Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिले भर के सरपंचो से लिए फ़ीडबैक।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिले भर के सरपंचो से लिए फ़ीडबैक। @मुकेश पाल सिंह सिरोही/पिंडवाड़ा। पचायत समिति सभागार मे वि...

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिले भर के सरपंचो से लिए फ़ीडबैक।

@मुकेश पाल सिंह
सिरोही/पिंडवाड़ा। पचायत समिति सभागार मे विकास अधिकारी हनुवीर सिंह विशनोई की अध्यक्षता मे पंचायत समिति के सरपंचों की वीसी आयोजित हुई। वीसी के बाद मे बीडीओ ने सरपंचों को कार्य करने को कहा। इस मौके पर वीराराम मीणा सहायक कृषि अधिकारी  रोहिडा, दिनेश कुमार सहायक कृषि अधिकारी पिणडवाडा, नरपत सिंह कृषि प्रर्यवक्ष सिवेरा, नया सानवाड़ा सरपंच अलका रावल, पेशुआ सरपंच मनोहर दान गढवी उपस्थिति थे।जिला कलक्टर भगवती प्रसाद ने कलेक्ट्रेट स्थित राजीव गांधी सेवा केन्द्र में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिले की समस्त ग्राम पंचायतों के सरपंचों से कोरोना महामारी के सम्बंध में फीडबैक व सुझाव लेने के लिए संवाद किया एवं उन्हें आवश्यक निर्देश दिए। यह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग सोशियल डिस्टेसिंग को ध्यान में रखते हुए तीन चरण क्रमश दोपहर 2 बजे से 2.30 बजे तक, 2.30 बजे से 3 बजे तक एवं 3 बजे से 3.30 बजे तक रखी गई। जिला कलक्टर ने सरपंचों से संवाद करते हुए निर्देश दिए कि गांवों में आने वाले प्रवासियों व अन्य जनों पर निगरानी रखी जाए ताकि प्रवासियों के क्वारंटाइन व आइसोलेशन की जानकारी मिल सके। उन्होंने निर्देश देते हुए बताया कि बाहर से आने वाले प्रवासी होम क्वारंटाइन है या नहीं इसका ध्यान रखें और यदि क्वारंटाइन में नहीं पाया जाते है तो उनके विरूद्ध एफआईआर दर्ज करवाई जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि मोबाइल का जीपीआरएस चालू रखे जिससे उनकी गतिविधियों का ध्यान रखा जा सके और इस कार्य में किसी प्रकार की कौताही नहीं बरती जाए और सरकार द्वारा जारी आदेशो व निर्देशो की पालना सुनिश्चित हों सके इस बात का विषेष ध्यान रखा जाए।

जिला कलक्टर ने निर्देशित किया कि अन्य राज्यों से आए हुए प्रवासी व्यक्तियों को क्वारंटाइन अवधि में अनिवार्य रूप से घरों में रहने एवं नियमों की पालना करने के लिए पाबंद किया जाए। यदि कोई व्यक्ति घर से बाहर घुमता हुआ पाया जाए तो उसे शेष अवधि में ग्राम के क्वारंटाइन सेंटर पर अनिवार्य रूप से रखा जाए।
उन्होंने सरपंचों से संवाद में गांवो के ग्राम निगरानी समिति, ग्राम रक्षक दल के सदस्यों से समन्वय स्थापित कर गाँव की कोरोना महामारी से सुरक्षा करने हेतु प्रेरित किया तथा कोविड-19 के परिस्थियों के मध्यनजर सरकार द्वारा प्रतिपादित क्वारंटाइन नियमों की पूर्ण पालना करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि संक्रमण की स्थिति से बचना है तो होम क्वारंटाईन में रहना जरूरी है। उन्होंने सरपंचों से आव्हान किया इस संक्रमण को फैलने से रोकने में इनकी महत्ती भूमिका है और ग्राम पंचायत की सुरक्षा करना इनकी जिम्मेदारी है। उन्होंने निर्देश दिए कि ग्रामों में लगे हैण्डपम्पों पर भीड़ एकत्रित नहीं हो, इसके लिए पानी भरने का समय गलीवार तय किया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि टिड्डी दल आने की संभावना के मध्यनजर सभी तैयारियां पूर्व में ही सुनिश्चित की जाए क्योकि समीपवर्ती जिलों में टिड्डी दल आने की सूचनाएं प्राप्त हो रही है, इसके मध्यनजर सतर्क रहना अतिआवश्यक है इसके लिए टिड्डी दल यदि आ जाता है तो उसकी सूचना तुरन्त की कृषि विभाग के अधिकारियों को देंवे ताकि टिड्डी दल पर ऑपरेशन शुरू किया जा सके और इसमें सभी का एक जुट होकर कार्य करना आवश्यक है। मनरेगा के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों एवं प्रवासियों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने, मनरेगा मजदूरों को जल, छाया व दवाई उपलब्ध करवाए जाने और पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित किए जाने के बारे में जानकारी ली। उन्होंने निर्देश दिए कि बाहर से आए हुए व्यक्ति यदि होम क्वारंटाईन में है, तो उसके परिवार के सदस्यों को 14 दिन बाद मनरेगा के कार्य पर लगाया जाए। उन्होंने मनरेगा कार्य स्थल पर भोजन के समय श्रमिककण एक साथ एकत्रित होकर भोजन नहीं करें यह सुनिश्चित किया जाए साथ ही कार्यो पर आवागमन करते समय वाहनों पर निर्धारित दूरी बनाकर ही वाहनों में बैठे।
जिला पुलिस अधीक्षक कल्याणमल मीणा ने संवाद करते हुए कहा कि गांवों में आने वाले प्रवासियों की सूचना बीट कास्टेबल को देवे और उसे होम क्वारटाईन की पालना सुनिश्चित करें। होम क्वांरटाईन की पालना नहीं करने पर कानूनी कार्यवाही की जाएगी।
इस संवाद के दौरान मुख्य कार्यकारी अधिकारी भागीरथ विष्नोई, कृषि विस्तार उप निदेशक उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं