Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

पर्यावरण प्रेमियों के बलिदानों से ही धरती का श्रृंगार बरकरार रहा है: गोदारा

पर्यावरण प्रेमियों के बलिदानों से ही धरती का श्रृंगार बरकरार रहा है: गोदारा   अमर शहीद गंगाराम बाना पुण्यतिथि कार्यक्रम।  बाड़मेर/बायतु/गिड़ा।...

पर्यावरण प्रेमियों के बलिदानों से ही धरती का श्रृंगार बरकरार रहा है: गोदारा

 

अमर शहीद गंगाराम बाना पुण्यतिथि कार्यक्रम। 

बाड़मेर/बायतु/गिड़ा। मां भारती के श्रृंगार (पर्यावरण) की रक्षा के लिए प्राण न्यौछावर अनुपम उदाहरण
हैं, अब उनकी स्मृति में परिवार इको क्लब के माध्यम से 251 पौधे प्रतिवर्ष लगवायेगा। पर्यावरण प्रेमियों के बलिदान से ही धरती माँ का श्रृंगार बरकरार रहा है, नहीं तो अब तक सम्पूर्ण जैव विविधता संकीर्ण मानसिकता के शिकारी लोगों का शिकार बन जाती है। पर्यावरण के लिए अपने प्राणों को न्योछावर कर देने की राजस्थान में गौरवशाली परंपरा विद्यमान रही है और उसी कड़ी में वन्य प्राणियों और राज्य पशु चिंकारा की रक्षा के लिए शहीद गंगाराम बाना का दिया गया बलिदान अनुपम उदाहरण है ये विचार संतोष कुमार गोदारा, ने रविवार को राउमावि पूनिया का तला में शहीद गंगाराम बाना के पुण्यतिथि पर  आयोजित श्रंद्धाजलि कार्यक्रम में व्यक्त किये। 
वर्ष 2005 में 1 अगस्त की आधी रात को डोलीधवा आखेट निषिद्ध क्षेत्र में चिंकारें की शिकार की सूचना मिलने पर कल्याणपुर पुलिस चौकी में बतौर सिपाही पद पर कार्यरत पुनिया का तला के निवासी गंगाराम बाना के नेतृत्व में एक दल ने नाकाबंदी कर शिकारियों की जीप को रुकवाने का प्रयास किया और भागने पर पुन: प्रयास करके जीप को जब्त किया। इस दौरान शिकारी भागने लगे तो भागते शिकारियों को गंगाराम ने दबोचने का प्रयास किया। इस दौरान शिकारियों ने उन पर गोली चला दी और 2 अगस्त की अलसुबह राजस्थान पुलिस के जवान गंगाराम बनाने मां भारती के श्रंगार की रक्षा करते हुए 34 वर्ष की आयु में प्राण न्योछावर कर दिए, अपने इस प्रकार पर्यावरण पर्यावरण प्रेमी गंगा राम ने अपने प्राणों की परवाह नहीं करते हुए शिकारियों को रोकने का प्रयास करते हुए बलिदान कर दिया। 26 जनवरी 2007 को सरकार ने उन्हें राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित किया 
इको क्लब राउमावि पुनिया का तला के तत्वावधान में आयोजित पुण्यतिथि कार्यक्रम में शहीद गंगाराम की तस्वीर पर पुष्पांजलि अर्पित करके 2 मिनट का मौन रखा गया। शहीद की स्मृति में पौधे लगाएं गये और गत वर्ष के लगाएं गये पौधों की सुरक्षा हेतु तारबंदी ठीक की गई। पौधों में निराई - गुड़ाई करके खाद दी गई। इस अवसर पर उपस्थित ग्रीन कौर कंमाडो को पौधे वितरित किये गए। सभी ने इन पौधों को लगाकर, सुरक्षा करने का संकल्प किया गया। कोविड-19 के निर्देशो की अनुपालना करते हुए आने वाले समय में हर वर्ष की भांति शहीद के परिवार की ओर से 251 पौधे विद्यार्थियों के माध्यम से लगवाये जायेगें। इसके लिए शहीद पुत्र देवेंद्र बाना का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर विद्यालय स्टाफ, ग्रामवासी और विद्यार्थी मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं