Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

मालाणी बाड़मेर के दो छात्रों ने देश के सबसे टॉप एग्जाम जेईई एडवांस में अपनी जगह बनाई।

मालाणी बाड़मेर के दो छात्रों ने देश के सबसे टॉप एग्जाम जेईई एडवांस में अपनी जगह बनाई। बाड़मेर। जिले के लिए बड़े सौभाग्य की बात यह है कि शिक्षा...

मालाणी बाड़मेर के दो छात्रों ने देश के सबसे टॉप एग्जाम जेईई एडवांस में अपनी जगह बनाई।


बाड़मेर। जिले के लिए बड़े सौभाग्य की बात यह है कि शिक्षा के अल्प साधनों के बावजूद ग्रामीण क्षेत्र से परेऊ  निवासी शौकीन खां पुत्र स्व. अकबर खां ने अपने संघर्ष के दम पर काबिलियत का परिचय देते हुए जेईई एडवांस ओबीसी - एनसीएल वर्ग में 4297वीं रैंक और इसी ग्राम से धनराज सोनी के पुत्र भरत सोनी ने ओबीसी एनसीएल वर्ग से 7773वीं रैंक से देश की सबसे टॉप परीक्षा में अपनी जगह बनाई। शौकीन खां साधारण परिवार से आते हैं लेकिन उनके हौसलें व सपने गगनचुम्बी रहे हैं। परेऊ के सरकारी स्कूल में पढ़कर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के दसवीं बोर्ड परीक्षा में गणित विषय में 100 में से 100 नंबर लाकर सबको चौंका दिया। इनके इंजीनियर बनने की जिद्द पर इनके पिता अकबर खान ने मेहनत मजदूरी करते हुए अपने पुत्र को इंजीनियरिंग के एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी हेतु जोधपुर भेजा लेकिन होनी को कौन टाल सकता है ये 12वीं कक्षा में अध्ययनरत थे कि इनके पिताजी अकबर खान की हृदय गति रुक जाने से मृत्यु हो गई, जिसके चलते परिवार पर दुखो का पहाड़ टूट पड़ा और शौकीन खान के सीनियर करना भी मुश्किल हो गया, लेकिन परिवार में सबसे छोटे भाई होने की वजह से बड़े भाईयो का सहयोग निरंतर मिलता रहा जिससे सीनियर कक्षा उत्तीर्ण की। पौराणिक समय के साक्षर अकबर खान पढ़ाई के प्रति जागरूक थे। उन्होंने कठिन परिश्रम एवं मजदूरी कर अपने पुत्र मिश्रे खां को पढ़ाकर विज्ञान वर्ग में स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल करवाई। सबसे छोटे पुत्र शौकीन खां को इंजीनियर के एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी और मिश्रे खां को शिक्षक भर्ती की तैयारी हेतु शहर में भेजा। अब दो बेटो को एक साथ पढ़ाकर उनका खर्चा देना बहुत भारी पड़ रहा था लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और अपने संतान के उज्ज्वल भविष्य के लिए दिन रात एक किया जिसकी बदौलत से बड़े बेटे मिश्रे खान का राजस्थान प्रशासनिक पुलिस सेवा में कॉन्स्टेबल पद पर चयन हो गया जो वर्तमान में बाड़मेर जिला पुलिस में अपनी सेवाएं दे रहे है और अब सबसे छोटे पुत्र शौकीन खान का भारत की सबसे टॉप परीक्षा आईआईटी जेईई एडवांस ओबीसी एनसीएल वर्ग में 4297वी रैंक में चयन हो गया। जिससे परिवार सहित पुरे ग्राम में ख़ुशी का माहौल रहा और ग्राम पंचायत की ओर से भी सोशल मीडिया के जरिये बधाई पत्र लिखा गया।

इनका कहना है
मुझे अत्यन्त खुशी और गर्व है कि मेरे गांव की दो प्रतिभाओं ने आईआईटी एडवांस क्वालीफाई किया है। मैं इनके उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं। ग्राम पंचायत की ओर से अगले गणतंत्रता दिवस पर जिला स्तर पर सम्मानित करने की सरकार व राजस्व मंत्रीजी से अपील करुगा।
- बांकाराम चौधरी
सरपंच ग्राम पंचायत परेऊ

शिक्षा के अति अल्प साधनो के बावजूद भी क्षेत्र के एक ही ग्राम से दो प्रतिभाओ का आईआईटी जेईई एडवांस में अच्छी रैंक से उत्तीर्ण होना क्षेत्र के लिए गर्व की बात है और दोनों प्रतिभाओ के पढ़ाई के प्रति जिज्ञासा को देखते हुए मैं उनके उज्जवल भविष्य की कामना करता हूँ।
देश की सबसे टॉप परीक्षा में शानदार सफलता प्राप्त करने के लिए हार्दिक शुभकामनाएं। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आप और भी अधिक सफलता प्राप्त करोगे।
- मुकेश शर्मा हीरा की ढ़ाणी
सामाजिक कार्यकर्ता गिड़ा

कोई टिप्पणी नहीं