Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

जिला उद्योग केन्द्रों को दिशा-निर्देश जारी, पहले चरण में आटा, बेसन, दाल, तेल मिलों को दे सकेंगे अनुमति।

जिला उद्योग केन्द्रों को दिशा-निर्देश जारी, पहले चरण में आटा, बेसन, दाल, तेल मिलों को दे सकेंगे अनुमति। - अन्य इकाइयों के लिए ए...

जिला उद्योग केन्द्रों को दिशा-निर्देश जारी, पहले चरण में आटा, बेसन, दाल, तेल मिलों को दे सकेंगे अनुमति।

- अन्य इकाइयों के लिए एसीएस उद्योग को भेजना होगा प्रस्ताव
जयपुर। उद्योग आयुक्त मुक्तानन्द अग्रवाल ने लॉक डाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं का विनिर्माण और आपूर्ति करने वाली औद्योगिक इकाइयों को अनुमति के संबंध में जिला उद्योग केन्द्रों के महाप्रबंधकों के लिए विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने कहा कि विभाग की ओर से जारी निर्देशों और केन्द्र व राज्य सरकार की समय-समय पर जारी एडवाइजरी की भी सख्ती से पालना सुनिश्चित की जाए।

आयुक्त उद्योग अग्रवाल ने जारी निर्देशों में कहा है कि महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्रों द्वारा पहले चरण में आटा, बेसन, दाल और तेल मिलों को अनुमति दी जा सकेगी। उन्होंने स्पष्ट किया है कि अन्य विनिर्माण या सेवा इकाइयों के लिए स्थानीय आवश्यकतानुसार अनुमति दिया जाना जरुरी है तो जीएम डीआईसी स्वयं की अभिशंषा के साथ जिला कलेक्टर के माध्यम से अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग एवं प्रबंध निदेशक रीको को आवश्यक कार्यवाही के लिए ईमेल या उपयुक्त माध्यम से भिजवाएंगे।

आयुक्त उद्योग द्वारा जारी निर्देशों में कहा गया है कि यह सुनिश्चित किया जाएगा कि अनुमति प्राप्त इकाई में जिस कार्य के लिए अनुमति दी गई है वही उत्पादन कार्य किया जाएगा। इसके साथ ही ऎसी इकाई में न्यूनतम श्रमिकों व कार्मिकों को ही कार्य की अनुमति होगी और इन कार्मिकों को स्थानीय आवास से इकाई तक ही आने-जाने की अनुमति होगी। इकाई में स्वच्छता, सेनेटाइजेशन, वायरस संक्रमण रोकने के आवश्यक उपाय के साथ ही सोशल डिस्टेंस आदि की सख्ती से पालना करनी होगी। इसके साथ ही इकाई में किसी के भी वायरस संक्रमण, बुखार, खांसी, जुखाम अथवा अन्य संक्रमण की स्थिति में तत्काल प्रशासन को जानकारी देने के साथ ही चिकित्सकीय जांच करानी होगी।

आयुक्त अग्रवाल ने बताया कि अनुमति प्राप्त इकाइयों को केन्द्र व राज्य सरकार की ओर से समय-समय पर जारी एडवाइजरी की शत प्रतिशत पालना सुनिश्चित करनी होगी। महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र संबंधित इकाई के उद्यमी, प्रबंधक व कार्मिकों की सूची, पता, मोबाइल नंबर, आईडी आवश्यक रुप से रखेंगे।

गौरतलब है कि गृह विभाग की ओर से 26 मार्च को जारी निर्देशों के क्रम में एसीएस उद्योग डॉ. सुबोध अग्रवाल द्वारा 26 मार्च को जारी निर्देशों के क्रम में दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। एसीएस उद्योग डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि राज्य स्तर पर अतिरिक्त निदेशक अविन्द्र लड्ढ़ा और संयुक्त निदेशक आरके आमेरिया को मॉनिटरिंग के लिए प्रभारी बनाया गया है। इसके साथ ही समन्वय के लिए संयुक्त निदेशक एसएस शाह और पीआर शर्मा व ऑनलाइन कंपनियों से समन्वय के लिए संयुक्त निदेशक संजय मामगेन को समन्वयक बनाया गया है। संयुक्त निदेशक संजीव सक्सेना को केन्द्र व राज्य सरकार से प्राप्त निर्देशों की मॉनिटरिंग व सीएसआर कंपनियों से समन्वय के लिए नोडल अधिकारी बनाया गया है।
डॉ. अग्रवाल ने बताया कि दिशा-निर्देशों की पालना सुनिश्चित कराने के साथ ही जिला उद्योग केन्द्रों को कंट्रोल रुम में नियमित सूचना भेजनी होगी। राज्य स्तर पर भी मॉनिटरिंग की व्यवस्था की गई है।

कोई टिप्पणी नहीं