Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

सात दिन से नही आया टंकी में पानी, एक हेडपम्प के भरोसे 70 परिवार

हमीरपुरा गाँव में गहराया पेयजल संकट @ प्रवीण राजपुरोहित सिरोही/दांतराई। जीरावल ग्राम पंचायत के हमीरपुरा गाँव में इन दिनों पेयजल की क...

हमीरपुरा गाँव में गहराया पेयजल संकट

@ प्रवीण राजपुरोहित

सिरोही/दांतराई। जीरावल ग्राम पंचायत के हमीरपुरा गाँव में इन दिनों पेयजल की किल्लत होने से हाहाकार मची हुई है। गाँव में करीब सात दिन से लाखों रूपये से बनी पानी की टंकी में एक बुंद भी नही टपका । पिछले सात दिन से मोहल्ले के बाशिंदें बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं। जिसके कारण लोगों को भारी परेशानी से जूझना पड़ रहा है। फिर भी अधिकारियों को अभी तक उनकी सुध लेने की फुर्सत नही मिल पाई है।

ग्रामीण अर्जन सिंह ने बताया की पानी की समस्या को लेकर ग्राम पंचायत व  विभाग के अधिकारियों  से गुहार लगा चुके हैं, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ वही गर्मी का मौसम शुरू होते ही यहां पेयजल संकट गहरा गया है वही ग्रामीण मटकों में इधर-उधर से पीने का पानी जुटाने पर मजबूर होना पड़ रहा है।

आजादी के बाद भी नही मिले नल कनेक्शन
जीरावल ग्राम पंचायत के हमीरपुरा गाँव में आजादी के 69 साल गुजर जाने के बाद भी  एक भी नल कनेक्शन नहीं है। इस गाँव में करीेब 70 परीवार के लोग गाँव में लगी पानी की टंकी से पानी भरते हे लेकिन वहा भी सात दिन से पानी की सफ्लाई नही हुई हे। इस गाँव में पाइप लाइन ही नहीं डाली है। जबकि वार्ड के लोग लगातार मांग करते रहे हैं।  बताया जाता है की गाँव में सार्वजनिक नल और निजी नल कनेक्शन लेने के लिए लोगो ने कई प्रयास किये लेकिन गाँव में आजतक पेयजल सप्लाई लाइन ही नहीं डाली गई। इस कारण किसी को पानी नहीं मिला है। समस्या को लेकर पूर्व में भी कई ज्ञापनों के माध्यम से  अधिकारियों के सूचित किया है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। सुबह के समय कुआं से लोग पानी भरने के लिए मजबूर है।

एक हेडपम्प के भरोसे 70 परीवार
हमीरपुरा गाँव में पेयजल की समस्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है। इस गाँव में दो हैंडपंप है, जिसमें सिर्फ एक ही हैंडपंप से पानी निकल रहा है। बाकी एक हैंडपंप खराब होने के कारण अनुपयोगी पड़ा हैं, जिससे पानी की समस्या से 70 परिवार जुझ रहे हैं ओर ग्रामीण वर्तमान में एक हैंडपंप से गुजारा कर रहे हैं। पानी के लिए लोग सुबह से हैंड पंप के पास लाईन में लग जाते हैं, तब जाकर घंटो बाद एक बाल्टी पानी मिल पाती है। पानी की समस्या से निजात पाने ग्रामीण गांव के जिम्मेदार लोगो को कई बार अवगत करा चुका हैं, लेकिन इस समस्या से उन्हे कोई सरोकार नहीं है। वहीं  सरपंच को भी कई बार शिकायत कि जा चुका है, लेकिन सरपंच द्वारा इस पर कोई ध्यान नहीं देना समझ से परे है जिससे ग्रामीणों की समस्या का समाधान नहीं हो रहा हैं।

पेयजल संकट से पशुपालक परेशान
जीरावल ग्राम पंचायत के  हमीरपुरा गाँव में पिछले  समय से पेयजल संकट गहराने के कारण ग्रामीणों के साथ-साथ पशुओं के हाल बेहाल हो रहे है। वहीं समय पर गांव में पेयजल सप्लाई नहीं होने के कारण पशुओं की हालत भी खराब होती जा रही हे लेकिन समस्या को लेकर जलदाय विभाग व पंचातय कतई गंभीर नहीं दिखाई दे रहा है। गांव में हर समय जीएलआर के पास दर्जनों का पशुओं का जमावड़ा रहता है। पानी के अभाव में दर्जनों पशुओं के खराब हालात के बाद भी जलदाय विभाग गंभीर नहीं है। जीएलआर में पानी नहीं होने के कारण पशु पानी के आस में वहां पर बैठ जाते हैं । गांव में पेयजल संकट गहराने के कारण ग्रामीणों पशुपालकों को तकलीफों का सामना करना पड़ रहा है। 
इनका कहना 
पानी की टंकी में सात दिन से पानी नही आ रहा हे पुरा गाँव अब एक हेडपम्प के भरोसे हे जिससे ग्रामीणों व पशुओं को परेशानी हो रही हैं। 
-पहाडसिंह, ग्रामीण हमीरपुरा। 
अगर सात दिन से पानी नही आ रहा हे तो कर्मचारी को भेजकर टंकी भरवाता हु अगर हेडपम्प की लोगों को आवश्यकता होगी तो नया लगवा दिया जाएगा। 
-के.आर. खत्री एईएन जलदायक विभाग रेवदर।

कोई टिप्पणी नहीं