Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

जैसलमेर। राजकीय अस्पताल में चिकित्सकों ने की अनूठी पहल।

जैसलमेर,  राजकीय अस्पताल में चिकित्सकों ने की अनूठी पहल। - ड्यूटी के बाद खुद अस्पताल में बना रहे है खाना। - लॉकडाउन के बीच क...

जैसलमेर, राजकीय अस्पताल में चिकित्सकों ने की अनूठी पहल।

  • - ड्यूटी के बाद खुद अस्पताल में बना रहे है खाना।
  • - लॉकडाउन के बीच कोई मरीज और तीरमदार न सोए भूखा।
  • - इस कार्य मे डॉक्टर, कम्पाउंडर, नर्स, लेब टेक्शियन दे रहे हैं सहयोग।

@नवीन वाधवानी
जैसलमेर। वैश्विक महामारी का रूप ले चुका कोविड-19 से आज के परिप्रेक्ष्य में हर कोई अपने अपने तरीके से लड़ रहा है। इमरजेंसी ड्यूटी में लगे स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सक और कर्मचारी कोरोना से सीधे मोर्चा ले रहे हैं, तो कुछ ऐसे अधिकारी एवं कर्मी भी हैं जो सीधे मरीजों से तो मोर्चा नहीं ले रहे हैं। लेकिन, पर्दा के पीछे से महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ जंग लड़ने में चिकित्सा कर्मियों की भूमिका अहम है। ऐसे में एक चिकित्साकर्मी ऐसे भी हैं, जो कोरोना वायरस को फैलाने से रोकने के लिए दिन-रात जुटे हुए हैं। अपनी ड्यूटी के साथ चिकित्सा विभाग की टीम मरीजों, तीरमदारो व अन्य लोगो को भोजन करवा रहे है ताकि वह इस लॉकडाउन के बीच भूखा न सोए, ऐसा सिर्फ इसलिए, ताकि आप और हम सुरक्षित रह सकें। जी हां मामला है जैसलमेर के राजकीय जवाहर अस्पताल का जहा एक तरफ अस्पताल में विभाग के कुछ कर्मी दिन भर अस्पताल में सेवाएं देते है मरीजों की दिन रात सेवा करते है। उसके बाद अपनी ड्यूटी के बाद घर नहीं जाते बल्कि अस्पताल के परिसर में भामाशाहो के सहयोग से रसोई की शुरू की है, जिसमे डॉक्टर, कम्पाउंडर, नर्स, लेब टेक्शियन कई विभाग के कर्मी अपनी सहयोग देकर खाना बना रहे ताकि कोई भूखा न सोए। अस्पताल में कोई मरीज या तीरमदार अस्पताल विभाग के टीम को खाना बनाते चौक जाते है वह सोचते है की अभी यह हमारा इलाज कर रहे थे अभी खाना बना रहे। आमजन चिकित्सा विभाग के इन कर्मवीरो की भूरी भूरी तारीफ़ कर रहे है। 
राजकीय जवाहर अस्पताल में यह कर्मवीर किसी भगवान से कम नहीं नजर आ रहे जो इलाज के साथ - साथ खाना भी खिला रहे। मेडिकल स्टाफ द्वारा किया जा रहा यह कार्य बेहद तारीफ ए काबिल है।

कोई टिप्पणी नहीं