Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

मूक प्राणियो की सेवा सबसे बड़ा धर्म : माली

मूक प्राणियो की सेवा सबसे बड़ा धर्म : माली  बाड़मेर। मूक प्राणीमात्र की सेवा करना सबसे बड़ा धर्म है। जीव दया नारायण सेवा है यह बा...

मूक प्राणियो की सेवा सबसे बड़ा धर्म : माली 

बाड़मेर। मूक प्राणीमात्र की सेवा करना सबसे बड़ा धर्म है। जीव दया नारायण सेवा है यह बात नगर परिषद बाड़मेर के सभापति दीपक माली ने जीव दया मैत्री ग्रुप बाड़मेर द्वारा संचालित चल भोजनशाला द्वारा मूक प्राणियों के लिए उपलब्ध कराये जा रहे आहार को वितरीत करते हुए कही।
जीव दया मैत्री ग्रुप बाड़मेर के संयोजक समाज सेवी एड़वोकेट मुकेश जैन ने बताया कि जीव दया मैत्र ग्रुप बाड़मेर ने आज मोक्ष धाम, नंदी गौशाला, गोपाल गोशाला में नंदी एवं गाय के लिए हरि सब्जी, ककड़ी, गाजर, एवं खरबुजे के 3 टेम्पो उपलब्ध कराए जिसे नगर परिषद बाड़मेर के सभापति ने हरि झण्डी दिखाकर रवाना किया एवं स्वयं सभापति ने अपने हाथों से गोवंश को आहार खिलाया। संयोजक मुकेश जैन ने सभापति को जीव दया मैत्री ग्रुप बाड़मेर द्वारा चलायी जा रही चल भोजनशाला के बारे मे विस्तृत जानकारी प्रदान की। इस अवसर पर जीव दया मैत्री ग्रुप बाड़मेर के वरिष्ठ सदस्य छगन घीया एवं मदन बोथरा ने बताया कि 3 अप्रेल से लगातार जीव दया मैत्री ग्रुप द्वारा पंछीयो के दाना श्वानो के लिए रोटी, नंदी एवं गाय के लिए सब्जी, हरि घास , रोटी- गुड़, मोर के लिए चना, कौवो के लिए गाढियां, एवं मछलियो के लिए गोली, वितरीत की जा रही है।  
जीव दया मैत्री ग्रुप बाड़मेर के वरिष्ठ सदस्य रमेश सर्राफ एवं रमेश पारख ने बताया कि आज शहर के विभिन्न क्षैत्रो डाक बंगला, इन्दिरा सर्कल, न्यू अम्बेडकर सर्कल, जसदेर तालाब, सफेद आकड़ा मन्दिर, सुभाष चौक, कृषि मण्डी, सिणधरी चौराहा, हाई स्कूल, स्टेडियम स्थित चुग्गा स्थल पर पंछियो को ज्वार एवं बाजरी उपलब्ध कराई गई, साथ ही शहर के विभिन्न क्षैत्रो मे गाय एवं नंदी-पशु आहार एवं श्वानो को रोटी वितरीत की गई एवं पंछियो के लिए परिण्डे लगाए गए। 
मदन बोथरा, छगनलाल घीया, संयोजक एडवोकेट मुकेश जैन, धनराज भंसाली, गौतम छाजेड़, रमेश सर्राफ, रमेश पारख, संजय संखलेचा संहित प्रवीण सेठिया, मुकेश बोहरा, सुरेश घीया, महावीर संखलेचा, संजय जसाई, नेमीचन्द छाजेड़, गणपत संखलेचा, नरेश धारीवाल, बाबुलाल लुणिया, दिक्षित बोथरा, गौतम सिंघवी, दिनेश बोहरा, राकेश बोहरा, पवन मालु, रमेश महेश्वरी, घेवर घीया, गौतम सिघवी, मनीष छाजेड़ संहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं