Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

अखबार की खबर शेयर करने पर जान से मारने की धमकी का आरोप।

अखबार की खबर शेयर करने पर जान से मारने की धमकी का आरोप।  @ दिलीप सैन बाड़मेर/शिव। पुलिस थाना हल्का शिव में मंगलवार को उपखंड के रामदेरीया निवा...

अखबार की खबर शेयर करने पर जान से मारने की धमकी का आरोप। 


@ दिलीप सैन
बाड़मेर/शिव। पुलिस थाना हल्का शिव में मंगलवार को उपखंड के रामदेरीया निवासी जोगाराम ने अपनी लिखित रिपोर्ट में बताया कि राजस्थान पुलिस द्वारा शुक्रवार को पाली जिले में पकड़ी गई खेप को पत्रिका में प्रकाशित करने पर वायरल हुई खबर को मेरे द्वारा वाहटसप पर आगे शैयर करने पर रामदेरीया गांव के ही निवासी पपूराम ने जान से मारने की धमकी दी व परिवार के साथ कई झूठे इल्जाम व बेबुनियाद अभद्र भाषा का प्रयोग कर प्रताड़ित करने लगा अभद्र भाषा व जान से मारने के ऑडियो वाहटसप पर वायरल हो रहे हैं। जिसमें मुलजिम द्वारा सिधे तौर पर कहाँ है में बाड़मेर का सबसे बड़ा कूख्यात तस्कर हुँ। आप कौन हो अफीम डोडा कि खेप पकड़ने पर अखबार को वायरल करने वाले। पीड़ित ने बताया में राजकीय सेवा पशुपालन विभाग भियाड़ में W.M.के पद पर कार्यरत हूँ। व इस तरह से बिना कोई गलत सबूत से एक तस्करी करने वालों की तरफ से जान से मारने की धमकी सूनकर अपने आप में शत्बध हुँ। जिस पर स्थानीय थाना अधिकारी विक्रम सांदू ने उक्त प्रकरण संख्या 0276  भ द.स.1860 आई पी सी कि धारा 504, 506, व 384 का पाया गया जिसमें दर्ज कर अनुसंधान शूरू किया है।


एडवोकेट जितेंद्र चौधरी राजस्थान हाईकोर्ट के अनुसार

1.धारा 504 के तहत 2 साल की कारावास या जुर्माना या दोनों। जमानतीय या गैर जमानतीय :- यह एक जमानतीय अपराध है। संज्ञेय या असंज्ञेय :- यह एक असंज्ञेय अपराध है।

2.आईपीसी की धारा 506 के मुताबिक अगर कोई ऐसा अपराध करने की धमकी देता है, जो मृत्यु या आजीवन कारावास या फिर सात साल तक के कारावास से दंडनीय है, तो भी धमकी देने वाले को सात साल की जेल की सजा हो सकती है, साथ ही ऐसी धमकी देने वाले पर जुर्माना लगाया जाएगा।

3.भारतीय दंड संहिता की धारा 384 के अनुसार, जो कोई ज़बरदस्ती वसूली करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि तीन वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा। तो उसे किसी एक अवधि के लिए कारावास से जिसे तीन वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है, या आर्थिक दण्ड से या दोनों से दण्डित किया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं