Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

गहलोत का विनम्र अनुरोध ''मूक पशु-पक्षियों में भी जीवन है, इन्‍हें भी बचायें''

गहलोत का विनम्र अनुरोध ''मूक पशु-पक्षियों में भी जीवन है, इन्‍हें भी बचायें'' कोरोना महामारी के चलते न केवल हर ...

गहलोत का विनम्र अनुरोध ''मूक पशु-पक्षियों में भी जीवन है, इन्‍हें भी बचायें''

कोरोना महामारी के चलते न केवल हर प्रदेशवासी बल्कि हर मूक पशु - पक्षी की जान बचाना हमारी टीम राजस्‍थान का संकल्‍प है।

''पशु-पक्षियों को दाना-पानी देना सदियों से हमारी संस्‍कृति रही है। कोरोना महामारी के कारण 21 दिन तक चलने वाले लॉकडाउन/स्‍वप्रेरणा कर्फ्यू के कारण गाय, भेड़, बकरी एवं अन्‍य मूक पशु - पक्षियों को खाना, दाना-पानी पहुंचने में रूकावट पैदा हो गयी है, जो हम सभी की चिंता बन गई है। मैं जानता हूं कि प्रदेश का हर व्‍यक्ति संवेदनशील है, मैं टीम राजस्‍थान के हर अहम सदस्‍य यानि प्रदेशवासी, पशु - पक्षियों के कल्‍याण के लिए काम करने वाली संस्‍थाओं, गौशालाओं, सभी उदारमना संगठनों और सरकारी साथियों से एक निजी अपील करता हूं कि ऐसी व्‍यवस्‍था की जाए कि इन प्राणियों को भी भोजन, चारा, दाना - पानी नियमित रूप से मिलता रहे। हमारी विरासत के अनुरूप चाहे जो करना पड़े पर एक - एक पशु - पक्षी की जान बचाने का भागीरथ संकल्‍प लें।' मेरी कल की अपील ''कोई गरीब भूखा न सोये'' पर आप सभी के अपार सहयोग से उत्‍साहित हूं। अशोक गहलोत, मुख्‍यमंत्री राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं