Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

विभाग की मेहरबानी कहे या माफियों की दबंगाई, अवैध बजरी खनन से मरूगंगा हर रोज हो रही हैं छलनी।

विभाग की मेहरबानी कहे या माफियों की दबंगाई, अवैध बजरी खनन से मरूगंगा हर रोज हो रही हैं छलनी। - खनन विभाग, पुलिस व प्रशासन की सख्त कार्रवाई न...

विभाग की मेहरबानी कहे या माफियों की दबंगाई, अवैध बजरी खनन से मरूगंगा हर रोज हो रही हैं छलनी।


- खनन विभाग, पुलिस व प्रशासन की सख्त कार्रवाई नहीं होने से खनन माफियाओं के हौंसले बुलंद।
बाड़मेर/बालोतरा। उपखंड क्षेत्र में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद बजरी का अवैध खनन बेखोफ जारी है। उपखंड क्षेत्र के बालोतरा, बिठूजा, जसोल, जानियाना, सराणा, कनाना, जेठंतरी, समदड़ी, धुंधाड़ा, कोटडी, खेड़, तिलवाड़ा, भिंडा कुआ आदि लूणी नदी से सटे गांवों में दबंगों की शह पर बजरी के अवैध खनन का कार्य बदस्तूर जारी है। लूणी नदी की तलहटी पर बसे गांवों में तो दिन में भी बजरी का अवैध परिवहन बदस्तूर जारी है, इन्हे कोई रोकने टोकने वाला नहीं है।

खनन माफिया कर रहे मरूगंगा को खोखला:
लूणी नदी में खनन माफिया खुले आम धडल्ले से जेसीबी लगाकर खनन करते पाए गए। लूणी नदी के किनारें बसे गांवों में दिन में भी कई ट्रैक्टर बेखौफ होकर लूणी नदी से अवैध रूप से बजरी भर रहे है। इस बजरी का अवैध खनन दबंगों की शह पर होता है। अवैध रूप से बजरी भरकर मोटी रकम वसूलकर खनन माफिया मालामाल हो रहे है। इस तरह से खुलेआम बजरी का परिवहन प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारियों की मिलीभगत के बिना संभव नहीं है।


लीज की आड़ में दूसरी जगह से भरते है बजरी, बजरी नहीं होने पर भी खातेदारी जमीन में लीज जारी: 
क्षेत्र की मरूगंगा नाम से विख्यात लुणी नदी से बजरी दोहन बदस्तूर जारी है। माफिया नित नए तरीकों से बजरी दोहन करा रह है। खनिज विभाग के अधिकारियों की कार्यशैली भी इनका दुस्साहस बढाती है। मोटा मुनाफा कमाने के लालच में माफिया ने लुणी नदी का सीना छलनी कर डाला। बालोतरा व समदडी की ग्राम पंचायतों में अवैध खनन का नया ही तरीका सामने आया है। ऐसी खातेदारी जमीन में खनन का पट्टा दे दिया जिसमें बजरी ही नहीं है। जहां पहले बजरी थी वो भी खत्म हो गई। खान विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से लिए इस पट्टे की आड में मरू गंगा लुणी नदी से अवैध बजरी निकाल कर परिवहन की जा रही है। किसान पर्यावरण समिति के सचिव दिनेशसिंह राजपुरोहित ने कई बार अधिकारियों से कार्रवाई की मांग की,लेकिन वसुली के कारण शिकायत पर ध्यान नहीं दिया जाता है। ग्रामीणों के अनुसार लुणी नदी से सैकडों डम्पर व टेलर से अवैध बजरी परिवहन कर लीज धारक लीज में बडी मात्रा में स्टॉक कर रहे है। खान विभाग ने लीज दे दी है इसको लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है। 
 
चौकीदार हीं चोर है, इसलिए अवैध खनन जोरों पर है:
उपखंड क्षेत्र के लूणी नदी के तट पर बसे गांवों से लाखों टन बजरी का अवैध खनन कर मरूगंगा लूणी नदी को छलनी किया जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की अवहेलना खुद खनन विभाग द्वारा की जा रहीं है। बजरी का अवैध जिम्मेदार अधिकारियों की मिलीभगत के बिना संभव नहीं है। अगर जिम्मेदार अधिकारी समय रहते निष्पक्षता से कार्रवाई करें तो बजरी का अवैध खनन नामुमकिन है। इस मामले में निष्पक्ष कार्रवाई नहीं होने से संबंधित विभागीय अधिकारी व पेट्रोलिंग करने वाले कार्मिक सवालों के घेरे में है। वहीं सूचना देने के बावजूद भी पुलिस द्वारा कार्रवाई नहीं करना इस पर कई सवालिया निशान खड़े होते है।

कोई टिप्पणी नहीं