Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

गूगल ने प्ले स्टोर से हटाए कई एप्प्स, अगर आपके फोन में हैं तो तुरंत डिलीट करें, जाने पूरी लिस्ट।

गूगल ने प्ले स्टोर से हटाए कई एप्प्स, अगर आपके फोन में हैं तो तुरंत डिलीट करें, जाने पूरी लिस्ट। नई दिल्ली। विश्वभर में गूगल एक...

गूगल ने प्ले स्टोर से हटाए कई एप्प्स, अगर आपके फोन में हैं तो तुरंत डिलीट करें, जाने पूरी लिस्ट।

नई दिल्ली। विश्वभर में गूगल एक ऐसा प्लेटफॉर्म जिसके यूजर्स हर जगह है, अगर कोई जानकारी लेनी होती है तो आसानी से मिल जाती है। गूगल अपने यूजर्स को खुश रखने के लिए हर दिन नए-नए एप लॉन्च करता रहता है। इन दिनों गूगल ने एंड्रॉयड यूजर्स को ऑफर किए जा रहे 30 पॉप्युलर ऐप्स प्ले स्टोर से हटा दिए हैं। गूगल ने उनमें खतरनाक मैलवेयर मिलने के चलते ऐसा किया गया है। गूगल द्वारा हटाए जाने के बाद अब नए यूजर्स इस ऐप्स को प्ले स्टोर से डाउनलोड नहीं कर पाएंगे लेकिन इन एप्प को कई सारे उपयोगकर्ता द्वारा पहले ही करीब 2 करोड़ बार डाउनलोड किया जा चुका है।

अब गूगल प्ले स्टोर से हटाए जाने के बाद से उन यूजर्स को ये ऐप्स अपने स्मार्टफोन से फौरन डिलीट करने की सलाह दी जाती है। हाल ही में गूगल प्ले स्टोर से हटाए जाने के बाद सामने आई ऐप्स की लिस्ट में सबसे ज्यादा यूजर्स ने ऐसे थर्ड-पार्टी सेल्फी ऐप्स को डाउनलोड किया है, जिनमें मैलवेयर हैं। WhiteOps के सिक्यॉरिटी रिसर्चर्स ने इन ऐप्स का पता लगाया और कहा कि ऐसे ऐप्स फोन में ढेर सारे ऐड दिखाने लगते हैं और बिना लिंक पर क्लिक किए यूजर्स को उनपर रीडायरेक्ट करने लगते हैं।

यह हैं वो ऐप्स जिन्हें गूगल प्ले स्टोर से हटाया गया हैं।
                                                        

इतना ही नहीं, कई मामलों में एक बार डाउनलोड करने के बाद यूजर्स के लिए ऐसे ऐप्स को डिलीट करना लगभग नामुमकिन हो जाता है। हम यहां आपके लिए उन ऐप्स की लिस्ट लेकर आए हैं। अगर इनमें से कोई भी ऐप आपके फोन में इंस्टॉल हो तो फौरन उसे डिलीट कर दें।

ऐप्स में छुपे हुए मैलवेयर सामने आए
हैं इन ऐप्स को कुल 2 करोड़ से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है। WhiteOps की ओर से कहा गया कि इन ऐप्स को यूजर्स के डिवाइस में ढेर सारे ऐड दिखाने के लिए डिजाइन किया गया था। पहला ऐप पब्लिश करने के बाद फ्रॉड करने वालों ने लगभग हर 11वें दिन नया ऐप पब्लिश किया। ज्यादातर ऐसे ऐप्स प्ले स्टोर से हटाए जाने से पहले करीब 17 दिन तक मौजूद रहे। सामने आया है कि इन ऐप्स के apk में ‘पैकर्स’ का इस्तेमाल कर मैलवेयर्स को छिपाया गया था।

कोई टिप्पणी नहीं