Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

तिलवाडा पशु मेले के लिए समुचित व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें:शर्मा

24 मार्च से 7 अप्रैल के मध्य आयोजित होगा तिलवाड़ा पशु मेला बाड़मेर, 23 जनवरी। तिलवाडा पशु मेले के लिए समुचित व्यवस्थाएं सुनिश्चित कीे ज...

24 मार्च से 7 अप्रैल के मध्य आयोजित होगा तिलवाड़ा पशु मेला
बाड़मेर, 23 जनवरी। तिलवाडा पशु मेले के लिए समुचित व्यवस्थाएं सुनिश्चित कीे जाए। मेले की अवधि के दौरान सफाई, यातायात, जल, विद्युत एवं रसद व्यवस्था सुनिश्चित करने के साथ पशुपालकों को बेहतरीन सुविधाएं उपलब्ध कराए। जिला कलक्टर सुधीर शर्मा ने सोमवार को जिला मुख्यालय पर कलक्ट्रेट कांफ्रेन्स हॉल में आयोजित श्री मल्लीनाथ पशु मेला तिलवाडा की प्रबन्धकारिणी की प्रथम बैठक के दौरान यह बात कहीं।

बैठक के दौरान जिला कलक्टर शर्मा ने मेले में पशुओं की आवक, पशुओं के क्रय विक्रय, पेयजल एवं परिवहन व्यवस्था सहित पशु चिकित्सा इन्तजामों की विस्तार के साथ जानकारी ली। उन्होने कहा कि मेला अवधि के दौरान कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए पुलिस एवं यातायात विभाग कार्य योजना बनाएं। उन्होने मेले के दौरान पशुओं के लिए चारे, पानी एवं यात्रियों के लिए भी समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। 
जिला कलक्टर शर्मा ने उपखण्ड अधिकारी बालोतरा को संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ 27 जनवरी को मेला मैदान का संयुक्त निरीक्षण कर सडक मरम्मत, साफ सफाई, पार्किंग, पशु खेलियां की मरम्मत, पशु चिकित्सा, पेयजल सहित सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होने मॉनिटरिंग कमेटी बनाई जाकर दुकानों की निलामी करने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होने एक्सप्रेस रेल गाडियों का तिलवाडा स्टेशन पर ठहराव, मेले हेतु अतिरिक्त बसे लगाने, संचार व्यवस्था, एसबीआई मोबाईल एटीएम, आर.ओ. प्लान्ट से पेयजल आदि की व्यवस्थाओं के लिए संबंधित विभागों के उच्चाधिकारियों को पत्र लिखने के निर्देश दिए। उन्होने मेले के दौरान सरकारी योजनाओ का व्यापक प्रचार प्रसार करने के साथ मेलार्थियों के प्रेरणा स्वरूप कृषि, पशुपालन, साक्षरता, परिवार कल्याण विभाग को प्रदर्शनी का आयोजन करने के निर्देश दिए। 
बैठक में जिला पुलिस अधीक्षक डा. गगनदीप सिंगला ने कहा कि वाहनों में निर्घारित क्षमता में ही पशुओं का परिवहन सुनिश्चित किया जाए इसके लिए यातायात विभाग द्वारा चौकी स्थापित की जाए जहां से निर्धारित प्रक्रिया पूर्ण करने के बाद ही पशुओं की रवानगी की जाए। उन्होने गाइड लाईन के अनुसार पशु परिवहन करने तथा पशुओं को भेजने के वाहनों के नम्बर सहित पूर्ण विवरण रखने के निर्देश दिए। सिंगला ने कहा कि तिलवाडा पशु मेला मारवाड का बडा एवं काफी पुराना पशु मेला है, ऐसे में पशु मेला तिलवाडा का समाचार पत्रों में विज्ञापन, होर्डिग्स, पेम्पलेट आदि के माध्यम से व्यापक प्रचार प्रसार किया जाना चाहिए। उन्होने मेले के दौरान नये एवं रोचक कार्यक्रमों का समावेश करने को कहा। साथ ही उन्होने मेले के दौरान हस्तशिल्प उत्पादों का प्रदर्शन, गैर दलों की प्रस्तुति, सांस्कृतिक कार्यक्रम, कवि सम्मेलन, भजन संध्या आदि के आयोजन किये जाकर आकर्षक बनाने को कहा।
इस दौरान अतिरिक्त जिला कलक्टर ओ.बी. बिश्नोई ने मेला मैदान सहित झण्डा स्थल की मरम्मत कराने तथा सुरक्षित पशु लदान एवं परिवहन करने के निर्देश दिए। उन्होने पशु मेले के दौरान वाहनों की समुचित पार्किग व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा। बैठक में पशु पालन विभाग के संयुक्त निदेशक डा. बी.आर. जैदिया ने बताया कि श्री मल्लीनाथ पशु मेला तिलवाडा का आयोजन 24 मार्च से 7 अप्रेल तक किया जाएगा। इसके लिए 1 से 2 मार्च तक दुकानों की निलामी, 20 मार्च को पशुपालन विभाग द्वारा चौकीयों की स्थापना की जाएगी। मेले का झण्डारोहण 24 मार्च को किया जाएगा। उन्होने बताया कि पशु मेला तिलवाडा के दौरान 26 से 27 मार्च तक पशु प्रतियोगिताओं तथा 24 से 28 मार्च तक खेलकूद एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। बैठक के दौरान तिलवाडा सरपंच शोभसिंह महेचा ने मेला व्यवस्थाओं से जुडे सुझाव रखे। उन्होने मेले के दौरान युवाओं को रोजगार संबंधी जानकारियां उपलब्ध कराने, उन्नत किसानों को प्रोत्साहन हेतु पुरूस्कृत करने तथा तिलवाडा पशु मेले का व्यापक प्रचार प्रचार करने को कहा। 
बैठक में पशुपालन विभाग के अतिरिक्त निदेशक जी.आर. चौहान, उपखण्ड अधिकारी बालोतरा प्रभातीलाल जाट, जिला परिवहन अधिकारी बालोतरा अचलाराम मेघवाल, सहायक निदेशक कृषि पदमसिंह भाटी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं