Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

डोर टू डोर कोरोना वायरस में सर्वे की अहम जिम्मेदारी निभा रही आशा सहयोगिनी।

डोर टू डोर कोरोना वायरस में सर्वे की अहम जिम्मेदारी निभा रही आशा सहयोगिनी। @राम प्रसाद सैन जोधपुर/भोपालगढ। गर्भवती महिला से...

डोर टू डोर कोरोना वायरस में सर्वे की अहम जिम्मेदारी निभा रही आशा सहयोगिनी।

@राम प्रसाद सैन
जोधपुर/भोपालगढ। गर्भवती महिला से लेकर बच्चे के जन्म के साथ उसकी स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए सभी प्रकार के टीकाकरण का जिम्मा निभाने वाली आशा सहयोगिनी समाज में हर मोर्चें पर कोरोना वॉरियर्स के रूप में सामेन आई है। कोरोना वायरस को लेकर चिकित्सा विभाग के घर-घर सर्वे अभियान से लेकर समाज सेवा के लिए निःशुल्क मास्क बनाकर कोरोना वायरस संक्रमण से सुरक्षा में अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन कर रही है। अपने दायित्वों के निर्वहन के साथ घर की सभी जिम्मेदारियों का भी निर्वहन कर परिवार के सदस्यों की देखभाल का जिम्मा भी ये सभी आशा सहयोगिनी कुशलता से निभा रही है। भोपालगढ़ ब्लॉक में 203 आशा सहयोगिनी लगी हुई है। ऐसे में सभी आशा सहयोगीनी ने कोरोना वायरस के तहत अहम भूमिका निभाते हुए डोर टू डोर दो बार भोपालगढ ब्लॉक क्षेत्र में 40 हजार घरो में सर्वे कर कोरोना वायरस की महामारी में अहम भूमिका निभाई है।इस दौरान आशा सहयोगिनी गोमी कुड़िया, सेठु गोदारा, सन्तोष, बेबी, कौशल्या ने बताया कि सरकार आशा सहयोगिनी को नियमित करते हुए हमारा मानदेय भी बढ़ाये। 

सैलरी नाम मात्र की, काम सबसे ज्यादा
आशा सहयोगिनी को सरकार की ओर से 2500 रुपये व इस बार बजट में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ₹200 और बढ़ाये है। ऐसे में ₹2700 प्रति माह न्यूनतम नाम मात्र की मजदूरी में आशा सहयोगिनी कोरोना वायरस के तहत डोर टू डोर दो बार भोपालगढ़ ब्लॉक में सर्वे कर चुकी है। ऐसे में कई बार इन कार्मिकों ने अपने वेतन बढ़ाने की सरकार से मांग की है लेकिन सरकार ने इसकी एक नहीं सुनी। वहीं दूसरी और कोरोनावायरस जैसी महामारी में सबसे ज्यादा जमीनी स्तर पर काम करने के लिए डोर टू डोर सर्वे में इन कार्मिकों का सहयोग लिया गया।

कोई टिप्पणी नहीं