Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

लॉक डाउन में वरदान साबित होगा राज कनेक्ट एप्प।

लॉक डाउन में वरदान साबित होगा राज कनेक्ट एप्प। - प्ले स्टोर पर उपलब्ध राज कनेक्ट एप से कई समस्याओं का समाधान। -क्लोज ग्रुप म...

लॉक डाउन में वरदान साबित होगा राज कनेक्ट एप्प।

  • - प्ले स्टोर पर उपलब्ध राज कनेक्ट एप से कई समस्याओं का समाधान।
  • -क्लोज ग्रुप में वीडियो कॉन्फ्रेसिंग से लेकर फ़िल्म देखने, गेम खेलने, लाइव स्ट्रीमिंग, चैटिंग के हैं ऑप्शन।

बाड़मेर। कोरोना लॉक डाउन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए दफ्तर, स्कूल या प्रोजेक्ट के काम की चुनौती, बोरियत और ऎसे ही दूसरी समस्याओं के समाधान के लिए सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग की ओर से विकसित राज कनेक्ट एप वरदान साबित हो रहा है।इसके जरिए वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग मोडयूल फीचर को सरकारी कार्मिकोंं के साथ आम नागरिक भी इस्तेमाल कर सकते है।

सूचना प्रोद्योगिकी एवं संचार विभाग के उप निदेशक मोहन कुमार सिंह चौधरी ने बताया कि लॉक डाउन काल के दौरान कई विद्यालयों एवं ट्यूशन शिक्षकों की ओर से विभिन्न प्लेटफार्म का उपयोग कर ऑनलाइन क्लासेज भी चालू की गई हैं। इनमें से कई प्लेटफार्म अथवा ऎप सुरक्षित नहीं है। जैसा कि चाइना में विकसित जूम एप के बारे में गृह मंत्रालय ने एडवाइजरी भी जारी की है। राज कनेक्ट एप सूचना प्रोद्योगिकी एवं संचार विभाग की.ओर से विकसित किए जाने के कारण सुरक्षित है। उन्होंने बताया कि इस ऎप जरिए वीडियो कॉन्फ्रेंन्सिंग मोबाइल एवं डेस्कटॉप दोनों माध्यमों से की जा सकती है। हालांकि अभी इस एप के जरिए आम नागरिक एक सीमित संख्या में ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का लाभ ले सकते हैं, लेकिन यह सुरक्षित है। दूसरी ओर सौ से ज्यादा अधिकारी-कर्मचारी इसके जरिए एक साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस में कनेक्ट हो सकते हैं। इसके अलावा दर्जनों की संख्या में उपलब्ध मूवी देखने, गेम खेलने, न्यूज चैनल या टीवी देखने के लिए भी इस ऎप का उपयोेेग किया जा सकता है। चौधरी ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न स्थितियों से मुकाबले के लिए किये जा रहे विभिन्न प्रयासों के तहत सूचना प्रोद्योगिकी एवं संचार विभाग ने इस ऎप को विकसित किया है। इस एप के उपयोग से कई प्रकार की सूचनाओं का एकत्रण एवं संधारण भी किया जा सकता है। इससे सूचनाओं के त्वरित विश्लेषण के जरिए एक्शन प्लान निर्धारित करने में बहुत सहायता मिल सकती है। चौधरी ने बताया कि इस एप को आम नागरिकों, बीएलओ, ई मित्र संचालक, सरकारी अधिकारी - कर्मचारी के साथ कोविड-19 के कारण होम क्वारेंटाइन में रह रहे लोग भी इस्तेमाल कर सकते है।

कोई टिप्पणी नहीं