Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

ACB दरवाजा खुलवाने की कोशिश करती रही वो अंदर रिश्वत की काली कमाई को गैस पर जलाता रहा।

ACB दरवाजा खुलवाने की कोशिश करती रही वो अंदर रिश्वत की काली कमाई को गैस पर जलाता रहा। जोधपुर। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने सिरोही जिले के स्व...

ACB दरवाजा खुलवाने की कोशिश करती रही वो अंदर रिश्वत की काली कमाई को गैस पर जलाता रहा।



जोधपुर। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने सिरोही जिले के स्वरूपगंज में बुधवार देर शाम एक लाख रुपए रिश्वत लेते राजस्व निरीक्षक (आरआइ) पर्वतसिंह और फिर पिण्डवाड़ा में तहसीलदार कल्पेश जैन को गिरफ्तार किया। आरआइ को गिरफ्त में लेने के बाद एसीबी तहसीलदार के मकान पहुंची तो उसने खुद को मकान में बंद कर गैस के चूल्हे पर लाखों रुपए की गड्डियां जला दी। पुलिस की मदद से कटर से दरवाजा तोड़कर एसीबी अंदर पहुंची तो लाखों रुपए की अध - जली मुद्रा जब्त की।
ब्यूरो के उप महानिरीक्षक डॉ. विष्णुकांत के अनुसार सिरोही में सरकारी भूमि पर आंवला के पेड़ों से छाल उतारने के ठेके हो रखे हैं। नए वित्तीय वर्ष में पुराने ठेकेदार को ठेका जारी रखने की एवज में ठेकेदार से 5 लाख रुपए मांगे गए। इसके लिए पिण्डवाड़ा तहसीलदार कल्पेश कुमार जैन ने ठेकेदार से पिण्डवाड़ा में वृत्त भांवरी के आरआइ पर्वतसिंह से मिलने के निर्देश दिए।
ठेकेदार ने आरआइ पर्वतसिंह से मुलाकात की तो तहसीलदार के लिए पांच लाख रुपए मांगे। दोनों में एक लाख रुपए रिश्वत तय हुई। ठेकेदार ने एसीबी से शिकायत की। गोपनीय सत्यापन कराए जाने पर आरआइ के तहसीलदार के लिए रिश्वत मांगने की पुष्टि हुई।
ऐसे में रिश्वत राशि लेने के लिए आरआइ ने ठेकेदार को बुधवार देर शाम कार्यालय से कुछ दूर हाइवे पर बुलाया, जहां ठेकेदार ने आरआइ को एक लाख रुपए दिए। इशारा मिलते ही एसीबी पाली के एएसपी नरपतचंद्र व निरीक्षक सीताराम ने दबिश देकर आरआइ पर्वतसिंह को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।
उससे पूछताछ के बाद एसीबी की टीम पिण्डवाड़ा में तहसीलदार कल्पेश कुमार जैन के सरकारी बंगले पहुंची, लेकिन तहसीलदार ने मैन गेट बंद कर दिया। खुद को भी मकान में बंद कर लिया। दरवाजा तोड़कर अंदर घुसी एसीबी ने बाड़मेर जिले में बालोतरा निवासी तहसीलदार कल्पेश जैन को भी गिरफ्तार किया।

एसीबी अधिकारियों ने समझाइश कर दरवाजा खोलने का आग्रह किया, लेकिन जैन ने दरवाजा नहीं खोला। एसीबी के आग्रह पर स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची। करीब पौने घंटे प्रयास के बाद पुलिस ने कटर से दरवाजा तुड़वाया। पुलिस व एसीबी अंदर पहुंची तो तहसीलदार कल्पेश जैन रसोई में गैस के चुल्हे पर नोटों की गड्डियां जलाते मिला। लाखों रुपए की अधजली मुद्रा मौके पर मिली। जिन्हें जब्त किया गया। एसीबी को अंदेशा है कि 15-20 लाख रुपए जलाए गए हैं। यदि कटर से दरवाजा तोड़कर अंदर नहीं पहुंचते तो सारे रुपए जला दिए जाते। एसीबी का कहना है कि आरआइ पर्वतसिंह पहले सिरोही में पदस्थापित रहा था। तहसीलदार कल्पेश जैन के मातहत आरआइ कार्यरत था। वृत्ता भांवरी स्थानान्तरण होने के बाद भी वह तहसीलदार के लिए रिश्वत लेता रहा।

कोई टिप्पणी नहीं