Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

सेवा का ऐसा जज्बा कि सूचना मिलते ही दौड़ पड़ते है एम्बुलेंस कर्मी।

सेवा का ऐसा जज्बा कि सूचना मिलते ही दौड़ पड़ते है एम्बुलेंस कर्मी। - कोरोना से लड़ाई में सुरक्षा बलों की तरह 24 घंटे जुटे है 10...

सेवा का ऐसा जज्बा कि सूचना मिलते ही दौड़ पड़ते है एम्बुलेंस कर्मी।

- कोरोना से लड़ाई में सुरक्षा बलों की तरह 24 घंटे जुटे है 108 एम्बुलेंस के कार्मिक
बाड़मेर। कोरोना वायरस की महामारी से निपटने में प्रदेश में जीवन वाहिनी निःशुल्क 108 एवं 104 आपातकालीन एम्बुलेंस सेवा करीब 6000 कर्मचारी दिन रात मेहनत कर रहे है। लॉक डाउन में कोरोना वॉरियर्स के रूप में मरीजों की जान बचाने के साथ संदिग्ध मरीजों को क्वारेंटाइन में भेजने का जिम्मा भी कर्तव्यनिष्ठा के साथ संपादित कर रहे है।
प्रदेश में जीवीकेईएमआरआई कंपनी राजस्थान सरकार के सहयोग से 24 घंटे निःशुल्क 108 एवं 104 जीवन वाहिनी की 1477 एम्बुलैंस का संचालन कर रही है। जीवन वाहिनी सेवा कोरोना संदिग्ध मरीजों को अस्पताल के अलावा मेडिकल कॉलेज में भी भर्ती करवा रहे है। एम्बुलेंस स्टाफ पॉजिटिव से नेगेटिव आने के बाद वापिस मरीजों को घर में छोड़ने जैसे मुश्किल काम को बखूबी अंजाम दे रहे है। जीवन वाहिनी निशुःक सेवा 1 मार्च से 18 अप्रैल तक प्रदेश में 13200 से अधिक कोरोना संदिग्ध मरीजों को अस्पताल छोड़ चुकी है। इस अवधि के दौरान जीवन वाहिनी सेवा कोरोना मरीजों के अतिरिक्त प्रदेश में 1,55,000 से अधिक मरीजों को सेवा दे चुकी है। यह 24 घंटे मुस्तैद रहने के साथ जीवन वाहिनी एम्बुलेंस कोरोना वायरस मरीजों को हायर सेंटर में भी पंहुचा रही है। जयपुर स्थित जीवन वाहिनी कॉल सेंटर के कर्मचारी भी अपने कर्तव्य का निष्ठा से पालन करते हुए आपातकालीन स्थिति में एम्बुलेंस को डिस्पैच करवा रहे है। कुछ लोग आपातकालीन स्थिति नहीं होने पर भी बेवजह 108, 104 पर कॉल कर रहे है उन सभी से अपील की जाती है कि सिर्फ आपातकालीन स्थिति में ही 108,104 पर कॉल करे। जीवीकेईएमआरआई के स्टेट हैड प्रवीण सावंत का कहना है कि जीवन वाहिनी एम्बुलेंस कर्मचारी फ्रंट लाइन पर कोरोना महामारी से लड़ने के लिए 24 घंटे 7 दिन फील्ड में खड़े है। एम्बुलेंस कर्मी घर परिवार से दूर रहकर सेवाओं में जुटे हुए है। सुरक्षा इंतजाम को लेकर कंपनी एवं राजस्थान सरकार संसाधन उपलब्ध करवा रही है। उन्होंने कोरोना से निपटने के लिए कॉल सेंटर में कार्यरत कार्मिकों, ईएमटी पायलट, चालकों एवं अन्य स्टाफ के साथ राजस्थान सरकार, पुलिस, मीडिया का आभार जताया है। बाड़मेर जिले में 50 एम्बुलैंस सेवाएं दे रही है। इनकी ओर से 1 मार्च से 18 अप्रैल तक 5275 मरीजों को सेवाएं उपलब्ध कराई गई। इसमें 178 कोरोना संदिग्ध तथा 5097 अन्य मरीज शामिल है।

कोई टिप्पणी नहीं