Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

निजीकरण के विरोध में मुख्यमंत्री के नाम सहायक अभियन्ता को ज्ञापन सौंपा।

निजीकरण के विरोध में मुख्यमंत्री के नाम सहायक अभियन्ता को ज्ञापन सौंपा। बाड़मेर/समदड़ी। राजस्थान विद्युत श्रमिक महासंघ सम्बद्ध भारतीय मजदूर सं...

निजीकरण के विरोध में मुख्यमंत्री के नाम सहायक अभियन्ता को ज्ञापन सौंपा।


बाड़मेर/समदड़ी। राजस्थान विद्युत श्रमिक महासंघ सम्बद्ध भारतीय मजदूर संघ के आह्वान पर जोधपुर विद्युत वितरण निगम श्रमिक संघ उपखंड समदड़ी के कार्यकर्ताओं ने भारतीय मजदूर संघ बाड़मेर जिलाध्यक्ष जगदीश सिंह रावल के नेतृत्व में विद्युत विभाग में हो रहे निजीकरण के विरोध में एवं केन्द्र सरकार लोकसभा द्वारा संसद में पारित लेबर कोड बिल राज्य में लागू नहीं करने हेतु भोजन अवकाश के दौरान सहायक अभियंता कार्यालय के बहार धरना प्रदर्शन कर सहायक अभियन्ता राम अवतार मीणा को मुख्यमन्त्री राजस्थान सरकार के नाम ज्ञापन सौंपा।
श्रमिक संघ समदड़ी प्रवक्ता मीठालाल फुलवारिया ने जानकारी देते हुए बताया की, निगमों में हो रहे उपभोक्ता शिकायत निवारण के कार्य (एफ आर टी) एवं मिटरिंग, बिलिंग और रोकड़ संग्रहण ( एम बी सी ) के विरोध में व श्रमिक विरोधी नीतियों को लेकर आन्दोलन सम्पूर्ण राजस्थान में सतत रुप से जारी हैं एवं इसी क्रम में दिनांक 28 अक्टूबर को जिला मुख्यालय बाड़मेर पर एक दिवसीय धरना एवं प्रदर्शन रखा गया हैं।
जिलाध्यक्ष रावल ने सम्बोधित करते हुए बताया की केन्द्र सरकार ने संगठित और असंगठित क्षेत्र में पूर्ववर्ती स्थापित स्थापित 44 श्रम कानूनों को पूरी तरह से समाप्त कर 4 नये लेबर कोड लागू किए हैं। ये सभी लेबर कोड श्रमिक विरोधी हैं एवं उद्योगपतियों की सुविधा को ध्यान में रखकर तैयार किए गये हैं।
लोकसभा द्वारा पारित इन नये लेबर कोड से मजदूर का जीवन अंधकार मय एवं असुरक्षित हो जाएगा।
अतः संगठन मांग करता हैं ऐसे श्रमिक विरोधी लेबर कोड को अपने राज्य राजस्थान में लागू नहीं किया जाए।
राज्य सरकार के ध्यान में लाते हैं कि विद्युत प्रदाय सेवा आवश्यक सेवा में आती हैं। वैश्विक महामारी कोरोना के दौरान लाॅकडाउन काल में विद्युत के कर्मचारी ने सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर राज्य की जनता की सेवा की हैं।
अतः विद्युत के कर्मचारियों को वेतन कटौती से मुक्त रखा जावे तथा विद्युत व्यवस्था बहाल करने में कोरिना से ग्रसित होकर अकाल मृत्यु का वरण करने वाले कर्मचारियों को भी कोरोना वाॅरियर की तरह जीवन समपर्ण क्षतिपूर्ति के रुप में मृतक के आश्रित परिवार को 50 लाख की सहायता स्वीकृत की जावें।
इस अवसर पर बाजू पर काली पट्टी और काला मास्क लगाकर जिला मन्त्री सुरेश फुलवारिया, खेताराम बन्जारा, गौरी शंकर मीना, राजन शर्मा, परमेश्वर नेण, हरिवंश राय व्यास, श्याम लाल, राकेश चौधरी, पुखराज सिंह पुरोहित आदि अन्य कर्मचारी मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं