Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

रेवदर। बस स्टेण्ड पर गंदगी, यात्री परेशानी

स्वच्छ भारत अभियान के प्रति ना तो विकास अधिकारी जागरूक हैं और ना ही रेवदर ग्राम पंचायत, ऐसे में कैसे सफल होगा स्वच्छ भारत अभियान @ प्र...

स्वच्छ भारत अभियान के प्रति ना तो विकास अधिकारी जागरूक हैं और ना ही रेवदर ग्राम पंचायत, ऐसे में कैसे सफल होगा स्वच्छ भारत अभियान

@ प्रवीण राजपुरोहित

सिरोही/रेवदर। सरकार के वो बडे-बडे वादे जिसमें देश को स्वच्छ भारत अभियान को लेकर देश बदलने की बाते की जा रही हो ओर गांव में सरकार की ओर से स्वच्छ भारत अभियान के तहत रैली एंव नारे लिखकर जागरूक किया जा रहा हो लेकिन रेवदर उपखण्ड मुख्यालय में ये सब वादे दीवारो पर ही शोभा देते नजर आ रहे है।ग्राम पंचायत हे की स्वच्छ भारत मिशन अभियान के विपरीत गंदगी को बढावा देने लगे है। गांव में जगह-जगह गंदगी पसरी हूई है लेकिन ग्राम पंचायत के उदासीनता रवैया होने के कारण इसकी की ओर सफाई कार्य करवाने में कोई ध्यान नही दिया जा रहा है।

बस स्टेण्ड पर गंदगी, यात्री परेशानी
रेवदर तहसील का मुख्य बस स्टेण्ड पर गंदगी की भरमार है। यहां यात्री प्रतीक्षालय से लेकर पूरे डिपो में गंदगी फैली हूई है। परिसर के बाहर कूडे का ढेर लगा है। जिससे लोगो का बैठना मुश्किल हो जाता है। लोगो को आवागमन की सुविधा देने के लिए परिवहन निगम बसों का डिपो है।बस से प्रतिदिन हजारों लोग सफ र करते है। तमाम यात्री बस पकडते है। लेकिन डिपो पर इनके बैठने की व्यवस्था नही है। कक्ष में गंदगी की भरमार है। डिपो के बाहर कई जगह कूडे का ढेर लगा रहता है। जिससे लोगो को भारी परेशानी होती है। इसकी सफाई के लिए सफाई कर्मी तैनात किए है। लेकिन वे फै ली गंदगी व कूडों को नही हटाते है।यहां तक स्वच्छ भारत अभियान के प्रति ना तो विकास अधिकारी जागरूक है और ना ही रेवदर ग्राम पंचायत।ऐसे में आखिर स्वच्छ भारत मिशन कैसे आगे बढ़ेगा।

दीवारो पर शोभा दे रहे हे स्वच्छ अभियान पोस्टर
रेवदर बस स्टेंड में स्वच्छ भारत की अलख जगाने के लिए जगह-जगह पोस्टर लगे हूए है। जिसमें अलग-अलग स्लोगन लिखे हूए है। स्वच्छ भारत अभियान क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया जबकि वास्तव में यह सब दीवारो की शोभा बढ़ा रहे है। ऊपर स्वच्छ भारत के पोस्टर लगाए गए है और निचे स्वच्छ भारत अभियान की खुलेआम धज्जियां उड रही है। भामाशाह श्रीमती दिवाली बाई मंछारजी द्वारा यात्रियों की सुविधा के लिए प्याऊ का निर्माण भी करवाया गया था ताकी यहां से आने जानें वाले यात्री पानी पी सके। लेकिन विभाग की अनदेखी के कारण प्याऊ को गंदगी में तब्दील कर दिया गया है। हर कोई आते जाते गुटखा खाकर थुकता गया। जिसके कारण आज यात्री बदबू से परेशान हो रहे है।

शुलभ शौचालय पर भी दिनभर पसरी पडी रहती हैं गदंगी 
कहने को तो यात्रियों को शौचालय जाने के लिए सुविधा के तौर पर बस स्टेण्ड पर शुलभ शौचालय का निर्माण करवाया गया है। लेकिन शुलभ शौचालयो की सफाई करने की कोई जहमत तक नही उठा रहे है। यहां तक की शुलभ शौचालय का कुआ ढह जाने से दिनभर शौचालय कि गंदगी नालियों में भरी पड़ी रहती है। जिससे दिनभर बदबू आती रहती है। यहां तक की वहा खड़ा रहना तो दूर की बात वहां होकर चलते वाले भी शौचालय कि आने वाली गंदगी कि बदबू से परेशान है। नालियों से गंदगी भी ऐसी आती है कि सर दर्द कर फ टने लग जाता है। शौचालयों में दिन भी शराब कि बोटले व गूटखों के कागज भरे पड़े रहते है।लेकिन इस किसी भी विभाग के अधिकारियों का ध्यान तक नही जा रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं