Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

एमपॉवर परियोजना की समीक्षा बैठक का आयोजन

@ सरूपाराम प्रजापत बाड़मेर/बायतु/हीरा की ढाणी। कलेक्टर सभागार जोधपुर में गुरुवार को पश्चिमी राजस्थान गरीबी शमन योजना (एमपॉवर) की समीक्...

@ सरूपाराम प्रजापत

बाड़मेर/बायतु/हीरा की ढाणी। कलेक्टर सभागार जोधपुर में गुरुवार को पश्चिमी राजस्थान गरीबी शमन योजना (एमपॉवर) की समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया।
ग्रामीण विकास विभाग सचिव राजीव ठाकुर की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में सम्भागीय आयुक्त रतन लाहोटी, जिला कलेक्टर जोधपुर विष्णु चरण मल्लिक, सी ई ओ जिला परिषद् प्रदीप के, राजीविका परियोजना निदेशक हरदीप चौपड़ा, महाप्रबन्धक राजीविका सोमदत्त दीक्षित, परियोजना निदेशक एमपॉवर जयपाल मेड़तिया, उपनिदेशक एमपॉवर ब्रिज किशोर द्विवेदी, महाप्रबन्धक एमपॉवर चुनाराम विश्नोई, श्योर बाड़मेर की सयुक्त सचिव लता कच्छवा, एमपांवर समन्वयक बायतु कानाराम प्रजापत,ब्लांक परियोजना एमपांवर प्रबंधक विमल वशिष्ठ, बीसीटी परेऊ भिखाराम तथा एमपॉवर के अन्य पदाधिकारियों समेत पश्चिमी राजस्थान में एमपॉवर के छः ब्लॉक से आये 50प्रतिभागियों ने भाग लिया। बैठक में एमपॉवर परियोजना के तहत संचालित विभिन्न आजीविका आधारित गतिविधियों, परियोजना में वर्ष 2017-2018 के बीच के बजट व्यय आदि पर चर्चा एवं अभी तक ब्लॉकवार प्रगति पर चर्चा की गयी। 
संभागीय आयुक्त एवं सचिव ग्रामीण विकास द्वारा एमपॉवर परियोजना के तहत संचालित सभी गरीबी उन्मूलन गतिविधियों के परिणाम प्रभाव व आगामी कार्य योजना के बारे में विस्तृत विवेचन किया गया।
एमपॉवर उपनिदेशक ब्रजकिशोर द्विवेदी ने बैठक में परियोजना विभिन्न आजीविका सम्बंधित गतिविधियों का प्रस्तुतिकरण पॉवर पोईन्ट प्रजेंटेशन द्वारा दिया गया। बैठक में ब्लॉक से आये विभिन्न प्रतिभागियों ने अपने अपने ब्लॉक में  संचालित महिला आजीविका से सम्बंधित विभिन्न कार्यक्रमों का विवरण दिया गया।  बैठक के अंत में परियोजना निदेशक  जयपाल मेड़तिया द्वारा सभी अतितियों एवं प्रतिभागियों का आभार प्रकट किया गया ।
गौरतलब है कि एमपॉवर परियोजना द्वारा पश्चिमी राजस्थान के छः ब्लॉक आबूरोड, बाली, बायतू, सांचोर, सांकडा व बाप में ग्रामीण महिलाओं की आजीविका से सम्बंधित कई गतिविधियों का संचालन किया जाता है। जिनमें कृषि, पशुपालन, सिलाई, पेचवर्क, सेनेटरी नेपकिन बनाना आदि गतिविधियाँ प्रमुख है। इसके अतिरिक्त औषधीय पादप से मिलने वाले उत्पादों व सौरऊर्जा से सम्बंधित गतिविधियाँ शामिल है। उक्त जानकारी श्योर समन्वयक बायतु कानाराम प्रजापत ने दी।

कोई टिप्पणी नहीं