Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

थार हेरिटेज वीक अब दिसंबर अंत में होगा।

थार हेरिटेज वीक अब दिसंबर अंत में होगा। बाड़मेर। ग्रामीण विकास एवं चेतना संस्थान और बाड़मेर के युवाओं द्वार थार के आर्ट, क्राफ्ट और साहित्य के...

थार हेरिटेज वीक अब दिसंबर अंत में होगा।

बाड़मेर। ग्रामीण विकास एवं चेतना संस्थान और बाड़मेर के युवाओं द्वार थार के आर्ट, क्राफ्ट और साहित्य के प्रमोशन के लिए ‘थार हेरिटेज वीक’ साप्ताहिक कार्यक्रम 5 नवम्बर होना से शुरू होना था. जी. वी. सी. एस. संस्थान सचिव विक्रम सिंह ने बताया कि कार्यक्रम में आमजन और कला प्रेमियों की व्यापक रूचि को देखते हुए, कार्यक्रम को और बड़े स्तर पर आयोजित करने की तैयारी चल रही है। कोरोना काल में कार्यक्रम को व्यापक स्तर पर करने के लिए लम्बी तैयारी की आवश्यकता को देखते हुए कार्यक्रम को आगामी माह में करने का निर्णय हुआ है। अब कार्यक्रम दिसंबर के अंत में होगा। तारीख की जल्द ही घोषणा की जाएगी। यह कार्यक्रम विभिन्न माध्यमों के जरिए लाइव भी होगा जहाँ देश-विदेश के विश्वविद्यालय, संस्थानें और दर्शक वर्चुअली जुड़ेंगे।

गौरतलब है कि थार हेरिटेज वीक चार दिवसीय कार्यक्रम है जिसमें थार के आर्ट, क्राफ्ट और लोक साहित्य के कई इवेंट, वर्कशॉप, प्रतियोगिता एवं पैनल डिस्कशन होंगे। थार की कलाओं में वाणी भजन, हरजस गायन, फड़ वाचन, लंगा- मांगनियार गायन, सिद्ध जसनाथ अग्नि नृत्य, घूमर, गैर आदि के कई सांकृतिक कार्यक्रम होंगे। थार हेरिटेज वीक में थार क्राफ्ट के प्रमोशन के लिए ग्रामीण दस्तकार महिलायें अपने हस्तनिर्मित प्रोडक्ट को प्रदर्शनी और विर्चुअल प्रदर्शनी के माध्यम से प्रदर्शित करेंगी. थार क्राफ्ट प्रमोशन हेतु अंतर्राष्ट्रीय फैशन डिज़ाइनर रूमा देवी के निर्देशन में कई मास्टर डिज़ाइनर अपने प्रोडक्ट फैशन शोज् के जरिए रैंप पर उतारेंगे। साथ ही राजस्थानी लोक साहित्य बढ़ावे के लिए कवि- सम्मलेन सहित राजस्थानी साहित्य के कई कार्यक्रम आयोजित होंगे।

रूमा देवी ने बताया कि कार्यक्रम का उद्देश्य कोरोना से प्रभावित हुए दस्तकार और कलाकारों को जोड़ना उनकी कला एवं क्राफ्ट को देश- दुनिया तक पहुँचाना ताकि ये लोग फिर से आर्थिक रूप से सशक्त हों। इसके साथ ही थार की सांस्कृतिक विरासत से दूर होती युवा पीढी को थार आर्ट, क्राफ्ट और लोक साहित्य से जोड़ना है।

रूरल क्राफ्ट प्रदर्शनी रहेगी यथावत: 
बलदेव नगर स्थित क्राफ्ट डवलपमेंट सेंटर पर चल रही हस्तशिल्प प्रदर्शनी दिपावली तक खुली रहेगी। इसमें बाड़मेर के हस्तशिल्प से बनने वाले उत्पाद प्रदर्शित हो रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं