Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

बाड़मेर, ब्रह्मसर तीर्थ पर 687वां कुशलगुरू मेला आज रविवार से।

बाड़मेर, ब्रह्मसर तीर्थ पर 687वां कुशलगुरू मेला आज रविवार से। बाड़मेर। ब्रह्मसर तीर्थ पर दादा जिनकुशल सूरिश्वर की 687वीं पुण्यतिथ...

बाड़मेर, ब्रह्मसर तीर्थ पर 687वां कुशलगुरू मेला आज रविवार से।

बाड़मेर। ब्रह्मसर तीर्थ पर दादा जिनकुशल सूरिश्वर की 687वीं पुण्यतिथि के उपलक्ष में दो दिवसीय भव्य मेला आज व कल रविवार व सोमवार को आयोजित होगा, जिसमें बाडमेर, जैसलमेर, भाटीपा क्षेत्र व पुरे भारतभर से गुरूभक्त पहुचेगें। दो दिवसीय चलने वाले इस मेले का भव्य आयोजन प्रतिवर्ष की भांति इस बार भी वसी मालाणी रत्न शिरोमणी ब्रह्मसर तीर्थोद्वारक आचार्य भगवन्त मनोज्ञसूरीश्वर की पावन निश्रा व दादा जिनकुशलसूरि ट्रस्ट के तत्वावधान में मनाया जायेगा।
ब्रह्मसर ट्रस्ट के अध्यक्ष दानमल डूंगरवाल व सहमंत्री ज्ञानीराम मालू ने बताया कि ब्रहमसर का यह प्राचीन तीर्थ दादा कुशलगुरू के स्वतः उत्कीर्ण चरण पादुका से चमत्कारी जल कुण्ड होने से पूरे विश्व में सुप्रसिद्ध है। मालू ने बताया कि इस तीर्थ का जीर्णाेद्वार वसी मालाणी रत्न शिरोमणी ब्रह्मसर तीर्थोद्वारक आचार्य भगवन्त मनोज्ञसूरीश्वर की पावन प्रेरणा और सदुपदेश से हुआ। मेले के इस आयोजन में आज रविवार को प्रातः 10 बजे वरघोड़े के साथ ध्वजारोहण किया जायेगा। इसके बाद कार्यक्रम स्थल पर दीप प्रज्जवलित व गुणानुवाद सभा तथा अतिथियों का स्वागत किया जावेगा। दोपहर में कुशल भक्ति मण्डल के तत्वाधान में दादा कुशलगुरू का महापूजन कराया जायेगा और शाम को महाआरती का आयोजन किया जायेगा। रात्रि में बाहर से सुप्रसिद्व संगीतकार द्वारा व अन्य बाहर से आने वाले भजन मण्डली द्वारा रात्रि जागरण होगा, रात्रि 9 बजे कार्यालय में दादा जिनकुशसूरि ट्रस्ट मण्डल की साधारण सभा का आयोजन होगा।
ब्रह्मसर ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष राणमल संखलेचा व ट्रस्टी बाबूलाल टी बोथरा ने बताया कि मेले में आने वाले गुरूभक्तों के लिए ठहरने की व्यवस्था पूर्ण रूप से की गई है। कल सोमवार को जिनालय व दादावाड़ी का वार्षिक ध्वजारोहण सत्तरभेदी पूजन, देवदर्शन तथा अन्य धार्मिक आयोजनों के साथ मेले का विधि - विधान सहित समापन होगा। ब्रह्मसर मेले में बाड़मेर - जैसलमेर सहित पुरे भारतभर से गुरूभक्त शिरकत करेगे।

कोई टिप्पणी नहीं