Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

"प्यारो प्यारो लागे वांकल नाम थारो" गीत लॉन्च होते ही सोशल मीडिया पर छाया।

"प्यारो प्यारो लागे वांकल नाम थारो" गीत लॉन्च होते ही सोशल मीडिया पर छाया। बाड़मेर। देश भर में शनिवार से माँ शक्ति ने 9 अलग अलग अवत...

"प्यारो प्यारो लागे वांकल नाम थारो" गीत लॉन्च होते ही सोशल मीडिया पर छाया।


बाड़मेर। देश भर में शनिवार से माँ शक्ति ने 9 अलग अलग अवतारों के पूजन और वंदन का महापर्व नवरात्रा शुरू हुआ। शारदीय नवरात्र के प्रथम दिवस पर मातृ शक्ति की आराधना मातृ शक्ति के गुणगान का मधुर तराना " प्यारो प्यारो लागे वांकल नाम थारो" अपनी लॉन्चिंग के पहले ही दिन सोशल मीडिया पर छाया नजर आया। बाड़मेर मूल की डॉ. सीमा दफ्तरी की मधुर आवाज़ में इस गीत ने पहले ही दिन हजारों लोगों के दिलो में जगह बना ली। यूट्यूब प्लेटफॉर्म पर रिलीज हुई इस गीत को जयपुर के दिलीप सिंह सिसोदिया 'दिलबर' ने लिखा है।


बाड़मेर के चौहटन के गढ़ मंदिर भक्त मण्डली वांकल धाम विरात्रा के सौजन्य से बने इस गीत का छायांकन विरात्रा मन्दिर के मुख्य मंदिर और पहाड़ी स्थित मंदिर में किया गया है। गीत का कर्णप्रिय संगीत बीएसबी स्टूडियो जयपुर में रिकॉर्ड किया गया है। जयपुर के एसएस जैन सुबोध गर्ल्स पीजी कॉलेज में एसोसिएट प्रोफेसर पद पर कार्यरत्त डॉक्टर सीमा दफ्तरी अब तक दर्जनों गानों को अपनी आवाज दे चुकी है। वह मोटिवेशनल स्पीकर भी है। अपने ताजा गीत " प्यारो प्यारो लागे वांकल नाम थारो" में डॉक्टर दफ्तरी ने माता के मंदिर के पौराणिक इतिहास को अपने मधुर स्वर दिए है। गीत में बताया गया है कि श्री वांकल माता का मन्दिर एक ओर पर्वत श्रेणी से और दूसरी ओर बालुका राशि के पर्वताकार टीले से घिरा हुआ है इन दोनों के बीच में वांकल माता का मन्दिर स्थित है। सुदूर पश्चिम में बलूचिस्तान के पास बेला क्षेत्र में मकरान पर्वतमाला की एक गुफा हिंगुलाज के नाम से सुविख्यात है। भारत में हिंगुलाज माता की सर्वाधिक मान्यता रही है। इसी आदि शक्तिपीठ से वीरातरा माता का जुड़ाव रहा है। ऐसी मान्यता है कि वीर विक्रमादित्य जब बलूचिस्तान के अभियान में गए तब उन्होंने हिंगलाज माता से प्रार्थना करते हुए कहा कि यदि वह विजयी रहा तो आराधना करने के लिए उसे (माता) अपने साथ ले जाएगा। हिंगुलाज माता की कृपा से उसकी विजय हुई तब वीर विक्रमादित्य ने यहाँ वांकल माता की मूर्ति की स्थापना की गई। गीत में इस इतिहास की बड़ी सुंदर प्रस्तुति दी गई है।

कोई टिप्पणी नहीं