Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

गम्भीर बीमार वागड़ की बेटी को आधे दिन की कार्रवाई में किर्गिस्तान से एयर लिफ्ट किया।

गम्भीर बीमार वागड़ की बेटी को आधे दिन की कार्रवाई में किर्गिस्तान से एयर लिफ्ट किया। @रामप्रसाद सैन जोधपुर। किर्गिस्तान में अ...

गम्भीर बीमार वागड़ की बेटी को आधे दिन की कार्रवाई में किर्गिस्तान से एयर लिफ्ट किया।

@रामप्रसाद सैन
जोधपुर। किर्गिस्तान में अध्ययन करने गई घाटोल बांसवाड़ा मूल की किर्गिस्तान में एडमिट मेडिकल स्टूडेंट डिंपल त्रिवेदी को एयर लिफ्ट करके भारत लाया गया है। गम्भीर रूप से बीमार वागड़ की इस बेटी को युद्धस्तर पर आधे दिन की कार्रवाई में किर्गिस्तान से एयर लिफ्ट करने में जोधपुर के सांसद केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत की अहम भूमिका रही और मंत्री शेखावत के प्रयास से डिंपल घर आ सकी है। 

भाजपा के संभाग मीडिया प्रमुख अचल सिंह मेड़तिया ने बताया कि बांसवाड़ा के घाटोल निवासी डिम्पल पुत्री महेशचंद्र त्रिवेदी रूस के किर्गिस्तान में एमबीबीएस की पढाई कर रही है। वह 2017 से वहां है लेकिन दुर्भाग्य से गत दो जून को गम्भीर रूप से बीमार हो जाने से न केवल उसके परिजन, बल्कि वागड़ में सर्वसमाज के लोग चिंतित हो गए थे। डिम्पल किडनी की गंभीर बीमारी  से ग्रस्त है और चिकित्सको ने उसे भारत में ही इलाज करवाने की सलाह दी। क्षेत्र के सांसद कनकमल कटारा, परिजनों और क्षेत्र के अनेक लोगों ने कल सुबह विदेश में अध्ययनरत डिंपल त्रिवेदी पुत्री महेशचन्द्र को वापस भारत लाये जाने के संबंध में जोधपुर के सांसद केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत से अनुरोध किया। महामारी के ऐसे दौर में जहाँ विदेश से स्वस्थ व्यक्ति को लाना भी बहुत मुश्किल काम है, ऐसे में एयर एम्बुलेंस से और वह भी इतने कम समय में लाना लगभग असम्भव था, लेकिन केंद्रीय मंत्री शेखावत के दखल से यह सम्भव हो सका।  
केंद्रीय मंत्री शेखावत के प्रयास से बिश्केक, किर्गिस्तान में अध्ययनरत घाटोल की बेटी डिंपल त्रिवेदी को भारत लाने के लिए विदेश मंत्रालय और किर्गिस्तान के नागरिक उड्डयन मंत्रालय से भी अनुमति मिली। जिसके बाद बुधवार मध्य रात्रि में 2 बजे नई दिल्ली से बिश्केक के लिए चिकित्सकीय दल ने एयर एंबुलेंस उड़ान भरी। विशेष चार्टर फ्लाइट नई दिल्ली से बिश्केक जाकर डिम्पल को वापस भारत लेकर आ गई हैं। संभवत पहली बार है जब किसी गंभीर रूप से बीमार मरीज़ को आधे दिन से भी कम समय में विदेश से भारत लाने का सफल प्रयास किया गया है।

शेखावत के प्रयास से हुई वतन वापसी
केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के पुरजोर प्रयासों की बदौलत बाँसवाड़ा के घाटोल की बेटी वतन वापसी कर सकी। केंद्रीय मंत्री शेखावत के हस्तक्षेप के बाद पहले स्वास्थ्य मंत्रालय और फ़िर विदेश मंत्रालय की त्वरित कार्यवाही से यह संभव हो सका। 

वागड़ क्षेत्र के कई अन्य लोग भी लगातार केंद्रीय मंत्री शेखावत के कार्यालय में दूरभाष पर संपर्क कर त्वरित कार्यवाही के लिए अनुरोध कर रहे थे, जिसके बाद शेखावत के दिन भर के अथक प्रयासों से डिंपल को घर लाने का मिशन सफल हो पाया। इससे पहले भी शेखावत, महामारी के इस दौर में वागड़ के कई लोगों के लिए संकटमोचक बनकर आये और अपनी तरफ से हर संभव मदद की । 

लोगों ने सोशल मीडिया पर चलाई मदद की मुहिम
इस मुश्किल घड़ी में वागड़ के लोगों द्वारा भी त्रिवेदी परिवार की मदद के लिए हाथ बंटाना काबिल-ए-तारीफ़ है जिन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से एक मुहिम छेड़कर उसके लिए आर्थिक सहायता और संबल प्रदान कर उसकी घर वापसी को सुनिश्चित करने के प्रयास किए गए। विदित रहे डिम्पल के पिता राशन की दुकान चलाते हैं और आर्थिक रूप से कमजोर है लेकिन क्षेत्र के लोगों ने सोशल मीडिया पर मुहिम चलाकर सहयोग किया।

कोई टिप्पणी नहीं