Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

कोरोना से निजात दिलाने को लगा रहा था झाड़ा, पाबंद कर लिखवाया माफीनामा।

कोरोना से निजात दिलाने को लगा रहा था झाड़ा, पाबंद कर लिखवाया माफीनामा। @अमेश बैरड़ जोधपुर/ओसियाँ। कोरोना वायरस का तोड़ तलाशने ...

कोरोना से निजात दिलाने को लगा रहा था झाड़ा, पाबंद कर लिखवाया माफीनामा।

@अमेश बैरड़
जोधपुर/ओसियाँ। कोरोना वायरस का तोड़ तलाशने के लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक दिनरात एक किए हुए है। वहीं कुछ लोग कोरोना जैसी महामारी को भी झाड़ा लगा कर भगाने का दावा कर अंधविश्वास फैला रहे है। इनके हौसले इतने बुलंद हो चुके है कि एक व्यक्ति ने तिंवरी के तहसीलदार को ही फोन कर कोरोना को झाड़ा देकर भगाने को आजमाने का निमंत्रण तक दे डाला। तहसीलदार ने वहां जाकर खुद झाड़ा लगवाया और बाद में इसे तथाकथित भोपे को पाबंद किया। उसने लिखित में आश्वासन दिया है कि वह अब भविष्य में कभी झाड़ा नहीं लगाएगा।

तिंवरी तहसीलदार दीपक सांखला के पास शुक्रवार को एक फोन आया, जिसमें स्वयं का नाम जगदीश पुत्र डुंगरराम बताने वाले व्यक्ति ने दावा किया कि वह सभी तरह की बीमारियों के झाड़ा लगाता है। हाल ही उसने मंत्रों के दम पर कोरोना जैसी महामारी से निजात दिलाने का झाड़ा सिद्ध किया है। उसने तहसीलदार को निमंत्रण दे डाला कि वे स्वयं आकर साक्षात देख ले। इस पर सांखला मथानिया क्षेत्र में स्थित उसके मकान पर पहुंचे। पहले तो जगदीश ने सांखला के भी झाड़ा लगाया। तहसीलदार सांखला चुपचाप उसकी प्रक्रिया को देखते रहे। बाद में उन्होंने पुलिस को बुला लिया। पुलिस को देखते ही जगदीश के होश फाख्ता हो गए। वह बार-बार माफी मांगने लगा। सांखला ने उसे समझाया कि ग्रामीणों को वह इस तरीके से बेवकूफ न बनाए। इसके साथ ही उन्होंने जगदीश से लिखित में माफीनामा भी लिखवाया। इसमें जगदीश ने लिखा कि उसने कई लोगों के कोरोना का झाड़ा लगाया। अब सांखला ने मुझे वास्तविकता से अवगत करवा दिया है। में आश्वासन देता हूं कि भविष्य में किसी के भी झाड़ा नहीं लगाऊंगा। भविष्य में यदि झाड़ा देता हुआ मिला तो मेरे खिलाफ कठोर कानूनी कार्यवाही की जाए। इसके बाद सांखला ने उसे पाबंद कर छोड़ दिया। साथ ही क्षेत्र के लोगों व पुलिस से उस पर नजर रखने को कहा है।

कोई टिप्पणी नहीं