Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

12 सालों से भूखण्ड व पट्टे के लिए ठोकरे खा रहा हैं बीपीएल परीवार

@ प्रवीण राजपुरोहित  12 साल से नही मिली पंचायत को गायब पट्टा बुक सिरोही/दांतराई। कस्बे का एक गरीब परीवार पिछले 12 साल से लगातार जम...

@ प्रवीण राजपुरोहित 

12 साल से नही मिली पंचायत को गायब पट्टा बुक
सिरोही/दांतराई। कस्बे का एक गरीब परीवार पिछले 12 साल से लगातार जमीन के पट्टे लेने के लिए दर दर भटक रहा हैं। सरकार से जमीन मिलने की आस लिए रूपाराम वनाजी राव ओर उसका परीवार आज भी चक्कर लगा रहा है। सन् 2004 में दांतराई गाँव में आयोजित सरकार के आदेश के अनुसार प्रशासन गाँवो के संग अभियान में सभी अधिकारियों की मौजूदगी में इस परिवार को जमीन आवंटित करने के संबंध में निर्देश दे चुका है लेकिन सरकारी अफसरों के ढीले रवैये की वजह से उन्हें अब तक जमीन नहीं मिली।
रूपाराम वनाजी राव जो की गरीब एवं बीपीएल परिवार का सदस्य हे न तो उनके पास रहने को प्लाट हे न ही कोई मकान ओर इसके साथ वह गरीब परीवार आज अपने बच्चों के साथ किराए के मकान पर निवास कर रहा हे! ग्राम पंचायत द्वारा जारी बीपीएल क्रमांक संख्या 2476 हे! सरकारी की योजना के तहत सन 2004 में प्रशासन गाँवो के संग अभियान में सभी अधिकारियों की मोजूदगी में  प्लाट आंवटित कर पट्टा संख्या 21 बुक न: 4 दिनांक 15-12-2004 को होना सुनाया गया ओर भुखण्ड पट्टा बनाने पर  इन्दिरा आवास योजना के तहत राशि भी स्वीकृत की गई  उसके बाद भी उनको ग्राम पंचायत द्वारा आज दिन तक नही दिया गया हे जिसके कारण स्वीकृत राशी से भी वंचित रहना पड रहा हे! इसको लेकर कई बार ग्राम पंचायत के दरवाजे खटखटाए लेकिन कोई जवाब नही मिला न ही जिला कलेक्टर व अन्य अधिकारियों को लिखित मे देने के बाद भी कोई हक नही मिला हे! कई बार जिला कलेक्टर ने भूखण्ड व पट्टा देने हेतु ग्राम पंचायत को आदेश भी दिए लेकिन ग्राम पंचायत द्वारा जिला कलेक्टर के आदेश को भी अनदेखा किया गया।

पुर्व सरपंच ने धोखे में रखकर ले लिये पट्टे

प्रशासन गाँवो के संग अभियान में पंचायतिराज अधिनियम 158 के तहत रियायती दर पर भुखण्ड आंवटन कर मोके पर पट्टा सः21 जो पट्टा बुक नः4 से  दिनांक 15-12-2004 को जारी किया गया था  जिसमें कुल पट्टा सः 18,19,20,21,22 व 23 समेत कुल छ: पट्टे अधिकारीयों के सामने जारी हुए थे लेकिन अगले दिन पुर्व सरपंच ने पट्टे को रजिस्टर में दर्शाने के नाम पर पट्टा वापस ले लिया और आज तक वह पट्टा वापस नहीं मिल हे। पट्टा लेने के लिए कई बार तहसील, जिला कलेक्टर, उपखण्ड अधिकारी को आवेदन दिया लेकिन पट्टा नहीं मिला हे! प्राथी के आवेदन के साथ अन्य पांच पट्टे भी जारी किए गए ! लेकिन सचिव ने जवाब में बताया की पंचायत के पास उनके सम्बंधित कोई दस्तावेज़ मौजूद नही हे ओर न ही 2002 से 2012 के बीच रियायती दर पर पट्टा जारी किया गया हे अगर ऎसा हुआ तो फिर 15-12-2004 को खंगारराम पुत्र अणदाजी सुथार को पट्टा नः 19 केसे जारी किया गया। इतने करने पर सरपंच ने प्राथी को बीपीएल से नाम हटाने तक की धमकी दे डाली।

पंचायत परीसर से गायब हुई पट्टा बुक

ग्राम पंचायत में 15-12-2004 को जारी किए गए पट्टे को लेकर ग्राम पंचायत को भी पट्टा बुक नही मिल पा रही हे इसको लेकर जब प्रार्थी रूपाराम ने ग्राम पंचायत से नकल मांगी तो पुर्व सचिव ने विकास अधिकारी को लिखित में लिखकर अवगत करवाया की पट्टा बुक पंचायत में उपलब्ध न होने के कारण नकल देना संभव नही हे ! दिनांक 8-4-2013 को प्रशासन गाँवो  के संग शिविर के दोरान पुर्व सरपंच ने पट्टा बुक उनके पास होना बताया था लेकिन पुर्व सरपंच द्वारा आज तक पट्टा बुक पंचायत को सुपुर्द नही की गई हे! जिसके कारण प्रार्थी को आज दिन तक अपना पट्टा नही मिल पा रहा हे! पंचायत परीसर से पट्टा बुक गायब होना एक विचारणीय मुद्दा दिखाई दे रहा हे! जिसके कारण आज 12 साल गुजर जाने के बाद भी पंचायत को पट्टा बुक नही मिल रही हे! ऎसे मे एक गरीब बीपीएल परिवार आज भी उस पट्टे की आस में दर दर की ठोकरे खा रहा हैं.

इनका कहना - 
इसका पुरा ब्योरा सहित सीओ के नाम लिख कर भेज दो में 12 साल तक  की सो प्रतिशत पुरी जांच करवा दुंगा
(आशाराम डुडी
मुख्य कार्यकारी अधिकारी, सिरोही)


इस सम्बन्ध में आप एक बार सरपंच व सचिव को अवगत करवाकर मेरे से बात करवाना
(हेमाराम चोधरी, विकास अधिकारी रेवदर)


हमारे पास इससे सम्बंधित कोई पट्टा या पट्टा बुक ही मौजूद नही हे
(राजाराम सुथार, सरपंच ग्राम पंचायत दांतराई)

कोई टिप्पणी नहीं