Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

राजस्‍थान पुलिस को मिला, राष्ट्रीय अवार्ड-2015-16 राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजे गए IPS पंकज चौधरी

तमिलनाडु/कोयमबटुर। कम्‍प्‍यूटर सोसायटी ऑफ इंण्डिया द्वारा कोयमबटुर (तमिलनाडु) में 24 जनवरी मंगलवार को आयोजित एक समारोह में राजस्थान कैडर...

तमिलनाडु/कोयमबटुर। कम्‍प्‍यूटर सोसायटी ऑफ इंण्डिया द्वारा कोयमबटुर (तमिलनाडु) में 24 जनवरी मंगलवार को आयोजित एक समारोह में राजस्थान कैडर के दबंग आई.पी.एस. व राजस्‍थान पुलिस बेबपोर्टल के नोडल अधिकारी और एससीआरबी के पुलिस अधीक्षक पंकज चौधरी को सीएसआई निहीलेंट ई-गवरनेंस राष्ट्रीय अवार्ड-2015-16 राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्‍मानित किया गया।
आईपीएस पंकज चौधरी को यह पुरस्कार पुलिस कार्य मुल्यांकन के संदर्भ में प्रदान किया गया है। स्टेट क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो के पुलिस अधीक्षक पंकज चौधरी ने यह अवार्ड ग्रहण करने के बाद खुशी जाहिर करते हुए खबर टुडे को बताया कि कम्‍प्‍यूटर सोसायटी ऑफ इंण्डिया की ओर से कोयंमबटूर (तमिलनाडु) में राष्‍ट्रीय स्‍तर के इस कार्यक्रम में पुलिस कार्यप्रणाली मुल्‍याकंन के लिए राजस्‍थान पुलिस को मिले इस अवार्ड के लिए पुलिस महानिदेशक राजस्थान, डायरेक्टर एससीआरबी एवं अन्य उच्च अधिकारियों के मार्गदर्शन को निर्णायक एवं महत्व देते हुये राजस्थान के लिए विशेष अवसर बताया। उन्होंने यह भी बताया की पुलिस कार्य मुल्यांकन पद्धति को पुरे देश में शीघ्र मान्यता मिलेगी जिसके लिए देश के प्रधानमंत्री एवं केन्द्रीय गृहमन्त्री राजनाथसिंह ने भी तारीफ़ की है। राष्ट्रीय अवार्ड से नावजे गए आईपीएस पंकज चौधरी ने इसे राजस्‍थान पुलिस के लिए महत्वपूर्ण पल बताया। ज्ञातव्‍य रहे कि कार्मिक विभाग, भारत सरकार द्वारा पंकज चौधरी का लीडरशिप, इनोवेशन, गुड गवरनेंस सेमिनार में राजस्थान से चयन किया गया है। फ़रवरी प्रथम सप्ताह मुंबई के टाटा इन्स्टिट्यूट आफ सोशल साइंस में भी पंकज चौधरी उपस्थिति देंगे। इसके अलावा आन्ध्रप्रदेश (विशाखापटटनम) में भी 16 से 19 फ़रवरी को आयोजित 21 वी टेक्नोलोजी सभा में राजस्थान से आई.पी.एस पंकज चौधरी का पैनेलिसट के रुप में चयन किया गया है।
✍ *बेस्ट मार्किंग सिस्टम के लिए मिला अवॉर्ड–*
स्टेट क्राइम रिकोर्ड ब्यूरो की ओर से पिछले साल प्रदेश के पुलिस थानों की मार्किंग प्रणाली के लिए परफोर्मेंस मेजरमेंट सिस्टम तैयार किया गया था। इस सिस्टम के तहत हर थाने की परफोर्मेंस के आधार पर नंबरिंग की जाती है। और उन नंबरों के आधार पर थानों की मार्किंग होती है। हर महिने की मार्किंग पुलिस मुख्यालय के अधिकारियों को भेजी जाती है। जिसके बाद अधिकारी इसकी समीक्षा करते हैं। इस परफोर्मेंस मेजरमेंट सिस्टम की प्रधानमंत्री, गृह मंत्री से लेकर देश के पुरे पुलिस महकमे के साथ-साथ आमजन के द्वारा इस प्रणाली की देशभर में प्रशंसा की जा रही है।
 *कौन है आईपीएस पंकज चौधरी*
राजस्‍थान पुलिस में चर्चित चेहरे के रूप में मिडिया की सुर्खियों बने रहने वाले आईपीएस पंकज चौधरी राजस्‍थान कैडर 2009 बैच के आई.पी.एस.अधिकारी हैं। विधानसभा चुनाव से एनवक्त पहले वह सब कर दिखाया था, जो कोई साहसी अफसर ही दिखा सकता था। जैसलमेर के एसपी रहते हुए उन्होंने पोकरण से कांग्रेस के तत्कालीन विधायक सालेह मोहम्मद और जैसलमेर जिला परिषद के पूर्व प्रमुख अब्दुला फकीर के पिता गाजी फ़क़ीर की हिस्ट्री शीट खोल डाली थी। जब गाजी फ़क़ीर की हिस्ट्री खोली गई तो कांग्रेस सरकार ने दो दिन बाद ही यानी 3 अगस्त, 2013 को पंकज का पीटीएस किशनगढ़ तबादला कर दिया था। बेबाक लेखन एंव सीधे बयानों के लिए चर्चित आई.पी.एस.चौधरी फिलहाल स्टेट क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एससीआरबी).राजस्थान में बतौर पुलिस अधीक्षक सेवाएं दे रहे हैं। इसके साथ ही राजस्‍थान पुलिस बेबपोर्टल के नोडल अधीकारी के रूप में डिजिटल सिस्‍टम की कमान संभाल रहें है।  पुस्तकों से पंकज चौधरी का पुराना रिश्ता है। अपने कामकाज, राष्ट्रप्रेम और सबको साथ लेकर चलने की मुहिम के चलते देशभर के चर्चित युवा आई.पी.एस. अधिकारियों में उनकी गिनती होती है। पंकज चौधरी द्वारा रचित खुद की पंक्तियाँ आज के दौर में निहायत प्रासंगिक है। न जाति, न धर्म, न क्षेत्र, देश सर्वोपरि, जय हिन्द।

कोई टिप्पणी नहीं