Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

लोकतंत्र के विविध रंगों से सजी मतदाता दिवस फोटो प्रदर्शनी

बाड़मेर, 06 जनवरी। लोकतंत्र के शुरूआती दौर से मौजूदा सफर के विविध आयामों को दर्शाती मतदाता दिवस फोटो प्रदर्शनी आमजन के लिए आकर्षण का केन्द्...

बाड़मेर, 06 जनवरी। लोकतंत्र के शुरूआती दौर से मौजूदा सफर के विविध आयामों को दर्शाती मतदाता दिवस फोटो प्रदर्शनी आमजन के लिए आकर्षण का केन्द्र बनी हुई है। भारत निर्वाचन आयोग की स्थापना 25 जनवरी 1950 से शुरू हुआ सफर विभिन्न परिस्थितियों से गुजरा। मतदान के लिए मत पत्र पर ठप्पे से इलेक्ट्रोनिक वोटिग मशीन के जरिए वोटिग की प्रक्रिया किसी अजूबे से कम नहीं रही। जिला मुख्यालय पर जिला सूचना एवं जनसंपर्क कार्यालय में लगी फोटो प्रदर्शनी में लोकतंत्र के विविध रंगों को दिखाया गया है।
राष्ट्रीय मतदाता दिवस के उपलक्ष्य में सूचना केन्द्र में प्रारंभ हुई फोटो प्रदर्शनी में मतदाता बनने की योग्यता, तरीके, बूथ लेवल अधिकारी के दायित्व, पहचान पत्र बनाने की प्रक्रिया, निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी के कर्तव्य,मतदान प्रक्रिया, मत पत्रों के मुद्रण, चुनावी प्रचार समेत विविध पहलूओं को दर्शाया गया है। इसमें बताया गया है कि 1950 के दौरान चुनाव प्रचार, मतदान एवं मतगणना किस तरह से होती थी। मौजूदा दौर में इसमें क्या बदलाव आया। मतदाता फोटो प्रदर्शनी में मतदान दलों की रवानगी, मत पत्रों के मुद्रण, पंडित जवाहर लाल नेहरू की चुनावी सभा, तत्कालीन राज्यपाल ओ.पी.मल्होत्रा के मतदान करते हुए, श्रीमती गायत्री देवी के नामांकन दाखिले, तत्कालीन मुख्यमंत्री हरिदेव जोशी, शिवचरण माथुर, तत्कालीन राज्यपाल एस.के.सिंह का मतदान करते हुए, मतदान से पूर्व अमिट स्याही के इस्तेमाल, मजबूत लोकतंत्र के लिए निःशक्तजनों द्वारा मतदान करने, उंटगाड़ी एवं टेक्टरों के जरिए मतदान स्थलों पर पहुंचने, गुलाबी नगरी में चुनावी अभियान, विदेशी दलों के लोकतंत्र के उत्सव के निरीक्षण, मतदान की प्रक्रिया, 1967 एवं 1977 के लोकसभा एवं विधानसभा चुनाव की मतगणना, रूझान तथा परिणाम को दर्शाने वाली तस्वीरों के साथ निर्वाचन प्रक्रिया से जुड़े विविध पहलुओं को दर्शाया गया है।
क्या है मतदाता बनने की योग्यता : मतदाता बनने के लिए भारत के नागरिक के साथ आयु पुनरीक्षण वर्ष 1 जनवरी को 18 वर्ष या अधिक होनी चाहिए। इसके अलावा आवेदक का संबंधित भाग, क्षेत्र में मामूली तौर पर निवासरत होना चाहिए। मतदाता सूची में नाम जुड़वाने के लिए बूथ लेवल अधिकारी के पास आवेदन किया जा सकता है। बीएलओ से मतदाता पहचान पत्र बनवाने, मतदाता सूची से जानकारी के लिए भी संपर्क किया जा सकता है।
मतदाता सूची बेवसाइट पर उपलब्ध : राज्य के सभी निर्वाचन क्षेत्रों की भागवार मतदाता सूची निर्वाचन विभाग की बेवसाइट पर उपलब्ध है। इस बारे में फोटो प्रदर्शनी के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है।
कैसे बनाए पहचान पत्र : पहचान पत्र बनाने के लिए प्रपत्र-6 में रंगीन फोटो लगाकर संबंधित निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी कार्यालय में संपर्क किया जा सकता है। निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी आवेदन की जांच करने के बाद उसके सही पाए जाने पर मतदाता सूची में नाम जोड़ने के साथ पहचान पत्र जारी करेगा। यह पहचान पत्र बीएलओ के जरिए वितरित कराए जाएगा। मतदाता फोटो पत्र गुम अथवा नष्ट होने की स्थिति में डुप्लीकेट पहचान पत्र 25 रूपए जमा करवाकर फोटोग्राफी शिविर स्थल पर संबंधित व्यक्ति फोटो खिंचवाकर प्राप्त कर सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं