Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

संदिग्ध व्यक्तियों को उपखंड मजिस्ट्रेट, पुलिस या अस्पताल में सूचना देने के निर्देश।

संदिग्ध व्यक्तियों को उपखंड मजिस्ट्रेट, पुलिस या अस्पताल में सूचना देने के निर्देश। - जानकारी छुपाने पर संबंधित व्यक्ति के खिला...

संदिग्ध व्यक्तियों को उपखंड मजिस्ट्रेट, पुलिस या अस्पताल में सूचना देने के निर्देश।

- जानकारी छुपाने पर संबंधित व्यक्ति के खिलाफ पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज होगा।
बाड़मेर। जिला कलक्टर विश्राम मीणा ने कोरोना की रोकथाम के लिए बाड़मेर जिले में मरकट से लौटे एवं अन्य संक्रमित राज्यों एवं जिलों से लौटे व्यक्तियों से अपने बारे में सूचना संबंधित उपखंड मजिस्ट्रेट, पुलिस अथवा राजकीय चिकित्सा संस्थान को सूचना देने के निर्देश दिए है। इस बारे में जानकारी छुपाने पर संबंधित व्यक्ति के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज कराया जाएगा।
जिला कलक्टर विश्राम मीणा ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन एवं संयुक्त राष्ट्र संघ की ओर कोरोना वायरस संक्रमण को महामारी घोषित किया गया है। इसके मददेनजर गृह मंत्रालय भारत सरकार की ओर से 24 मार्च को पूरे देश में 14 अप्रैल तक लॉक डाउन घोषित किया गया है। बाड़मेर जिले में कोरोना के संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए धारा 144 लागू की गई है। जिला कलक्टर मीणा ने बताया कि बाड़मेर जिले में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से घर-घर करवाए गए सर्वे के बावजूद काफी संख्या में ऐसे व्यक्तियों के सर्वे से वंचित रहने की आशंका है। जो नई दिल्ली की निजामुददीन दरगाह मरकज, कोरोना संक्रमित देशों, भारत के अन्य संक्रमित राज्यों अथवा प्रदेश के अन्य जिलों से 1 जनवरी 2020 के बाद यात्रा करके लौटे है। इससे बाड़मेर जिले में कोरोना वायरस से व्यक्तियों के संक्रमित होने की आशंका है। जिला कलक्टर ने बताया कि ऐसे व्यक्ति,जो नई दिल्ली की निजामुददीन दरगाह मरकज, कोरोना संक्रमित देशों, भारत के अन्य संक्रमित राज्यों अथवा प्रदेश के अन्य संक्रमित जिलों से आए है। वे 10 अप्रैल तक अपनी संपूर्ण जानकारी संबंधित उपखंड मजिस्ट्रेट, पुलिस अथवा राजकीय चिकित्सा संस्थान को उपलब्ध करवा देंवे।
उन्होंने बताया कि इस अवधि के बाद भी अगर यह जानकारी में आया कि ऐसे व्यक्तियों की ओर से जानबूझकर जानकारी नहीं दी गई है। उनकी ओर से तथ्यों को छिपाया गया है, तो ऐसे व्यक्तियों के खिलफ आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005, राजस्थान एपिडेमिक डिजिज एक्ट 1957 एवं भारतीय दंड संहिता की सुसंगत धाराओं के तहत मामला दर्ज करने की कार्रवाई की जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं