Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

पनावड़ा के कर्मवीर डॉक्टर दंपति जोधपुर में दें रहें हैं सेवा।

पनावड़ा के कर्मवीर डॉक्टर दंपति जोधपुर में दें रहें हैं सेवा। बाड़मेर। जिले के बायतु उपखंड क्षेत्र के छोटे से गांव पनावड़ा निवासी ...

पनावड़ा के कर्मवीर डॉक्टर दंपति जोधपुर में दें रहें हैं सेवा।

बाड़मेर। जिले के बायतु उपखंड क्षेत्र के छोटे से गांव पनावड़ा निवासी डॉक्टर पति-पत्नी कोरोना हॉटस्पॉट जोधपुर में अपना फर्ज निभा रहे हैं। जैसा कि आप सब जानते ही हैं चाइना के वुहान शहर से निकले कोरोना नामक वायरस के संक्रमण से पूरी दुनियां त्रस्त हैं। इस वायरस के संक्रमण से मानव जीवन को विश्वभर में भारी क्षति पहुंची हैं और अभी भी इसका कहर दुनियां के लगभग 200 से ज्यादा देशों में जारी हैं। हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस संक्रमण से होने वाली बीमारी को महामारी घोषित किया हैं, पर जब तक सब संभलते उससे पहले ही विश्व शक्ति अमेरिका जैसे देश को भी यह वायरस अपनी चपेट में ले चुका था। आज दुनियाभर के शक्तिशाली देश इस महामारी से जूझ रहे हैं। और जाने माने वैज्ञानिक भी इस संक्रमण को रोकने के लिए अपना सबकुछ दांव पर लगा चुके हैं मगर अभी तक इस बीमारी का कोई तोड़ मिल नहीं पाया हैं। ऐसे में इस बीमारी को रोकने और संक्रमण के फैलने के जतन भारत ने भी किये हैं और 22 मार्च से लॉक डाउन देशभर में चल रहा हैं, और इस तरकीब के बाद कुछ हद तक इसके वायरस को फैलने में कामयाबी भी मिलती दिख रही हैं। चूंकि अन्य देशों के मुकाबले भारत मे इस महामारी के आगोश में आकर मरने वालों का आंकड़ा कम नजर आता हैं। ऐसे में भारत के नागरिकों की सुरक्षा के लिए चिकित्सा विभाग अपनी कमर कसे हुए चौकन्ना नजर आ रहा हैं। और जो भी सेवाभावी मनुष्य हैं वो आज हर तरह से आमजन के लिए मदद को आगे आता दिख रहा हैं। जिसमें शासन-प्रशासन, चिकित्सा विभाग, पुलिस प्रशासन, शिक्षा विभाग, औऱ न जाने कितने विभागों के साथ स्वंम सेवी संस्थाओं और संघठनो के कार्यकर्ता अपनी जान जोखिम में डालकर मानव जीवन को बचाने में लगा हुआ हैं। इन सबकी हौसला अफजाई के लिए मिडिया भी अपना फर्ज निभा रहा हैं और समय-समय पर इन कर्मवीर कोरोना यौद्धाओं के बारे में आमजन को अवगत करवाने के लिए अपने समाचार पत्रों, पत्र-पत्रिकाओं, चैनलों, सोशल मीडिया नेटवर्क के जरिए अपना कार्य कर रहा हैं। प्रिय पाठकों हम भी आपको हर रोज किसी न किसी कोरोना यौद्धा से रूबरू करवाते रहते  हैं। आज आपको ऐसे ही एक कोरोना कर्मवीर डॉक्टर दंपति से रूबरू करवाते हैं। तो आइए मिलवाते हैं आप सबको डॉक्टर जोड़ी से। दोस्तों डॉक्टर देवेंद्र सिंह और उनकी पत्नी रंजना बेनीवाल पनावड़ा ग्राम पंचायत के मदरूपोनी गोदारों की ढाणी के गोदारा परिवार से हैं और इनके परिवार में जेठाराम गोदारा पनावड़ा में आजादी के समय में से राजनीति में सक्रिय रहें और पनावड़ा के सरपंच पद पर भी लंबे समय तक रहकर गांव के विकास में अपना योगदान दिया। जेठाराम गोदारा के पुत्र बनाराम गोदारा भी राजनीतिक में सक्रिय रहे और पनावड़ा के सरपंच पद पर भी रहें। ग्रामीणों का कहना हैं कि गांव में ठाकुर अर्जुन सिंह और बनाराम ने अपनी कोशिश में गांव के अंदर कभी कोई कार्य के लिए थाने को बुलाने की जरूरत नही समझी। मगर समय बीतता गया और दुनियां अपने रंग में ढलती गई और मनुष्य की उम्र भी बढ़ती गई। इस बीच ठाकुर अर्जुनसिंह का निधन हो जाता हैं और गांव की बागडोर अकेले राजनीति के मास्टर बनाराम गोदारा के हाथ आ जाती हैं और गोदारा ने अपनी राजनीति को जारी रखते हैं, मगर भविष्य को देखते हुए अपने बच्चों को पढ़ाई की और मोड़े रखा। बच्चों ने भी अपने पिता के सपनो को साकार करने के लिए जी जान से मेहनत से पढ़ाई की ओर सफलता प्राप्त की। बनाराम गोदार के बड़े बेटे जगदीश वकील हैं औऱ उनकी पत्नी राजनीति के साथ गृहणी हैं। छोटे बेटे देवेन्द्र सिंह डॉक्टर हैं बतौर हड्डी रोग विशेषज्ञ जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। और इनकी धर्मपत्नी रंजना बेनीवाल भी डॉक्टर हैं औऱ चर्म रोग विशेषज्ञ के तौर पर जोधपुर के सबसे बड़े एम्स अस्पताल में तैनात हैं। डॉक्टर दंपति इससे पहले बाड़मेर जिला मुख्यालय और जिले के गिड़ा अस्पताल में अपनी सेवाएं दे चुके हैं, जहाँ आज भी आमजन इनको याद करते हैं। प्रिय पाठों आज के इस संकट के दौर में डॉक्टर दंपति को अपने कार्य से जुड़े मरीजों से ज्यादा कोरोना के मरीजों के कार्य करने में सेवाएं देने में गर्व महसूस होता हैं। आपको पता है कि राजस्थान में जयपुर के बाद जोधपुर में सबसे ज्यादा कोरोना पॉजिटिव की संख्या हैं, और ऐसे में कोरोना को छोड़कर अन्य मरीजों की संख्या काफी कम हैं, तो लाजमी हैं कि चिकित्सा विभाग से जुड़े कार्मिकों को कोरोना के बचाव में सेवा देने का कार्य करना पड़ता होगा। हमें इस संकट से बाहर लाने वाले भगवान के बाद धरती पर यही डॉक्टर दूसरे भगवान हैं, और इनकी बदौलत आज कोरोना पर भारत ने अपनी पकड़ बना रखी हैं। हम ऐसे कोरोना कर्मवीर योद्धाओं को सेल्यूट करते हैं और सुरक्षित कोरोना पर जंग जीत की कामना करते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं