Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

सिवाना, धूमधाम के मनाई गई विश्वकर्मा जयंती।

सिवाना, धूमधाम के मनाई गई विश्वकर्मा जयंती। शोभायात्रा में मनमोहक झांकियां रही आकर्षण का केंद्र। बाड़मेर/सिवाना ( भगाराम पादरू ) ...

सिवाना, धूमधाम के मनाई गई विश्वकर्मा जयंती।

शोभायात्रा में मनमोहक झांकियां रही आकर्षण का केंद्र।
बाड़मेर/सिवाना ( भगाराम पादरू ) कस्बे में हरवर्ष की भाँति इस वर्ष भी श्री विश्वकर्मा जयंती सुथार समाज भवन में बड़ी ही धूम-धाम के साथ मनाई गई।

सुथार समाज के लोगों द्वारा आयोजित उक्त विश्वकर्मा जयंती समारोह के दौरान प्रातः भगवान श्री विश्वकर्मा जी की पूरे विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना के बाद महाआरती की गई। तत्पश्चात् शोभायात्रा निकाली गई जो कस्बे के मुख्य मार्गों से गुजरते हुए पुनः समाज भवन आकर विसर्जित हुई। शोभायात्रा में भगवान की विविध झांकियां आकर्षण का केन्द्र रही। 
शोभायात्रा के बाद सिवाना गादीपति नृत्य गोपाल राम महाराज के सानिध्य में आयोजित हुए सभा सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए, सिवाना विधायक हमीर सिंह भायल ने कहा कि सुथार समाज शिल्प के साथ-साथ शिक्षा व सेवा के क्षेत्र में हमेशा अग्रणी रहा हैं, और यह समाज सदियों से सभी के लिए प्रेरणा स्रोत बना हुआ है। आज के युग में शिक्षा का महत्व व आवश्यकता है, और इस आवश्यकता को सुथार समाज ने भली भांति जाना है। यही कारण है कि सुथार समाज हमेशा अखिल भारतीय प्रशासनिक सेवा में अपनी मौजूदगी दर्ज करवाता है। भूरा राम सुथार व्याख्याता ने कहा कि समाज को बालकों के साथ-साथ बालिकाओं की शिक्षा पर भी जोर देना होगा, क्योंकि बालिकाएं पढ़ कर दो दो परिवार रोशन करती हैं। समारोह में विविध प्रतियोगिताओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले सुथार समाज की छात्र-छात्राओं को प्रशस्ति पत्र व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

महोत्सव में महाप्रसादी के लाभार्थी मोहनलाल मंगलाजी बरड़वा परिवार रहा। वहीं अन्य बोलियों का लाभ दीपचंद पडमा, अचलचंद बुढ़ड़, राणाराम देपड़ा कुशीप, कपूराराम पड़मा, रामस्वरूप बुढ़ड़, स्वरूप पड़मा कुशीप, डूंगर चंद देपडा, भीखाराम पड़मा, नेमाराम बालियाणा, अशोक बुढ़ड़ एवं मोहनलाल बुढ़ड़ परिवार सिवाणा द्वारा लिया गया।
समारोह में पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी जीवराज जांगिड़, युवा मंडल के अध्यक्ष अमराराम जांगिड़, मदनलाल जांगिड़, कालूराम जांगिड़, बालकिशन जांगिड़, जीत जांगिड़, खीमराज जांगिड़, सुशील सुथार, माणक सुथार, भीमाराम सुथार, अशोक सुथार, गौतम सुथार, भरत जांगिड़, किशोर जांगिड़, विक्रम जांगिड़, राणाराम जांगिड़ गुड़ा, फरसाराम सुथार, पन्नालाल सुथार, भंवरलाल सुथार, शंकरलाल सुथार, जबराराम सुथार, ओपी जांगिड़, भूरचंद सुथार सहित कई लोग उपस्थित रहे। इस दौरान कार्यक्रम का संचालन रमेश जांगिड़ ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं