Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

बाड़मेर में विजय दौड़ : सैनिकों द्वारा सैनिकों के लिये दौड़ में दौड़े देशभक्त।

बाड़मेर में विजय दौड़ : सैनिकों द्वारा सैनिकों के लिये दौड़ में दौड़े देशभक्त। बाड़मेर। भारत पाकिस्तान युद्ध 1971 की अविस्मरणीय विजय की 50 वी व...

बाड़मेर में विजय दौड़ : सैनिकों द्वारा सैनिकों के लिये दौड़ में दौड़े देशभक्त।



बाड़मेर। भारत पाकिस्तान युद्ध 1971 की अविस्मरणीय विजय की 50 वी वर्षगाँठ के उपलक्ष्य में कोणार्क कोर में अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। इस आयोजन का मुख्य उदेश्य युद्ध के दौरान भारतीय रणबांकुरों की वीरता व बलिदान को युवाओं और लोगों में उजागर करना तथा प्रोत्सहित करते हुए सैनिकों के साथ एक मजबूत सम्बंध स्थापित करना है। नवम्बर 2020 में आयोजित स्वर्णिम विजय वर्ष साईलोथॉन की अदभुत सफलता के बाद एक विजय दौड़ : सैनिकों द्वारा सैनिकों के लिये दौड़ दिनांक 15 जनवरी 2021 को आयोजित किया गया। 15 जनवरी के महत्व को हम सब बहुत अच्छे से जानते है, क्योंकि प्रति वर्ष इसे सेना दिवस के रूप में मनाया जाता है। 15 जनवरी 1949 को फिल्ड मार्शल के एम करियप्पा ने भारतीय सेना के पहले सेनाध्यक्ष के रूप में पदभार सम्भाला था। सेना दिवस उन बहादुर सैनिकों को नमन करने का दिन है जिन्होंने देश व इसके नागरिकों की रक्षा के लिये अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। विजय दौड़ 1971 की गौरवशाली विजयगाथा को यादगार बनाने की एक अनोखी पहल है, जो कोणार्क कोर की सभी सैन्य छावनी में आयोजित की गयी। 



इस उपलक्ष्य में बोगरा ब्रिगेड ने जालिपा सैन्य छावनी में विजय दौड़ का आयोजन किया। इस दौड़ को दो वर्गों में बांटा गया, प्रथम वर्ग 21 किलोमीटर हाफ मैराथन, जिसमें बोगरा ब्रिगेड सैनिकों, वायु सेना स्टेशन उत्तरलाई, सीमा सुरक्षा बल के साथ - साथ बाड़मेर शहर के स्थानीय युवा भी शामिल हुये। द्वितीय वर्ग में महिलाओं व बच्चों के लिये 10 किलोमीटर दौड़ का आयोजन किया गया। सुबह में कड़ाके की सर्दी के बावजूद दोनों वर्गों के प्रतिभागियों ने जोश व उमंग का बेहतरीन उदाहरण प्रस्तुत किया। 



विजय दौड़ के समापन पर कमाण्डर बोगरा ब्रिगेड द्वारा प्रतिभागियों को प्रोत्सहित करने के लिये अनेक पुरस्कार जैसे : प्रमाण पत्र, टी शर्ट तथा मेडल प्रदान किया गया। विजय दौड़ के आयोजन का मुख्य उदेश्य सेना व नागरिकों के बीच एक अटूट सम्बंध स्थापित करना था।

कोई टिप्पणी नहीं