Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

परबतसर के रामदेव सैन अस्पताल की ड्यूटी से लौटते ही बेजुबान पक्षियों के परिंडे बनाने में जुट जाते हैं।

परबतसर के रामदेव सैन अस्पताल की ड्यूटी से लौटते ही बेजुबान पक्षियों के परिंडे बनाने में जुट जाते हैं। @जुगलकिशोर शर्मा नागौर/...

परबतसर के रामदेव सैन अस्पताल की ड्यूटी से लौटते ही बेजुबान पक्षियों के परिंडे बनाने में जुट जाते हैं।

@जुगलकिशोर शर्मा
नागौर/परबतसर। चिकित्सालय में वार्ड बॉय के तौर पर कार्य करने वाले रामदेव सैन इस कोरोना महामारी के बीच चिकित्सा में ड्यूटी देने के दौरान घर लौटते ही बेजुबान पक्षियों के परिंडे बनाने में जुट जाते हैं। रामदेव इस पहल में अपने मित्रों का सहयोग भी लेते हैं। उन्होंने बताया कि बचपन से ही पक्षियों से बहुत प्रेम करता हूं, और अब तो इस कोरोना काल में संकट के दौरान यह कार्य करने में अच्छा लगता हैं। उन्होंने बताया कि इस भीषण गर्मी में मानवता के नाते आमजन को मूक पशु पक्षियों के लिए अपने - अपने स्तर पर दाना पानी की व्यवस्था करनी चाहिए। क्योंकि बेजुबान के लिए किए कार्य की प्रार्थना भगवान भी स्वीकार करता हूँ और शास्त्रों में भी लिखा गया हैं कि बेजुबानों को खिलाएं गए दाना पानी से पूण्य होता हैं। इस कार्य में वार्ड बॉय रामदेव सेन, बंटी सोनी, जेपी सोनी, आनंद सेन, सेठू सोनी, सांवरमल सोनी, महेंद्र सेन, संजय सेन, सेन समाज के युवा व स्वर्णकार समाज के युवा मित्रों ने मिलकर इस पहल में साथ दे रहे हैं। साथ ही उन्होंने आमजन के साथ सैन समाज के लोगों से अपील भी की हैं की आप जहां भी रहते हैं वहाँ इन मूक प्राणियों के लिए अपने हाथ जरूर बढ़ाए जिससे अपने घर का वातावरण और भी निखरेगा।

कोई टिप्पणी नहीं