Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

कोविड-19 से प्रभावित पशुपालकों को पशुपालन एवं डेयरी विकास के लिये ब्याज अनुदान पर मिलेगी राशि।

कोविड-19 से प्रभावित पशुपालकों को पशुपालन एवं डेयरी विकास के लिये ब्याज अनुदान पर मिलेगी राशि। - नियमित किश्तें जमा कराने पर 4 ...

कोविड-19 से प्रभावित पशुपालकों को पशुपालन एवं डेयरी विकास के लिये ब्याज अनुदान पर मिलेगी राशि।

- नियमित किश्तें जमा कराने पर 4 प्रतिशत ब्याज पर मिलेगी कार्यशील पूंजी।
बाड़मेर। कोविड-19 से प्रभावित पशुपालकों को पशुपालन के लिए रोजमर्रा की आवश्यकताओं की आसानी से उपलब्धता सुनिश्चित करने लिए विशेष अभियान शुरू किया गया है। आगामी 31 जुलाई तक चलने वाले इस अभियान के तहत पशुपालन एवं डेयरी विकास के लिये ब्याज अनुदान पर राशि उपलब्ध कराई जा रही है।
जिला कलक्टर विश्राम मीणा ने बताया कि मत्स्य, पशुपालन एवं डेयरी विकास के लिए 1 जून से 31 जुलाई  तक एक विशेष अभियान प्रारम्भ कर पशुपालक किसानों को केसीसी के माध्यम से न्यूनतम ब्याज दर पर कार्यशील पूंजी उपलब्ध करवाई जा रही है। उनके मुताबिक जो पशुपालक अपने पशु व्यवसाय एवं डेयरी व्यवसाय में बढ़ोतरी करना चाहते है। उनको 4 प्रतिशत ब्याज पर कार्यशील पूंजी, ऋण उपलब्ध करवाया जा रहा है। दो पशुओं की यूनिट पर 30 हजार रुपए तथा पांच पशुओं की यूनिट पर 74 हजार रुपए की राशि दी जायेगी। इस राशि पर 9 प्रतिशत ब्याज है, जिसमें 2 प्रतिशत का ब्याज अनुदान मिलेगा तथा नियमित किश्त जमा कराने पर 3 प्रतिशत की अतिरिक्त छूट दी जायेगी। इस तरह पशुपालको को चार प्रतिशत ब्याज पर ही कार्यशील पूंजी उपलब्ध हो सकेगी। जिले के पशुपालकों एवं भूमिहीन किसानों अथवा छोटे किसानों को इस योजना से लाभान्वित किया जा रहा है।
पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉक्टर गंगाधर शर्मा ने बताया कि पशुपालन एवं डेयरी मंत्रालय भारत सरकार का उद्देश्य इस योजना से अधिकतम पशुपालकों को लाभान्वित करना तथा उनके दुग्ध, डेयरी व्यवसाय को आगे बढ़ाना है। इसको लेकर बैंकर्स को ऐसे पशुपालकों व डेयरी संचालकों के आवेदन पत्र लेने के निर्देश दिए गए है। उन्होंने अधिकाधिक लोगों से इस योजना से लाभान्वित होने का अनुरोध किया है।

कोई टिप्पणी नहीं