Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

जालोर। जीवाणा में अकीदत से मनाया उर्स, चढ़ाई चादर

@ जेताराम परिहार  जालोर/सायला/जीवाणा। कस्बे के अहमदी जाम मस्जिद में 131 वां सालाना उर्स गुरुवार को कस्बे की मस्जिद में पूरी अकीदत के ...

@ जेताराम परिहार 

जालोर/सायला/जीवाणा। कस्बे के अहमदी जाम मस्जिद में 131 वां सालाना उर्स गुरुवार को कस्बे की मस्जिद में पूरी अकीदत के साथ मनाया गया। इस मौके पर जायरीनों द्वारा मजार पर चादर व गागर चढ़ाने के बाद लोगों ने अपनी मन्नतों की पूर्ति के लिए बाबा से दुआएं की। वहीं सुबह कव्वाली का आयोजन किया गया।
इस मौके मुस्लिम भाइयो ने जियारत कर बड़ी खुशी व मोहब्बत के साथ उर्स ए मेहबुबी मनाया गया। जिसमें मुकर्रर ए खास पीर सैय्यद अहमदशाह जिलानी नात खा पीर सैय्यद अता ऊला शाह जिलानी व् कारी रोशन दिन ने शानदार नात शरीफ पढकर लोगो को झूमने को मजबूर कर दिया। इस दौरान सेकड़ो की संख्या में मुस्लिम भाइयो ने उर्स में शिरकत की। कस्बेमें गुरुवार को 131वां उर्स धूमधाम से मनाया गया। उर्स में हिंदू-मुस्लिम संप्रदाय के लोगों ने शिरकत कर सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल कायम की। दरगाह के भक्तो के अनुसार कार्यक्रम के तहत गुरुवार को गाजे-बाजे आतिशबाजी के साथ चादर दरगाह कमेटी मुख्य सड़क से रवाना होकर मुख्य बाजारों से होकर वापस दरगाह कमेटी पहुंची, जहां पीर ने अपना सम्बोधन को पेश की गई तथा प्रसाद का वितरण किया गया। लंगर प्रसाद का आयोजन किया गया। बाबा के जन्मदिन का केक काटा गया। भक्तो ने बताया कि रात को बाबा की खिदमत में महफिले कव्वाली और शेरो-शायरी कव्वाल लतीफ, रफीक शाबरी द्वारा पेश की गई। कव्वालों ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां देकर जमकर तालियां बटोरी। देर तक समां बंधा रहा। लोगों ने तालियों से कव्वालों का उत्साहवर्द्धन किया।


मस्जिद मैदान में लगे हाट बाजार 
कस्बे में उर्स के मौके पर मस्जिद के आस पास हॉट बाजार सजे और स्टाल लगाई। इस दौरान लोगो ने बढ़ चढ़ कर खरीददारी की और लुप्त उठाया। आलमखान ने बताया कि दअवते इस्लामी एक गैर सियासी पुरअमन तहरीक है। सभी कुरान - ए - पाक और नबी की सुन्नत के मुताबिक जिंदगी गुजारें। कामयाबी के लिए दीन के रास्ते पर चलने के लिए तलकीन फरमाई। सलाम के बाद मुल्क और कौम के लिए दुआ की गई। जलसा ईद मीलादुन्नबी अकीदत एवं एहतराम से मनाया गया। मौलाना ने कहा कि हर उस काम से बचना चाहिए जो नबी की सुन्नत के खिलाफ हों, उसी में भलाई है मदरसा के संस्थापक ने कहा कर रस्मों को छोड़ इस्लामी एहकामात पर अमल करना चाहिए।जलसे की शुरूआत नाते पाक से किया। मौलाना ने कहा कि कानून पर अमल करते हुए इस्लाम के बताये रास्ते पर चलकर हर कीमत पर मुल्क की हिफाजत के लिए हम लोग हमेशा लड़ते रहेंगे। वही नबी के बताये रास्ते पर चलने का आवाह्वान किया। कहा कि अल्लाह ने नबी को सारी दुनिया के लिए रहमत बनाकर भेजा। उनके बताये रास्ते पर चलने वाला ही कामयाब होता है। जलसे का समापन सलात व सलाम और दुआ के बाद हुआ। संचालन अकबर खान  ने किया।


मुस्लिम मुस्तफा कमेटी ने उर्स की व्यवस्थाओं में पूरा सहयोग किया
कस्बे के आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से अकीदतमंदों ने बाबा की दरगाह पर फूल, चादर चढ़ाकर मन्नतें मांगीं, देर रात तक उर्स में हजारों जायरीनों ने भाग लिया।
दरगाह कमेटी के पीर ने बताया कि हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी हर्षोल्लास व धूमधाम के साथ बाबा का सलाना उर्स मनाया गया। उर्स में शिरकत करने पहुंचे अकीदतमंदों का भव्य स्वागत भी किया गया। उन्होंने बताया कि लंगर कलाम पाक की तिलावत व देर रात्रि में कव्वालियोंं का भी लुत्फ अकीदतमंदों ने उठाया।


पूर्व विधायक ने भी की शिरकत
इस मौके पर कस्बे में मनाये गए उर्स में जालोर के पूर्व विधायक रामलाल मेघवाल कांग्रेस नेता छैल सिंह मेड़तिया भगवत सिंह बावतरा मोहन चोचवा सहित कई दूसरे धर्म के लोगो ने भी शिरकत की। इस दौरान मुस्लिम भाइयो को सम्बोधित करते हुए पूर्व विधायक मेघवाल ने कहा की मुस्लिम धर्म के अनुसार समय समय पर मनाया जा रहे उत्सव अमन चैन और दुआ का पैगाम है। उन्होंने कहा की ये पर्व सभी धर्म के लिए अमन चैन की दुआ लेकर आएंगे। इस दौरन पूर्व विधायक मेघवाल ने सभी मुस्लिम भाइयो को उर्स की मुबारकबाद दी। बतौर मुख्य अतिथि कांग्रेस नेता छैल सिंह मेड़तिया ने छात्र छात्राओं को कोमी एकता का संदेश दिया।


ये रहे मौजूद
उर्स में हाजी जबरू खान हाजी सद्दीक खान, हाजी अली खान, मेहरू खान, हाजी सफी मोह्ह्मद खान आलम खान जुनेजा, मोलवी अमरुद्दीन मोलवी समीर खान युवा मंडल के कार्यकर्त्ता सहित हजारो की संख्या में समाज बंधू मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं