Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

विद्युत क्षेत्र में हो रहे निजीकरण का काली पट्टी बांधकर सांकेतिक विरोध जताया।

विद्युत क्षेत्र में हो रहे निजीकरण का काली पट्टी बांधकर सांकेतिक विरोध जताया। बाड़मेर/समदड़ी। जोधपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड सहायक अभियन्ता...

विद्युत क्षेत्र में हो रहे निजीकरण का काली पट्टी बांधकर सांकेतिक विरोध जताया।


बाड़मेर/समदड़ी। जोधपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड सहायक अभियन्ता कार्यालय समदड़ी के बिजली कर्मचारियों ने राजस्थान विद्युत श्रमिक महासंघ सम्बद्ध भारतीय मजदूर संघ के आहवाहन पर हाथ पर काली पट्टी एवं मुँह पर काला मास्क बांधकर विद्युत क्षेत्र में हो रहे निजीकरण का सांकेतिक विरोध दर्ज कराते हुए निगम कार्य किया।
श्रमिक संघ शाखा समदड़ी प्रभारी अश्विनी सिंह चारण ने जानकारी देते हुए बताया की केंद्र व राज्य सरकारें इस कोरोना आपदा को अंधाधुंध निजिकरण के अवसर में बदल रही है। सरकारें जनता के टैक्स के पैसे से निर्मित सार्वजनिक संम्पतियो को संचालन व अपग्रेडशन के नाम बिना आर्थिक प्रतिफल के निजी हाथों में सोंप कर खुर्दबुर्द कर रही है जो आम जनता एवं कर्मचारियों के हितों पर कुठाराघात हैं।
राजस्थान सरकार द्वारा केंद्र के प्रस्तावित बिजली बिल 2020 व डिस्काॅम निजीकरण ड्राफ्ट का विरोध दर्ज करवाया हैं, परंतु स्वयं विद्युत के क्षेत्र में क्लस्टर, एम.बी.सी., एफ.आर.टी., फ्रेंचाई, ग्रिड संचालन एवं मेंटिनेंस के नामों से निजिकरण को बढ़ावा दे रही है, जिसका संगठन विरोध करता है।
वर्तमान में बांसवाड़ा में MBC व FRT का सभी संगठन मिल कर विरोध कर रहे हैं। अगर सरकार ने निजिकरण का रास्ता नही छोड़ा तो निकट भविष्य में विद्युत के सभी संगठनों को बांसवाड़ा की तर्ज पर सामूहिक संघर्ष का रास्ता अख्तियार करना पड़ेंगा।
जोधपुर डिस्काॅम प्रदेश प्रचार मन्त्री जगदीश सिंह रावल ने सम्बोधित करते हुए सभी कर्मचारियों से निजिकरण का मिलकर संघर्ष करने एवं आमजन से सहयोग का आहवाहन किया व जानकारी दी की महासंघ के तयः कार्यक्रम के तहत आज पूरे राजस्थान में विद्युत कर्मी काली पट्टी बांधकर कर विरोध दर्ज करवा रहें हैं।
आगामी 23 अक्टूम्बर को पूरे राजस्थान के प्रत्येक विद्युत उपखंड पर धरना प्रदर्शन किया जाएगा एवं उसके पश्चात 28 अक्टूम्बर 2020 को सभी विद्युत कर्मी प्रत्येक जिला मुख्यालय कार्यालय पर निजिकरण के विरुद्ध धरना प्रदर्शन कर विरोध प्रकट करगें और बाद में अखिल भारतीय मजदूर संघ केंद्र द्वारा आव्हित जिलाधीश मुख्यालय पर संसद में पारित लेबर कोड बिल के विरोध कार्यक्रम में भाग लेंगे।
सांकेतिक विरोध प्रदर्शन में सुरेश फुलवारिया, खेताराम बंजारा, मीठालाल फुलवारिया, राकेश चौधरी, परमेश्वर लाल नेण सहित सभी कर्मचारियों ने निगम का काम करते हुए काला दिवस मनाया।

कोई टिप्पणी नहीं