Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

अफवाह फैलाने वालों के विरूद्ध त्वरित कार्यवाही होगी।

अफवाह फैलाने वालों के विरूद्ध त्वरित कार्यवाही होगी। बाड़मेर। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक भगवान लाल सोनी ने कोरोना वायरस संक्रमण बचा...

अफवाह फैलाने वालों के विरूद्ध त्वरित कार्यवाही होगी।

बाड़मेर। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक भगवान लाल सोनी ने कोरोना वायरस संक्रमण बचाव से संक्रमित विभिन्न व्यवस्थाओं के अन्तर्गत लॉक डाउन, क्वारेंटाइन एवं अन्य प्रबन्धों के लिए दिए गए निर्देशों का पालन नहीं करने वाले तथा कोरोना संक्रमण से संबंधित दुष्प्रचार करने वाले व्यक्ति, व्यक्तियों के समूह, संस्था तथा कम्पनी के विरूद्ध कानूनी कार्यवाही करने के लिए एडवाइजरी की है।
एडवाइजरी के मुताबिक यदि कोई कोविड-19 वायरस महामारी संक्रमण के संबंध में सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार करता है अथवा भ्रामक जानकारी प्रसारित करता है, झूठा क्लेम करता है या झूठे संदेश प्रसारित करता है या अफवाह फैलाता है जिससे इस महामारी के बारे में भ्रम और आमजन में भय की स्थिति उत्पन्न हो तो उस व्यक्ति या संबंधित के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 188, 270, 505 तथा आपदा प्रबन्धन अधिनियम की धारा 52 के तहत  कार्रवाई की जाएगी। इसी तरह लॉक डाउन के दौरान सरकारी दिशा-निर्देशों तथा धारा 144 सी.आर.पी.सी. का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के विरूद्ध कार्यवाही की जा सकती है। यदि कोई कोरोना वायरस के संक्रमण को लापरवाही पूर्वक फैलाने या इसके रोकने के उपायों की उपेक्षा करने वाले के विरूद्ध भा.द.सं. की धारा 188 एवं इस महामारी के संक्रमण को जान बूझकर फैलाने वालों के विरूद्ध भा.द.सं. की धारा 270 और क्वारेंटाईन नियमों का जान बूझकर उल्लंघन करने वालों के विरूद्ध भा.द.सं. की धारा 271 के तहत कार्रवाई की जाएगी। यदि कोई पुलिस, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, अर्द्ध सैनिक बलों के कर्मचारियों, होमगार्ड्स, सफाई कर्मचारियों के साथ मारपीट करता है या उसके राजकार्य में बाधा पहुंचाता है तो उस व्यक्ति के विरूद्ध भा.द.सं. की धारा 186, 332, 353 एवं आपदा प्रबन्धन अधिनियम की धारा 51 के तहत कार्यवाही की जा सकती है। इसके अतिरिक्त कोई व्यक्ति किसी भी अस्पताल कर्मी, चिकित्साकर्मी, चिकित्सक, नर्सिंग स्टाफ, लेब तकनीशियन, सफाई कर्मचारी से दुर्व्यवहार, मारपीट करता है या उसके कार्य में बाधा पहुंचाता है तो राजस्थान स्वास्थ्य सेवाएं के नियम 4 के तहत कार्यवाही की जाएगी। यदि कोई दुकानदार कालाबाजारी करता है या किसी वस्तु को अंकित मूल्य से अधिक मूल्य पर बेचता है तो आवश्यक सेवा वस्तु अधिनियम के तहत कार्यवाही होगी। यदि कोई लॉक डाउन दौरान धार्मिक भावनाएं भड़काता है या धार्मिक उन्माद पैदा कर जनता को ठेस पहुंचाता है तो उसके खिलाफ भा.द.सं. की धारा 153 (क) तथा 295 (क) के तहत कार्यवाही की जाएगी। एडवाइजरी के अनुसार यदि कोई ऐसी झूठी चेतावनी या झूठी धमकी देता है जिससे आमजन में कोविड-19 वायरस महामारी के संक्रमण के बाबत आंतक या भय की स्थिति उत्पन्न होती है तो उसके खिलाफ भा.द.सं. की धारा 188 एवं आपदा प्रबन्धन अधिनियम की धारा 52 के तहत कार्यवाही की जा सकेगी। अतिरिक्त महानिदेशक सोनी ने इससे संबधित प्रकरणों में पुलिस विभाग के अधिकारियों को अविलम्ब विधिक कार्यवाही करने के निर्देश जारी किए है।

कोई टिप्पणी नहीं