Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

तालाब के सौन्दर्यकरण व पेड़ो की सुरक्षा को लेकर सन्यासी ने त्यागा अन्न।

तालाब के सौन्दर्यकरण व पेड़ो की सुरक्षा को लेकर सन्यासी ने त्यागा अन्न। @मुकेश पाल सिंह सिरोही/पिण्डवाड़ा। स्थानीय तालाब का ...

तालाब के सौन्दर्यकरण व पेड़ो की सुरक्षा को लेकर सन्यासी ने त्यागा अन्न।

@मुकेश पाल सिंह
सिरोही/पिण्डवाड़ा। स्थानीय तालाब का सौन्दर्यकरण व पेड़ो की सुरक्षा को लेकर सन्यासी ने अनिश्चिकाल के लिए अन्न का त्याग कर सत्यग्राह किया जा रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार पर्यावरण प्रेमी कन्हैयालाल  महाराज (बंसीवाले) ने तालाब के सौन्दर्यकरण व हरा भरा बनाने के लिए गत पॉच वर्षो से निरन्तरण प्रयासरत है। बिना सरकारी सहयोग के उन्होने तालाब लाखोटिया पर 101 वृट वृक्ष पेड़ लगाये तथा आज भी तालाब किनारे सैकड़ो पेड़ लगाये है तथा तालाब की सफाई वे स्वयं करते है। और इनके अथक प्रयास से तालाब किनारे सैकड़ो हरे पेड़ लगाये गये है। लेकिन अब पौधे पेड़ में तब्दील हो चुके है, उनकी सुरक्षा को लेकर वे नगरपालिका प्रशासन के समक्ष सुरक्षा दिवार व सौन्दर्यकरण की मांग पुरी नहीं होने तक अनिश्तिकालीन के लिए अन्न त्याग दिया है। 


तालाब सौन्दर्यकरण मुद्दा नगरपालिका गत बोर्ड व वर्तमान बोर्ड में तालाब प्राथमिक रहा है, लेकिन न तो गत बोर्ड में काम हुआ है और न ही वर्तमान बोर्ड में, केवल मुद्दा चला है तो जुबानी। इसी कारण आज पर्यावरण प्रेमी सन्यासी को अन्न त्याग कर सत्यग्रह का रास्ता अपनाना पड़ रहा है, लेकिन न तो प्रशासन ध्यान दे रहे है और न ही जनप्रतिनिधि। आखिर पेड़ो की सुरक्षा को लेकर प्रशासन क्यों पीछे रहता है।

वृक्षारोपण के नाम राशि का दुरूपयोग :
नगरपालिका बोर्ड में गत कई वर्षो से वृक्षारोपण कार्यक्रम के नाम पर प्रतिवर्ष लाखों रूपये खर्च किये जा रहे है, लेकिन धरातल पर न तो पेड़ पनपे है और न ही इनकी सुरक्षा की पुख्ता जिमेदारी होती है। 


तालाब सौन्दर्यकरण में बाधा बने अतिक्रमण :
तालाब की भूमि पर अतिक्रमण व नियमों के विरूध पट्टे जारी किये गये है। इन अतिक्रमणों व नियमों के विरूध आवंटन से तालाब की आधी भूमि पर कब्जा है, लेकिन प्रशासन इन अतिक्रमणों को हटाने में कतराते है क्योंकि यह सभी किसी ने धर्म की आड़ में तो किसी ने समाज की आड़ में कब्जे कर रखे है। 


इनका कहना है कि - तालाब सौन्दर्यकरण को लेकर बोर्ड गंभीर है, जिसको लेकर तालाब की गहराई बढ़ाने, नई डीपीआर तैयार कर निर्माण कार्य करवाने एवं वृक्षारोपण करवाने जैसे कार्य किये जायेंगे। - जितेन्द्र कुमार प्रजापत चैयरमैंन नगरपालिका। 

मेरे द्वारा पेड़ो की सुरक्षा व सौन्दर्यकरण की मांग नगरपालिका से ही है, जब तक मेरी मांग पुरी नहीं होगी, तब तक अन्न ग्रहण नही करूंगा। - कन्हैयालाल महाराज।

कोई टिप्पणी नहीं