Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

बाड़मेर, बाहरी राज्यों से आ रहे लोगों से अपनी जांच की अपील।

बाड़मेर, बाहरी राज्यों से आ रहे लोगों से अपनी जांच की अपील। बाड़मेर। जो भी व्यक्ति अन्य राज्यों या अपने राज्य के अन्य जिलों जिनमे...

बाड़मेर, बाहरी राज्यों से आ रहे लोगों से अपनी जांच की अपील।

बाड़मेर। जो भी व्यक्ति अन्य राज्यों या अपने राज्य के अन्य जिलों जिनमें कोरोनावायरस पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं उस स्थान से बाड़मेर आ रहे हैं, उन सब से अपील की जाती है कि आप अपनी नियमित जांच करवाएं ओर अपनी जानकारी अपने क्षेत्र कार्यरत कर्मचारियों को दें।

ज्यादा जानकारी के लिए इन मुख्य बिंदुओं को ध्यान से पढ़े :

1. यदि आपको कोरोना संदिग्ध होने के लक्षण जैसे कि सर्दी खांसी जुकाम बुखार इत्यादि नहीं है तो आपको किसी भी डॉक्टर या अस्पताल में जाकर जांच करवाने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि कोरोना के लक्षण आने से पहले ऐसी कोई जांच नहीं है जिससे कि पता लगाया जाए कि आपको कोरोना है या नहीं।

ऐसे स्वस्थ लोग जिनमें कोई भी लक्षण नहीं है वह अपने घर पर अन्य सदस्यों से 14 दिन तक अलग रहें, अपने दैनिक उपयोग की चीजों को भी अन्य सदस्यों से अलग रखें व परिवार व समाज के अन्य लोगों से कम से कम 2 मीटर की दूरी बनाए रखें।
अपने हाथ साबुन से अच्छी तरह से धोएं।
साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें ।
आपकी यही समझदारी आपके नजदीकी रिश्तेदारों एवं समाज में कोरोना फैलने से रोक सकती है।
2. यदि आप में कोरोना संदिग्ध होने के कोई भी लक्षण नहीं है और आप हॉस्पिटल में जाकर भीड़ बढ़ाते हैं , तो आपकी वहां पर संक्रमित होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए अनावश्यक हॉस्पिटल्स में जाकर स्वयं व अन्य लोगों में कोरोना होने की संभावना को ना बढ़ाएं।

3. यदि इन 14 दिन के दौरान आप में से किसी भी व्यक्ति को सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार या सांस लेने में दिक्कत जैसे लक्षण हो तो तुरंत इसकी सूचना अपने क्षेत्र के संबंधित महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता (ANM),  ग्राम सेवक या पटवारी को देवें, जिससे कि वह मेडिकल टीम को आपके घर भेज कर कोरोना की जांच करवाई जा सके।
4. यदि आपकी किसी भी मेडिकल टीम द्वारा राज्य या जिले की सीमा या घर पर स्क्रीनिंग कर ली गई है,  तो इसका मतलब यह कतई नहीं कि आप में कोरोना होने की कोई संभावना नहीं है ।
जांच होने के बावजूद भी आपको घर आकर 14 दिन तक होम आइसोलेशन यानी घर के अन्य सदस्यों से अलग रह कर कोरोना फैलने की संभावना को रोकना है।
5. मेडिकल टीम द्वारा बंदूक जैसी मशीन जिससे कि आपके ललाट की तरफ रखकर जो जांच की जा रही है, वह एक तरह का थर्मामीटर है।
वह सिर्फ यह जांच करने के लिए है, कि उस दौरान आप को बुखार है या नहीं। ना कि उससे कोरोना की कोई तरह की जांच होती है अतः अनावश्यक रूप से उस थर्मामीटर को कोरोनावायरस की जांच का अंतिम हथियार ना समझें।

कोई टिप्पणी नहीं