना।  केन्द्र सरकार द्वारा 500 और 1000 रूपए के नोट बंद करने का असर रबी फसल की बुवाई पर पड़ रहा है। कस्बे की सभी बैंको में पिछले बीस दिनों से 2000 व 500 के नए नोट तथा 50 व 100 के पुराने नोटों का पूर्णतया अभाव नजर आ रहा है जिससे कि किसानों के नोट बदले नहीं जा रहे है, वहीं पुराने नोटों के बदले किसानों को खाद बीज आदि नहीं मिल रहे है। साथ ही काॅ - ऑपरेटिव बैंक तो बंद हुए पुराने नोट बदल भी नहीं रहे है। ऐसे में ग्राम सेवा सहकारी समितियां भी किसानों की कोई मदद नहीं कर पा रही है।
जिन किसानों ने नोटबंदी से पहले अपना ऋण चुका दिया था। वे किसान और भी धर्म संकट में फंस गए है, कारण कि जो रकम उनके पास थी वो भी पुराने ऋण चुकाने में खपा दी तथा अब रबी फसल के लिए नया ऋण मिल नहीं रहा है। हालांकि राज्य सरकार ने किसानों को ऋण खाते पेटे खाद बीज देने की घोषणा तो की है, लेकिन अलबत्ता तो सहकारी समितियों के पास खाद ही नहीं है। तथा अगर खाद मिल भी जाए तो बाजार से उत्तम किस्म के बीज नहीं मिलने एवं जुताई - बुवाई हेतु ट्रेक्टर के लिए रूपए नहीं होने से किसान रबी की फसल समय पर नहीं बो पा रहे है। अब अगर 10 -15 दिन तक यही हाल रहे तो इस बार रबी फसल की बुवाई का समय खत्म हो जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं