Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

पश्चिमी शरहद को संक्रमणमुक्त करने में मददगार बने किशोरसिंह कानोड़।

पश्चिमी शरहद को संक्रमणमुक्त करने  में मददगार बने किशोरसिंह कानोड़। बाड़मेर। जिले के बायतु उपखण्ड क्षेत्र का एक गांव जिसको आप सभी...

पश्चिमी शरहद को संक्रमणमुक्त करने  में मददगार बने किशोरसिंह कानोड़।

बाड़मेर। जिले के बायतु उपखण्ड क्षेत्र का एक गांव जिसको आप सभी भली भांति जानते हैं। जानते क्यों नहीं इन दिनों वैश्विक महामारी बन चुके कोरोना को लेकर पूरी दुनियां में त्राहि मची हुई हैं ऐसे में प्रदेश तो क्या किसी गांव ढाणी शहर को सरकार या भामाशाहों के सहयोग से कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए सेनेट्राइजर कैमिकल के छिड़काव से दिन - रात प्रयास किए जा रहें। बताया जा रहा हैं कि इस संकट में संक्रमण से बचाव में यही कैमिकल कारगर साबित होता हैं। ऐसे में इस कैमिकल की एकाएक बढ़ी खपत के बाद से प्रोडक्शन नहीं होने के कारण बाज़ार में आसानी से उपलब्ध नहीं हो रहा है। ऐसे में भामाशाह ही आगे आकर इस विकट समस्या से आमजन को उबरने के लिए सहयोग कर रहे हैं। ऐसे ही भामाशाहों में से एक हैं किशोर सिंह कानोड़ जिन्होंने जैसलमेर, बाड़मेर, जालोर शहरों के अलावा पुलिस विभाग के थानों को सेनेट्राइज के लिए केमिकल उपलब्ध करवाया। साथ ही जिले भर की कई ग्राम पंचायतों को भी सेनेट्राइज करने के लिए कैमिकल उपलब्ध करवाया।

किशोर सिंह कानोड़ उस समय भामाशाह बनकर आगे आए जब राजस्थान के सरहदी जिलों में कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर लोगो में जबरदस्त भय था। इस महामारी में किसी अनहोनी से लोगो के मन में वायरस को लेकर कई आशंकाएं घर कर गयी थी। लॉक डाउन के बाद भी लोग कोरोना वायरस के संक्रमण के अनजाने भय से खौफजदा थे। ऐसे में युवा उधमी किशोर सिंह कानोड़ ने लोगो के मन से कोरोना के डर को खत्म करने और लोगो को जागरूक करने के उद्देश्य से बाड़मेर, जैसलमेर और जालोर जिलों को पूर्णत सेनेट्राइज कर लोगो को सुरक्षित करने की पहल की। बाड़मेर शहर को करीब पांच हजार सोडियम हाइपो क्लोराइड से पूर्णतः सेनेटाइज करवाया। राजस्थान में बाड़मेर पूर्णत सेनेटाइज होने वाला पहला जिला था। बाड़मेर शहर सेनेट्राइज होने के बाद लोग खुद को सुरक्षित समझने लगे साथ ही इस जंग से लड़ने का आत्म विश्वास भी लौट आया। ऐसे ही भामाशाह किशोर सिंह कानोड़ ने बालोतरा ,जैसलमेर और जालोर जिलों को सेनेट्राइज करवाने में भी अपना योगदान दिया। बालोतरा सहित जालोर और जैसलमेर जिला प्रशासन को हाइपो क्लोराइड की खेफ भेज सेनेट्राइज कराने में सहयोग किया। इस आपदा की घड़ी में कानोड़ अपने सरहदी जिलों की आम ओ अवाम के साथ मदद में खड़े रहकर उनको कोरोना संक्रमण के खिलाफ जंग लड़ने में हौसला अफ़ज़ाई की। इस तरह हजारों लीटर हाईपो क्लोराइड केमिकल किशोर सिंह कानोड़ ने उपलब्ध कराया, इसकी कीमत का तो पता नहीं मगर बताया जा रहा हैं कि इसकी जीएसटी लाखो रुपयों में आई हैं। आपदा की इस स्थति से इन सरहदी जिलों को उबारने के लिए जिस तरह किशोर सिंह कानोड़ दूत बनकर आये लोग उनको साधुवाद दे रहे।

कोई टिप्पणी नहीं