Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

मुनाबाव से वन महोत्सव का डीएम और डीएफओ ने किया शुभारंभ, लगाए जाएंगे पांच हजार पौधे।

मुनाबाव से वन महोत्सव का डीएम और डीएफओ ने किया शुभारंभ, लगाए जाएंगे पांच हजार पौधे। जिला कलेक्टर विश्राम मीणा एवं डीएफओ संजय प्...

मुनाबाव से वन महोत्सव का डीएम और डीएफओ ने किया शुभारंभ, लगाए जाएंगे पांच हजार पौधे।

जिला कलेक्टर विश्राम मीणा एवं डीएफओ संजय प्रकाश भादू ने किया पौधारोपण।
बाड़मेर। सीमा सुरक्षा बल तनोट वारियर्स 13 वाहिनी एवं वन विभाग के संयुक्त तत्वावधान में रविवार को मुनाबाव सीमा चौकी में जिला कलेक्टर विश्राम मीणा एवं उप वन संरक्षक संजय प्रकाश भादू ने पौधारोपण कर वन महोत्सव का शुभारंभ किया। इसके तहत सरहद के पास 60 किमी इलाके में पांच हजार पौधे लगाए जाएंगे।

इस अवसर पर जिला कलेक्टर विश्राम मीणा ने सरहदी इलाकों में पौधारोपण के लिए सीमा सुरक्षा बल के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि भारत की प्रथम रक्षा पंक्ति सीमा सुरक्षा बल सरहद की हिफाजत के साथ पर्यावरण संरक्षण के सामाजिक उत्तरदायित्व को निभा रहा है। जिला कलेक्टर मीणा ने कहा कि मौजूदा समय में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए बीएसएफ ने सरहदी लोगों को जागरूक करने के साथ राशन सामग्री उपलब्ध कराई है। उन्होंने जिला प्रशासन की ओर से सीमा सुरक्षा बल को अपेक्षित सहयोग देने का भरोसा दिलाया। उप वन संरक्षक संजय प्रकाश भादू ने अंतिम सीमा चौकी मुनाबाव से वन महोत्सव की शुरूआत के लिए बीएसएफ के अधिकारियों एवं जवानों का आभार जताया। उन्होंने कहा कि यह पौधे बड़े होने के बाद मरूस्थलीकरण के विस्तार पर अंकुश लगेगा। उप वन संरक्षक भादू ने कहा कि यह पहला मौका जब अंतरराष्ट्रीय सरहद पर वन महोत्सव की शुरूआत हुई है। इसके तहत विभिन्न प्रजातियों के पौधे लगाए गए है। इससे पहले जिला कलक्टर विश्राम मीणा, उप वन संरक्षक संजय प्रकाश भादू, 13 वाहिनी के कार्यवाहक समादेष्टा राजेश कुमार यादव, उपखंड अधिकारी महावीर सिंह जोधा, सहायक वन संरक्षक दीपक चौधरी, विकास अधिकारी गणपत लाल, उप समादेष्टा जलधारी मीणा, पुलिस उप अधीक्षक अजीतसिंह, सहायक समादेष्टा ओम प्रकाश मोगा, तहसीलदार सवाईसिंह, पूर्व प्रधान तेजाराम मेघवाल, भारत माला प्रोजेक्ट के अनुराग मैनी ने पौधारोपण करके वन महोत्सव का शुभारंभ किया। द्वितीय कमान अधिकारी राजेश कुमार यादव ने बताया कि वन महोत्सव के लिए विभिन्न प्रजातियों के पौधे नीम, खेजड़ी, पीपल, रोहिड़ा, झिझा, बेरी, जाल, गुल मोहर, इमली, शीशम,तुलसी, अनार के पांच हजार पौधे उपलब्ध कराए गए है। यह सरहद के पास 60 किमी इलाके में लगाए जाएंगे। इस दौरान जिला कलेक्टर विश्राम मीणा ने भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा का अवलोकन करने के साथ सीमा प्रबंधन के बारे में विस्तार से जानकारी ली।

कोई टिप्पणी नहीं