Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

मंदिर में जाकर राम, बाहर रावण बनने की प्रवृति त्यागने से ही उदार संभव:आचार्य

@ प्रकाश राठौड़ गुरू भक्तों का नगर प्रवेश पर हुआ भव्य स्वागत। जालोर/मालवाड़ा। नगर में प्रातः काल आचार्य भगवंतों का प्रवेष पर ढोल धमाक...

@ प्रकाश राठौड़

गुरू भक्तों का नगर प्रवेश पर हुआ भव्य स्वागत।
जालोर/मालवाड़ा। नगर में प्रातः काल आचार्य भगवंतों का प्रवेष पर ढोल धमाकों के साथ सामैया कर स्वागत किया गया। ज्यौतीचार्य आचार्य हेमन्तसुरिष्वर महाराज, आचार्य शोलचन्द सुरीष्वर महाराज, आचार्य कुलचन्द सुरीष्वर के सी महाराज सहित कई मुनीप्रवर जनों का धर्म के जयकारों के बीच नगर प्रवेश हुआ।
भाजपा के जिला महामंत्री मुकेश कुमार खण्डेलवाल व उमाजी ओखाजी परिवार के हितेन शांतिबेन एवं वेणीलाल हिराणी, कांतिलाल, रमेश जैन, दीपक कांतिलाल लाधाजी ने आचार्य भगवंतों से आर्शीवाद प्राप्त कर वंदन किया। मालवाड़ा पंच महाजन द्वारा भी गुरूवरों को कामली से सम्मन करवाया गया। चुन्नीलाल हिराणी ने मालवाड़ा नगर में पधारे सभी आचार्य भगवंतों व साधु साध्वियों का अभिनन्नदन करते हुये आभार व्यक्त किया। इस मौके पर ज्यौतीचार्य आचार्य हेमन्त सुरीष्वर ने प्रवचन देते हुये कहा कि परमात्मा के दर्शन करने मात्र से भयंकर पाप भी तर जाता है व परमात्मा का वंदन करने से संपूर्ण इच्छापूर्ति हो जाती है।
इतना ही नही, परमात्मा पूजा से ज्ञानरूपी धनरूपी लक्ष्मी का भी लाभ प्राप्त किया जा सकता है। मनुष्य को पांच ज्ञानों की जरूरत है मानव को धर्मशासन के कार्य हेतु माला करना व कभी भी अपने गुरू प्रभु को नही भूलना है। आचार्य ने कहा कि मंदिर में भगवान के सामने राम व बाहर आकर रावण बनने की प्रवृति को त्यागना होगा, श्रावकों को हर स्थिति में राम बनकर कार्य करते रहने से ही जीवन को सफल बना सकते है। आचार्य शीलचन्द सुरीष्वर व आचार्य के सी सुरीष्वर एवं पधारे हुये मुनि प्रवरों ने भी प्रवचन देकर धर्ममार्ग पर चलने का संदेश दिया।  इस अवसर पर सलोनी हिराणी, मंजूलाबेन, पारसमल खण्डेलवाल, विधि कारण एवं धार्मिक अध्यक्ष राजेश भाई, नरेश शर्मा, प्रकाश सैन, चैनाराम मेघवाल, रमेषभाई जैन, सुरजमल लाधाणी, हितेन माधाणी, सलीमभाई मिरासी, प्राची, मिताली खण्डेलवाल सहित कई धर्मप्रेमी उपस्थ्ति थे।

कोई टिप्पणी नहीं