Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

वंश सुथार समाज क्रिकेट प्रतियोगिता सम्पन्न,दांतराई ने जीता फाइनल खिताब

रिपोर्टर @ प्रवीण राजपुरोहित सिरोही/दांतराई। कस्बे में  वंश सुथार समाज आबुगोड परगना द्वारा युवाओं की ओर से आयोजित तीन द्विवसिय डे क्र...

रिपोर्टर @ प्रवीण राजपुरोहित

सिरोही/दांतराई। कस्बे में  वंश सुथार समाज आबुगोड परगना द्वारा युवाओं की ओर से आयोजित तीन द्विवसिय डे क्रिकेट प्रतियोगिता के अंतिम दिन एक से बढकर एक रोमांचक मेच खेले गए। सेमीफाइनल व फाइनल मेच को देखने के लिए सकडो की संख्या में भीड देखनो को मिली।
प्रतियोगिता में पहला सेमीफाइनल मेच दोलपुरा बनाम पालडी के बीच खेला गया जिसमें पालडी ने टांस जीतकर पहले गेंदबाजी करते हुए निर्धारित 14 ओवरों में दोलपुरा की टीम को 144 पर सिमट लिया। दुसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरी पालडी की टीम निर्धारित 14 ओवरों में 95 रन ही बना पाई जिसमें दोलपुरा की टीम 49 रन से विजय हासिल कर फाईनल में प्रवेश किया, जिसमें मेन आफ मेच चुना गया। दुसरा सेमीफाइनल मेच दांतराई बनाम मलावा के बीच खेला गया जिसमें दांतराई की टीम ने पहले टांस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 14 ओवरों में 96 रन बनाए जबकी दुसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरी मलावा की टीम 11 ओवर में 65 रन पर आल आऊट हो गई ओर दांतराई टीम ने 31 रन से विजय हासिल कर फाईनल में प्रवेश किया। जिसमें मेन आफ द मेच अशोक सुथार व नरेश सुथार रहे जिसमें अशोक ने 9 रन बनाकर 5 विकेट लेकर अपनी टिम के लिए योगदान दिया। फाईनल मेच दांतराई बनाम दोलपुरा के बीच खेला जिसमें दोलपुरा ने पहले टांस जीतकर गेंदबाजी करते हुए निर्धारित 12 ओवरों में दांतराई की टीम को 105  रन पर समेट लिया। दुसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरी दोलपुरा की टीम 84 रन पर आल आऊट हो गई ओर दांतराई 21 रन से फाईनल विजेता रही। फाईनल में मेन आफ द मेच  सुथार भीमाराम रहे जिन्होंने अपनी टीम के लिए 40 रन का योगदान दिया। मेन आफ द सिरिज अशोक सुथार को चुना गया जिसने 103 रन बनाकर 11 विकिट झटके।

ये रहे फाइनल मेच में उपस्थिति
वंश सुथार समाज आबुगोड परगना द्वारा युवाओं की ओर से आयोजित तीन द्विवसिय डे क्रिकेट  प्रतियोगिता के अंतिम दिन में दांतराई चिकित्सा अधिकारी  प्रवीण सुथार, सरपंच राजाराम सुथार, सुमनेश कुमार विश्वकर्मा, छोगाराम सुथार, गजाराम सुथार, बाबुलाल पुरोहित, नथमल सुथार, पोपटलाल सुथार, शांतिलाल पुरोहित, हिन्दूराम सुथार, मंछालाल सुथार, गणेशभाई घांची, तिलोकचन्द जेन, मफतलाल सुथार,  बाबुलाल सुथार, अमराराम सुथार, शंकरलाल सुथार समेत अन्य ग्रामीण व समाज के लोग मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं