Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

आमलकी ग्यारस पर युवतियों ने उठाया झुला झुलने का लुत्फ, झुला झुलने से नहीं रोक पाई प्रधान

@ प्रकाश राठौड़ जालोर/मालवाडा 8 मार्च। आमलकी ग्यारस माथे आयो रेजो रे महिनो फगण रो .... आमलकी ग्यारस पर नए-नए परिधानों व आभुषणों में सजी...

@ प्रकाश राठौड़

जालोर/मालवाडा 8 मार्च। आमलकी ग्यारस माथे आयो रेजो रे महिनो फगण रो .... आमलकी ग्यारस पर नए-नए परिधानों व आभुषणों में सजी धजी नवविवाहिताएं व युवतियां उनके चेहरे पर झलकती मुस्कान सहेलियों के साथ हंसी ठिठोली करती तो कभी कुल्फी का लुफत उठाती तो कोई सखियों के संग झुलें झुलती नजर आई तो कोई दुकानों पर सौन्दर्य सामग्री खरीदने में मशगुल कमोबेश यह नजारा था। राजस्थान के लोक त्यौहार आमलकी ग्यारस पर रानीवाड़ा उपखण्ड क्षेत्र में जगह-जगह महिलाओं ने झुला झुलने का लुफत उठाया। नवविवाहिताओं व युवतियों ने ग्यारस की पूर्व रात्रि को हाथों में मेहन्दी रचाकर एकादशी का व्रत किया। आमलकी ग्यारस के दिन अपने पिया को संग पाने को आतुर महिलाए नए-नए कपड़े पहनकर झुला झुली। परदेस में बसे पिया की याद में महिलाए गीत गाकर अपने पिया को घर आने का न्यौता देती है। ग्रामीण क्षेत्रों में इस दिन गांव में वृक्ष की डालियों पर झुला डालकर महिलाए झुलती है व घेरा डालकर लुर लेती मारवाड़ी गीत आमलकी ग्यारस माथे आया रेजो रे... व अन्य गीतों के द्वारा अपने पिया को याद करती है तथा लोगों ने दान पुण्य गायों को चारा डालकर तथा मंदिरों में पूजा अर्चना कर और महिलाओं ने झुला झुलकर उत्साह से पर्व मनाया। होली के चार दिन पूर्व आने वाला इस त्योहार का रंग परवान पर चढऩे लगा है जो शीतला सप्तमी तक चलेगा। आमलकी ग्यारस का पर्व रानीवाड़ा उपखण्ड मुख्यालय पर हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।

झुला झुलने से नहीं रोक पाई प्रधान
आमलकी ग्यारस के पर्व पर रानीवाड़ा पंचायत समिति प्रधान रमीला मेघवाल ने सहेलियों को झुला झुलते देख अपने आपकों झुला झुलने से नहीं रोक पाई, प्रधान के चेहरे पर झलकती मुस्कान सहेलियों के साथ हंसी ठिठोली करती झुला झुलने का लुफत उठाती सखियों के संग झुलें झुलती नजर आई। 

कोई टिप्पणी नहीं